Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Live : मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से 129 बच्चों की मौत, ड्यूटी में लापरवाही बरतने के आरोप में सीनियर डॉक्टर सस्पेंड

बिहार के मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार या इंसेफेलाइटिसके (एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम ) जैसी बीमारी से मरने वाले बच्चों की संख्या लगातार बढ़ती ही जा रही है। अभी भी मुजफ्फरपुर के कई अस्पतालों में नए बच्चे भर्ती हुए हैं। तो वहीं 400 से ज्यादा बच्ची हॉस्पिटल में भर्ती हैं।

Live : मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार से अब तक 129 बच्चों ने तोड़ा दम, सीएम योगी ने किया दौरा, ये हैं लक्ष्णChamki Fever Bihar

बिहार के मुजफ्फरपुर में चमकी बुखार या इंसेफेलाइटिसके (एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम ) जैसी बीमारी से मरने वाले बच्चों की संख्या लगातार बढ़ती ही जा रही है। अभी भी मुजफ्फरपुर के कई अस्पतालों में नए बच्चे भर्ती हुए हैं। तो वहीं 400 से ज्यादा बच्ची हॉस्पिटल में भर्ती हैं।

लाइव अपडेट (live Update)

मुजफ्फरपुर के एसकेएमसीएच के सीनियर रेजिडेंट डॉक्टर डॉ. भीमसेन कुमार को ड्यूटी में लापरवाही बरतने के आरोप में निलंबित कर दिया गया है। स्वास्थ्य विभाग ने 19 जून को स्पेशल तैनाती की थी।

केजरीवाल अस्पताल में 20 मौतें

मुजफ्फरपुर के एसकेएमसीएच अस्पताल में 109 की मौत

बिहार के मुजफ्फरपुर में एक्यूट इंसेफेलाइटिस सिंड्रोम (एईएस) के कारण मरने वालों की संख्या बढ़कर 129 हो गई

वहीं दूसरी तरफ पूर्वी उत्तर प्रदेश में जापानी इंसेफेलाइटिस के एक्टिव होने से पहले वहां की स्थितियों को जायजा लेने के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पहुंचे। ये वायरस मच्छर के काटने से फैलता है। यहां चमकी बुखार से ज्यादा जेई वायरस एक्टिव रहता है जिसको लेकर प्रशासन पहले ही सतर्क हो गया है। सीएम योगी ने अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की है और तैयार रहने के लिए कहा है।

ये हैं चमकी बुखार या इंसेफेलाइटिसके लक्ष्ण

- बच्चे के शरीर में कमजोरी आना

- बच्चे को देखने, बुलने और सुनने में दिक्कत आना

- वक्त वक्त पर बेहोश होना

- दिमाग का संतुलन खोना

- बच्चे के शरीर में अचानक जकड़न अकड़न आ जाना

- अचानक पैरालाइज होना

- कभी भी भ्रम उत्पन्न हो जाना

- चमकी बुखार की शुरुआत में उल्टी या जी मिचल जाना

- बुखार की शुरुआत में खोपड़ी के नरम स्थानों में उभार आ जाना

Next Story
Top