Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

जेडीयू मणिपुर, राजस्थान, मध्य प्रदेश समेत छत्तीसगढ़ विधान सभा चुनाव में बीजेपी के खिलाफ उतारेगी अपना उम्मीदवार

केसी त्यागी ने साफ किया कि जेडीयू आगामी विधानसभा चुनावों में अपनी पार्टी के उम्मीदवार मैदान में उतारेगी। त्यागी ने बताया कि जेडीयू मणीपुर, राज्स्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ में होने वाले विधानसभा चुनावों में अपनी पार्टी के उम्मीदवार उतारेगी।

जेडीयू मणिपुर, राजस्थान, मध्य प्रदेश समेत छत्तीसगढ़ विधान सभा चुनाव में बीजेपी के खिलाफ उतारेगी अपना उम्मीदवार

केसी त्यागी ने साफ किया कि जेडीयू आगामी विधानसभा चुनावों में अपनी पार्टी के उम्मीदवार मैदान में ऊतारे गी। त्यागी ने बताया कि जेडीयू मनीपुर, राज्स्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ में होने वाले विधानसभा चुनावों में अपनी पार्टी के उम्मीदवार उतारेगी।

त्यागी ने उन सभी मीडिया रिपोर्टस् को खारिज करते हुए कहा कि जिसमें यह दावा किया जा रहा था कि जेडीयू आगामी विधानसभा चुनावों में बीजेपी की मदद करेगी। त्यागी ने विधानसभा चुनाव में बीजेपी के साथ अपने गठजोड़ को लेकर सफाई दी कि ना तो हम बीजेपी को स्पोर्ट दे रहे है और ना ही हम उसका विरोध कर रहे है।

त्यागी ने साफ किया कि हम ना ही बीजेपी की किसी भी चुनाव में मदद कर रहे है। आपको बता दे कि जेडीयू के इस बयान से निश्चित ही बीजेपी की मुश्किले बढ़ने वाली है। गौरतलब है कि मनीपुर, राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ राज्यों में इसी साल और अगले साल की शुरुआत में विधानसभा चुनाव होने वाले है।

ये भी पढ़ेःपूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम के घर हुई चोरी, नकदी और करोड़ों के जवाहरात लेकर फरार हुए चोर

जेडीयू कार्यकारिणी की बैठक के बाद मीडिया से बात करते हुए पार्टी के वरिष्ठ नेता केसी त्यागी ने भ्रष्टाचार के मुद्दे को लेकर कांग्रेस पर तंज कसा। केसी त्यागी ने कहा कि जबतक कांग्रेस आरजेडी जैसी भ्रष्ट पार्टी के साथ अपने गठजोड़ को लेकर कोई ठोस फैसला नहीं लेती है तब तक हम नहीं जानते है कि कैसे उनसे बात की जाए।

बता दे कि बिहार में मौजूदा बीजेपी-जेडीयू सरकार इससे पहले आरजेडी के साथ ही गठबंधन कर मजबूती से अपनी सरकार चला रही थी।

जेडीयू राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक खत्म होने के बाद मीडिया से बात करते हुए पार्टी के नेताओं ने अलग-अलग मुद्दों पर बयान जारी किया है। जेडीयू नेता ने बताया कि 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव को देखते हुए पार्टी के पदाधिकारियों ने यह तय किया है कि सभी फैसले लेने की शक्ति राष्ट्रीय अध्यक्ष को दे दी जाए।

इसके साथ ही यही भी तय हुआ है कि हम इलेक्शन में किस तरह से काम करेंगे और हमारी भविष्य को लेकर क्या रणनीती होनी चाहिए।

Next Story
Top