Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

साल 2022 तक पटना में भी दौड़ेगी मेट्रो, नीतीश कैबिनेट ने लगाई मुहर

साल 2022 तक पटना में भी मेट्रो दौड़ने लगेगी। दरअसल मंगलवार को बिहार की नीतीश कैबिनेट ने नगर विकास विभाग के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। पटना मेट्रो का निर्माण दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन यानी डीएमआरसी कराएगा। तीन साल बाद लोग राजेंद्र नगर टर्मिनल से आईएसबीटी के बीच मेट्रो के सफर का आनंद ले सकेंगे।

साल 2022 तक पटना में भी दौड़ेगी मेट्रो, नीतीश कैबिनेट ने लगाई मुहरBy 2022 Metro will run in Patna as well Bihar Cabinet Approved

साल 2022 तक पटना में भी मेट्रो दौड़ने लगेगी। दरअसल मंगलवार को बिहार की नीतीश कैबिनेट ने नगर विकास विभाग के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। पटना मेट्रो का निर्माण दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन यानी डीएमआरसी कराएगा। तीन साल बाद लोग राजेंद्र नगर टर्मिनल से आईएसबीटी के बीच मेट्रो के सफर का आनंद ले सकेंगे।

खबरों के मुताबिक अगले सप्ताह दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन और पटना मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के बीच समझौते पर हस्ताक्षर हो सकते हैं। कैबिनेट बैठक के बाद प्रधान सचिव संजय कुमार ने कहा कि साल के अंत तक टेंडर की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी और मेट्रो का निर्माण शुरु हो जाएगा। इस काम के लिए डीएमआरसी को कंसल्टेंसी फीस के रूप में 482.87 करोड़ रूपए दिए जाएंगे


जानकारी के मुताबिक पटना मेट्रो के लिए दो कॉरिडोर का निर्माण किया जाएगा। पहला कॉरिडोर (ईस्ट-वेस्ट) दानापुर से मीठापुर तक बनेगा। इसकी कुल लंबाई 16.94 किमी हो गी। इस कॉरिडोर में दानापुर, सगुना मोड, आरपीएस मोड, पाटलिपुत्र, रुकुनपुरा, राजबाजर, गोल्फ क्लब, पटना जू, विकास भवन, विद्युत भवन, पटना जंक्शन और मीठापुर स्टेशन होंगे। इन बारह स्टेशनों में से 8 अंडरग्राउंड होंगे जबकि 3 एलीवेटेड और एक सतह पर होगा।

जबकि दूसरे कॉरिडोर (नॉर्थ-साउथ) का निर्माण पटना जंक्शन से आईएसबीटी तक किया जाएगा। इसकी कुल लंबाई 14.45 किलोमीटर होगी। इस कॉरिडोर में पटना जंक्शन, आकाशवाणी, गांधी मैदान, पीएमसीएच, पटना विश्वविद्यालय, प्रेचंद्र रंगशाला, राजेंद्र नगर, एनएमसीएच, कुम्हरार, गांधी सेतु, जीरो माइल, आईएसबीटी का निर्माण किया जाएगा। इन 12 स्टेशनों में से तीन अंडरग्राउंड होंगे जबकि नौ का निर्माण एलीवेटेड होगा।








ये दोनों कॉरिडोर शहर के बीचों-बीच घनी आबादी वाले इलाकों से गुजरेंगे। अनुमान के मुताबिक 2024 में करीब नौ लाख लोग रोज मेट्रो से सफर करेंगे। पटना की 26.23 लाख आबादी को फायदा होगा।

इसमें कुल लागत 13411.24 करोड़ रुपये की लागत आएगी। लागत का साठ प्रतिशत जापानी कंपनी जायका से 0.2 प्रतिशत ब्याज पर लोन लिया जाएगा जबकि राज्य और केंद्र सरकार कुल लागत का 20-20 फीसदी राशि वहन करेंगी।

Next Story
Top