Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

''नोटबंदी'' के समय में अगर आपने भी किया है घालमेल तो ध्यान से पढ़ लें ये खबर

प्रवर्तन निदेशालय ने एक बड़ी कार्रवाई की है। ईडी ने बिहार के गया जिले के जीबी रोड स्थित बैंक ऑफ इंडिया के एक बैंक अकाउंट और कुछ अचल संपत्तियों को अटैच किया है। बताया जा रहा है कि इस बैंक अकाउंट में नोटबंदी के समय भारी मात्रा में कैश जमा किया गया था।

प्रवर्तन निदेशालय ने एक बड़ी कार्रवाई की है। ईडी ने बिहार के गया जिले के जीबी रोड स्थित बैंक ऑफ इंडिया के एक बैंक अकाउंट और कुछ अचल संपत्तियों को अटैच किया है। ईडी ने दिल्ली, मुंबई, जयपुर, कानपुर, मिराज समेत आठ शहरों में अलग-अलग कंपनियों की 8.20 करोड़ की संपत्ति अटैच की है।
इन कंपनियों के माध्यम से पुराने नोटों को खपाने के साथ-साथ काले धन को सफेद किया गया था। दैनिक भास्कर की खबर के अनुसार गया के बैंक ऑफ इंडिया, जीबी रोड शाखा से नोटबंदी के दौरान पुराने नोटों को अलग-अलग खातों में भेजा गया था। देश के विभिन्न शहरों में रकम डालने के बाद फिर उसे निकाला गया।
जिन कंपनियों की संपत्ति जब्त की गई है, उनमें नमोकर ट्रेडर्स, मिराज, श्री यशस्वी कैशचेव प्रोसेसर्स, पलासा, विजय सोलवेक्स अलवर, माई कार प्राइवेट लिमिटेड कानपुर, रिसोर्स ई वेस्ट सोल्यूशन प्राइवेट लिमिटेड दिल्ली, पासर लुबरिकेंट्स दिल्ली,वीएस हेल्थकेयर मुबंई और सैनजॉग स्टील्स प्राइवेट लिमिटेड जयपुर शामिल हैं।
इस मामले में संपत्ति जब्ती की यह चौथी कार्रवाई है। इससे पहले 6.38 करोड़ की संपत्तियां जब्त की जा चुकी हैं। कुल मिलाकर इस मामले में 14.50 करोड़ की संपत्ति जब्त की गई है हुई है। प्रवर्तन निदेशालय ने यह कार्रवाई प्रिवेंशन ऑफ मनी लांड्रिंग एकट के तहत की है।
बताया जा रहा है कि ईडी ने इस खाते में हाई ट्रांजैक्शन को देख कर हिसाब मांगा जिसका हिसाब खाता धारक नहीं दे पाया था।
Next Story
Top