Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बिहार पुलिस का शर्मनाक चेहरा, केस दर्ज कराने आई महिला से थानेदार ने की गंदी-गंदी डिमांड, ऑडियो वायरल

बिहार मधेपुरा जिले से पुलिस का शर्मनाक चेहरा सामने आया है। यहां एक महिला ने चौसा के थानाध्यक्ष धनेश्वर मंडल पर गंभीर आरोप लगाए हैं। महिला का कहना है कि जब वह केस दर्ज कराने के लिए पहुंची तो थानाध्यक्ष ने उससे कुछ और ही डिमांड करनी शुरू कर दी। महिला को कई बार अंधेरे में चलने के लिए कहा। इसका एक ऑडियो भी वायरल हो रहा है।

बिहार पुलिस का शर्मनाक चेहरा, केस दर्ज कराने आई महिला से की गंदी-गंदी डिमांड, ऑडियो वायरलBihar: Chauha SHO Dhaneshwar Mandal Dirty Demand to Lady Arrived to Lodged Fir Against Husband

बिहार मधेपुरा जिले से पुलिस का शर्मनाक चेहरा सामने आया है। यहां एक महिला ने चौसा के थानाध्यक्ष धनेश्वर मंडल पर गंभीर आरोप लगाए हैं। महिला का कहना है कि जब वह केस दर्ज कराने के लिए पहुंची तो थानाध्यक्ष ने उससे कुछ और ही डिमांड करनी शुरू कर दी। महिला को कई बार अंधेरे में चलने के लिए कहा। इसका एक ऑडियो भी वायरल हो रहा है।

पीड़िता ने एक दैनिक अखबार को थानाध्यक्ष धनेश्वर मंडल और उसके बीच हुई दो दर्जन से अधिक बार के मोबाइल कॉल रिकॉर्ड उपलब्ध कराया है। साथ ही उदाकिशुनगंज कोर्ट के नोटरी पब्लिक से शपथ-पत्र बनवाकर दावा किया है कि कॉल रिकॉर्ड्स में कोई छेड़छाड़ नहीं की गई है। ऐसा कुछ होता है तो इसका जिम्मेवार वह खुद होंगी।



खबरों के मुताबिक महिला ने एक युवक से अंतरजातीय विवाह किया था। शादी के दो साल बाद वह उसे छोड़कर भाग गया। इसको लेकर महिला पति के खिलाफ केस दर्ज करवाना चाहती थी और थानाध्यक्ष धनेश्वर मंडल के पास अर्जी लेकर पहुंची थी।

महिला के मुताबिक अपने पति पर कानूनी कार्रवाई कराने की इच्छा में वह थानाध्यक्ष धनेश्वर मंडल की गंदी बातें अबतक सुनती रहीं लेकिन थानेदार उसका काम अब तक नहीं किया है। कॉल रिकॉर्ड में इतनी गंदी-गंदी बातें हैं जिन्हें सहजता से लिखा या सुना नहीं जा सकता है।

थानाध्यक्ष धनेश्वर मंडल कभी पीड़िता को अंधेर में चार बजे सुबह तो कभी शाम को थाना पर बुलाते थे। यही नहीं महिला को कुछ दिनों तक अपने कमरे में रहने का भी ऑफर दिया था। महिला जब मजाक में कहती है कि ऐसा करने से थाने में बवाल हो जाएगा तो थानेदार कहते हैं कुछ नहीं होगा।

खबरों के मुताबिक इस बात की खबर लगते ही पीड़िता अब छुप-छुपकर रह रही है। इस बात को लेकर भी इलाके में चर्चा है कि एक चौकीदार और स्थानीय नेता भी महिला की तलाश कर रहे थे।



वहीं इस मामले पर थानेदार धनेश्वर मंडल का कहना है कि ये महिला फ्रॉड है। तत्कालीन थानाध्यक्ष राजकिशोर मंडल के समय में ही इसने आवेदन दिया था। मेरे आने का बाद भी वह महिला थाना आती थी। मैंने उससे आवेदन देने को कहा, लेकिन उसने नहीं दिया।

इस मामले पर मधेपुरा के एसपी संजय कुमार कहते हैं कि अभी तक इसकी पूरी जानकारी नहीं है। सभी ऑडियो को सुनने के बाद जांच कराई जाएगी। दोषी पाए जाने पर उचित कार्रवाई की जाएगी।

Next Story
Top