Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बिहार : मुजफ्फरपुर SKMCH अस्पताल के पीछे मिले कई मानव कंकाल, जिलाधिकारी ने अस्पताल प्रशासन से मांगी रिपोर्ट

बिहार के मुजफ्फरपुर स्थित श्री कृष्ण मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल के पीछे मानव कंकाल मिले हैं। एमएस एसकेएमसीएच एसके शाही का कहना है कि पोस्टमॉर्टम विभाग प्राचार्य के अधीन है, लेकिन इसे मानवीय दृष्टिकोण के साथ किया जाना चाहिए।

बिहार : मुजफ्फरपुर SKMCH अस्पताल के पीछे मिले कई मानव कंकाल, जिलाधिकारी ने अस्पताल प्रशासन से मांगी रिपोर्ट
X

बिहार के मुजफ्फरपुर (Bihar Muzaffarpur) स्थित श्री कृष्ण मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (Sri Krishna Medical College & Hospital) के पीछे मानव कंकाल (Human Skeletal) मिले हैं। एसकेएमसीएच (SKMCH) के एमएस एस.के. शाही का कहना है कि शवों का अंतिम संस्कार पोस्टमॉर्टम विभाग प्राचार्य (Postmortem Department) के अधीन है, लेकिन इसे मानवीय दृष्टिकोण के साथ किया जाना चाहिए। उन्होंने आगे कहा कि मैं प्रधानाचार्य से बात करूंगा और उनसे एक जांच समिति का गठन करने के लिए कहूंगा।

मुजफ्फरपुर के डीएम आलोक रंजन घोष ने श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (SKMCH) के पीछे मानव कंकाल के अवशेष मिलने के संबंध में प्रशासन और संबंधित विभागों से रिपोर्ट मांगी है, जहां एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) के कारण 128 लोगों की मौत हो गई है।

मुजफ्फरपुर कृष्ण मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (Sri Krishna Medical College & Hospital) के पीछे मानव कंकाल के अवशेष मिलने के बाद राज्य सरकार की एक जांच दल उस स्थान पर पहुंची। अहियापुर के एसएचओ सोना प्रसाद सिंह ने कहा कि जांच के बाद पता चला है कि लावारिस शवों को यहाँ जलाया जाता है।


बिहार कंकाल मामले में जांच टीम श्रीकृष्ण मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल पहुँच गई है। एसकेएमसीएच के डॉ. विपिन कुमार ने कहा कि यहं से कंकाल के अवशेष मिले हैं। प्रिंसिपल द्वारा इस मामले में विस्तृत जानकारी दी जाएगी।



बता दें कि इसी अस्पताल में एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (Acute Encephalitis Syndrome) से करीब 128 बच्चों की मौत हो चुकी है। मानव कंकाल को मृत बच्चों से जोड़कर भी देखा जा रहा है। मानव कंकाल देखे होने के बाद अस्पताल प्रशासन के हाथ-पांव फूल गए हैं साथ ही उन पर सवाल यह उठ रहा है कि यहां मानव कंकाल कैसे आया, क्या अस्पताल प्रशासन की मानवीयता भी मर गई थी, उनका अंतिम संस्कार क्यों नहीं किया गया।

बता दें कि पहले भी इस अस्पताल ऐसी शिकायतें आ चुकी हैं। साल 2016 में अज्ञात लोगों का बिना अंतिम संस्कार किए शव ऐसे ही फेंक दिया गया था। बाद में मीडिया स्टिंग के दौरान इसका खुलासा हुआ। मालूम हो कि अस्पताल प्रशासन द्वारा अस्पताल में मृत हुए किसी भी शव का अंतिम संस्कार किया जाता है। इसके साथ ही संस्कार के दौरान एक पुलिसकर्मी उपस्थित होता है। इसके बावजूद भी शव को इस तरह से फेंका गया, जिसकी जांच होनी जरूरी है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story