Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

जानिए डिप्टी CM सुशील मोदी के अब तक का सियासी सफर

सुशील कुमार मोदी बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भी रह चुके हैं।

जानिए डिप्टी CM सुशील मोदी के अब तक का सियासी सफर
X

बिहार सरकार में तीसरी बार उपमुख्यमंत्री के पद पर काबिज होने वाले सुशील कुमार मोदी बिहार बीजेपी के दिग्गज नेता हैं। वे इससे पहले पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष के दायित्व संभाल चुके हैं।

इसे भी पढ़ेंः- JDU-BJP गठबंधन पर पहली बार बोले लालू, किया मोदी और शाह पर जोरदार हमला

बुधवार की शाम महागठबंधन के नेता और बिहार के सीएम नीतीश कुमार ने राजभवन जाकर राज्यपाल केशरीनाथ त्रिपाठी को त्यागपत्र सौंप दिया। नीतीश के इस्तीफा देते ही बीजेपी ने जेडीयू को समर्थन की घोषणा की और मोदी तीसरी बार डिप्टी सीएम के पद पर आसीन हुए।

इसे भी पढ़ेंः- राहुल ने कहा नीतीश ने दिया धोखा, नीतीश बोले- वक्त आने पर दूंगा जवाब

डिप्टी सीएम सुशील मोदी का जन्म बिहार की राजधानी पटना में 5 जनवरी 1952 को हुआ। उनके पिता का नाम मोती लाल मोदी और माता का नाम रत्ना देवी था।

छात्र जीवन से की राजनीति की शुरुआत

डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने छात्र जीवन से ही अपनी राजनीतिक सफर की शुरुआत कर दी। वे 1971 में पटना विश्वविद्यालय छात्र संघ के 5 सदस्यीय कैबिनेट के सदस्य बने। इसके बाद 1973-77 में डिप्टी सीएम पटना विश्वविद्यालय में छात्र संघ के महामंत्री बने, उसी वर्ष बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव अध्यक्ष बने और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद संयुक्त सचिव चुने गए।

इसे भी पढ़ेंः- RJD राज्यपाल के सामने पेश करेगी सरकार बनाने का दावा, लालू ने कहा- दोनों की बीच फिक्स था मैंच

आरएसएस से रहा नाता

भारत-चीन युद्ध, 1962 के दौरान सुशील कुमार मोदी काफी सक्रिय रहे थे। आम लोगों को शारीरिक फिटनेस का प्रशिक्षण देने के लिए सिविल डिफेंस के कमांडेंट नियुक्त किए गए थे। उसी साल मोदी आरएसएस की सदस्यता ले ली। मैट्रिक की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्होंने आरएसएस के विस्तारक की भूमिका में दानपुर व खगौल में काम किया। बाद उन्हें पटना शहर के संध्या शाखा का हेड बना दिया गया। बता दें कि डिप्टी सीएम ने अपने परिवार के विरुद्ध जाकर समाजसेवा का रास्ता चुना।

इसे भी पढ़ेंः- नीतीश के आवास पर JDU विधायकों की बैठक खत्म, राज्यपाल से मिलने पहुंचे नीतीश

जेपी आंदोलन और आपातकाल में निभाई सक्रिय भूमिका

आपको बता दें कि छात्र आंदोलन के दौरान सुशील मोदी 1972 में पहली बार 5 दिन के लिए जेल गए थे। उन्हें जेपी आंदोलन और आपातकाल के दौरान 1974 में पांच बार गिरफ्तार किया गया था। इस दौरान उन्हें 19 महीनों तक जेल में रहना पड़ा था।

इसे भी पढ़ेंः- नीतीश के आवास पर JDU विधायकों की बैठक खत्म, CM नीतीश ने दिया इस्तीफा

भारतीय जनता पार्टी में दायित्व

डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी को पहली बार 1995 में बीजेपी विधानमंडल का मुख्य सचेतक बनाया गया था और उसी वर्ष उनके काम को देखते हुए पार्टी ने उन्हें राष्ट्री मंत्री भी बनाया था। 2004 में पार्टी की केंद्रीय नेतृत्व ने उनके काम को देखते हुए उन्हें राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया और अगले साल 2005 में उन्हें बीजेपी का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया। इसी वर्ष नीतीश कुमार के नेतृत्व में बिहार में सरकार बनी और इस सरकार में मोदी बीजेपी की ओर से डिप्टी सीएम बने।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story