Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

चारा घोटालाः 1996 से लेकर अब तक की पूरी कहानी, जानिए लालू के घोटाले ने देश को लगाया कितने करोड़ों का चूना

देश की तमाम राजनीतिक पार्टियों और नेताओं की नजर आज चारा घोटाले के फैसले पर रहने वाली है। आज रांची में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट चारा घोटाले में लालू यादव सहित 22 लोगों की संलिप्तता पर फैसला सुनाएगी।

चारा घोटालाः 1996 से लेकर अब तक की पूरी कहानी, जानिए लालू के घोटाले ने देश को लगाया कितने करोड़ों का चूना

देश की तमाम राजनीतिक पार्टियों और नेताओं की नजर आज चारा घोटाले के फैसले पर रहने वाली है। आज रांची में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट चारा घोटाले में लालू यादव सहित 22 लोगों की संलिप्तता पर फैसला सुनाएगी।

लेकिन क्या आप जानते है चारा घोटाला है क्या? कितने लोगों इस घोटाले में शामिल थे? नहीं, तो हम आपको बताते कैसे और कब हुआ चारा घोटाला।
क्या है चारा घोटाला?
सरकारी खजाने से अवैध तरीके से करीब 900 करोड़ रुपये की निकासी की 'कहानी' को 'चारा घाटोला' नाम दिया गया। पशुओं के चारे, दवाईयां और पशुपालन के लिए रखे धन की बंदरबांट कई राजनेता, बड़े नौकरशाह और फर्जी कंपनियों के आपूर्तिकर्ताओं ने मिलकर सुनियोजित तरीके से की थी। 900 करोड़ का चारा घोटाला साल 1996 में सामने आया था।
ये हैं मुख्य आरोपी
इस मुकदमे में लालू, पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा, बिहार के पूर्व मंत्री विद्यासागर निषाद, पीएसी के तत्कालीन अध्यक्ष जगदीश शर्मा और ध्रुव भगत, आर के राणा, तीन आईएएस अधिकारी फूलचंद सिंह, बेक जूलियस एवं महेश प्रसाद, कोषागार के अधिकारी एस के भट्टाचार्य, पशु चिकित्सक डा. के के प्रसाद और शेष अन्य चारा आपूर्तिकर्ता आरोपी थे। सभी 38 आरोपियों में से जहां 11 की मौत हो चुकी है, वहीं तीन सीबीआई के गवाह बन गये जबकि दो ने अपना गुनाह कुबूल कर लिया था, जिसके बाद उन्हें 2006-07 में ही सजा सुना दी गयी थी। इस तरह इस मामले में आज कोर्ट कुल 22 आरोपियों के खिलाफ ही अपना फैसला सुनायेगी।
चारे घोटाले का घटनाक्रम
  • 10 मई 1997 को सीबीआई ने राज्यपाल से लालू के खिलाफ कार्रवाई की मांग की थी।
  • 23 जून 1997 को लालू और 55 अन्य के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई।
  • 29 जुलाई 1997 को लालू यादव को गिरफ्तार कर लिया गया था।
  • 12 दिसंबर 1997 को लालू यादव रिहा हो गए।
  • लेकिन 28 अक्टूबर 1998 को लालू यादव को फिर से गिरफ्तार कर लिया गया।
  • मार्च 2012 को सीबीआई ने पटना कोर्ट में लालू यादव, जगन्नाथ मिश्रा सहित 32 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई।
  • 2013 में चारा घोटाले से जुड़े एक मामले चाईंबासा केस में लालू को सजा मिली और अब वह जमानत पर बाहर हैं।
Next Story
Top