Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Lok Sabha Elections 2019 : बिहार की पांच सीटों पर मतदान संपन्न, शाम 6 बजे तक 57.86 फीसदी मतदान दर्ज, मुजफ्फरपुर में सबसे ज्यादा मतदान

Bihar Lok sabha Elections 2019 : लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) के पांचवे चरण का मतदान आज सुबह 7 बजे से शुरू होकर शाम 6 बजे तक संपन्न हो गया। बिहार की पांच लोकसभा सीटों के लिए 6 महिला उम्‍मीदवार सहित 82 उम्‍मीदवारों के भाग्य पर लोगों ने ईवीएम का बटन दबाकर मतदान किया।

Lok Sabha Elections 2019 : बिहार की पांच सीटों पर मतदान संपन्न, शाम 6 बजे तक 57.86 फीसदी मतदान दर्ज, मुजफ्फरपुर में सबसे ज्यादा मतदान

Bihar Lok sabha Elections 2019 : लोकसभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Elections 2019) के पांचवे चरण का मतदान आज सुबह 7 बजे से शुरू होकर शाम 6 बजे तक संपन्न हो गया। बिहार की पांच लोकसभा सीटों के लिए 6 महिला उम्‍मीदवार सहित 82 उम्‍मीदवारों के भाग्य पर लोगों ने ईवीएम का बटन दबाकर मतदान किया। मतदानकर्मी सभी ईवीएम मशीनों को स्ट्रॉंग रुम बंद कर दिए। इस दौरान पांच संसदीय निर्वाचन क्षेत्रों सीतामढ़ी, मधुबनी, मुजफ्फरपुर, सारण तथा हाजीपुर में वोट डाले गए। बिहार के छपरा में मतदान केंद्र संख्या 131 पर एक शख्स द्वारा ईवीएम तोड़े जाने मतदान थोड़ी देर के लिए प्रभावित हुआ, यहां छोड़कर राज्य में सभी सीटों पर शान्तिपूर्वक मतदान सम्पन्न हुआ। पांचों सीटों के सभी उम्मीदवारों के जीत-हार का फैसला 23 मई को होगा।

Bihar Lok sabha Elections 2019 5th Phase Voting :

- लोकसभा चुनाव 2019 के पांचवें चरण के तहत बिहार की पांच लोकसभा सीटों पर शाम 6 बजे तक राज्य में कुल 57.86 फीसदी वोट पड़े। सीतामढ़ी में 57.00, मधुबनी में 51.75, मुजफ्फरपुर में 61.27, सारण में 57.70 और हाजीपुर में 57.79 फीसदी मतदान हुआ।

- शाम 5 बजे तक बिहार में कुल 52.08 फीसदी वोट पड़े। सीतामढ़ी में 44.38, मधुबनी में 42.65, मुजफ्फरपुर में 44.71, सारण में 45.81 और हाजीपुर में 43.01 फीसदी मतदान हुआ।

- दरभंगा के मतदान केंद्र संख्या 133 उमगांव दीन दयाल उच्च विद्यालय (सखी मतदान केंद्र) पर प्रत्याशी शकील अहमद ने किया मतदान।

- हाजीपुर लोकसभा क्षेत्र में हसनपुर ओस्ती बूथ संख्या 198 उर्दू स्कूल पर ईवीएम में खराबी से मतदान प्रभावित। मतदाताओं की लगी लंबी कतार। लोगों ने दी कंट्रोल रूम को सूचना।

- दोपहर 3 बजे तक बिहार में कुल 44.08 फीसदी वोट पड़े। सीतामढ़ी में 44.38, मधुबनी में 42.65, मुजफ्फरपुर में 44.71, सारण में 45.81 और हाजीपुर में 43.01 फीसदी मतदान हुआ।

- छपरा लोकसभा सीट के अंतर्गत आने वाले सारण के दरियापुर बूथ संख्या 267 व 268 पर दो गुटों के बीच झड़प हो गया। यहां पथराव कर वोटरों को पोलिंग बूथ पर जाने से रोकने की कोशिश की गई है। इस लोकसभा क्षेत्र में सुबह ईवीएम के साथ तोड़फोड़ का मामला सामने आया था, जिसके बाद पुलिस ने तोड़फोड़ करने वाले शख्स को हिरासत में ले लिया।

- सीतामढ़ी के सोनबरसा के मध्य विद्यालय बंदरझुला स्थित मतदान केंद्र संख्या 71 पर आरजेडी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ राम चन्द्र पूर्वे और उनकी पत्नी डॉ रंजना पूर्वे ने किया मतदान।

- दोपहर 2 बजे तक बिहार में कुल 32.27 फीसदी वोट पड़े। सीतामढ़ी में 32.25, मधुबनी में 29.34, मुजफ्फरपुर में 33.86, सारण में 36.03और हाजीपुर में 30.22 फीसदी मतदान हुआ।

- दोपहर 1 बजे तक बिहार में कुल 24.49 फीसदी वोट पड़े। सीतामढ़ी में 25, मधुबनी में 25.85, मुजफ्फरपुर में 26.28, सारण में 29 और हाजीपुर में 25 फीसदी मतदान हुआ।

- सीतामढ़ी के बाजपट्टी विधानसभा क्षेत्र के मध्य विद्यालय पिपराढी हिंदी स्थित बूथ संख्या 73 पर दोपहर 12:00 बजे से 12:35 तक ईवीएम में गड़बड़ी से बाधित रहा चुनाव कार्य।

- सारण लोकसभा सीट के अमनौर विधानसभा के मकेर प्रखंड के बूथ संख्या 160, 161 उच्च मध्य विद्यालय दादनपुर में मतदाताओं का नाम वोटर लिस्ट में नहीं होने पर मतदाताओं ने बूथ पर हंगामा कर दिया। मौके पर सूचना पाकर बीडीओ पहुंचे।

- सीतामढ़ी लोकसभा क्षेत्र की लहुरिया पंचायत के लपटाहा में बूथ संख्या 175 व 173 में एक पक्ष के लोगों ने मतदान रोकने की कोशिश की। गांव मे तनाव का माहौल है, जिलाधिकारी के आदेश पर अतिरिक्त पुलिस बल गांव में तैनात। फिलहाल स्थिति सामान्य है।

- मुजफ्फरपुर के मुशहरी के मतदाताओं में जबरदस्त उत्साह देखने को मिल रहा है। यहां बुधनगरा राधा मध्य विद्यालय बूथ पर नाव से बूढ़ी गंडक नदी पार करके मतदाता मतदान करने पहुंचे।

- सुबह 11 बजे तक बिहार में कुल 20.74 फीसदी हुआ मतदान। सीतामढ़ी में 20.91, मधुबनी में 18.17, मुजफ्फरपुर में 22.95, सारण में 20.89 और हाजीपुर में 20.88 फीसदी पड़े वोट।

- सीतामढ़ी लोकसभा सीट के खड़का मतदान केंद्र संख्या 241 पर मतदान करने पहुंचे श्याम नंदन मंडल को चुनाव कर्मियों ने मतदान करने से रोक दिया। मतदान कर्मियों ने बताया कि मतदाता सूची में आप मृत हैं, इसलिए आप मतदान नहीं कर सकते।

- सुबह 10 बजे तक बिहार में कुल 11.51 फीसदी हुआ मतदान। सीतामढ़ी में 10.97, मधुबनी में 9.18, मुजफ्फरपुर में 12.68, सारण में 12.89 और हाजीपुर में 11.98 फीसदी पड़े वोट।

- मुजफ्फरपुर के कटरा थाना क्षेत्र के डुमरी में लखनदेइ नदी पर पुल निर्माण नहीं होने के कारण ग्रामीणों ने मतदान न करने का फैसला किया है।

- बिहार के छपरा में मतदान केंद्र संख्या 131 पर ईवीएम मशीन में छेड़छाड़ के आरोप में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है। आरोपी का नाम रंजीत पासवान बताया जा रहा है। आरोपी के अनुसार उसकी मां को वोट नहीं देेने दिया गया इस कारण गुस्से में आकर वह ईवीएम तोड़ डाला।

- सीतामढ़ी के रून्नीसैदपुर प्रखंड क्षेत्र के नक्सल प्रभावित माने जानेवाले क्षेत्रों में भी बड़ी संख्या में मतदाताओं ने मतदान किया। सुबह से ही मतदाता लंबी-लंबी कतारों में खड़े हैं। यहां नक्सलियों के चुनाव बहिष्कार करने की अपील की थी। हालांकि इसका कोई प्रभाव नहीं है।

- दरभंगा के केवटी विधानसभा क्षेत्र के आदर्श बूथ संख्या 207 पर मतदाताओ को गुलाब फूल देकर स्वागत किया गया। इस बूथ पर चिकित्सा टीम, पेयजल, छांव के लिए टेंट आदि की व्यवस्था की है। मतदान करने के लिए बूथ पर काफी संख्या मे महिलाएं लाइन में खड़ी हैं।

- सुबह नौ बजे तक बिहार में कुल 11.51 फीसदी मतदान। सीतामढ़ी में 10.57, मधुबनी में 9.18, मुजफ्फरपुर में 12.68, सारण में 12.89 और हाजीपुर में 11.98 फीसदी पड़े वोट।

- मधुबनी के कलुआही प्रखंड के मतदान केंद्र संख्या 224 पर ईवीएम की खराबी के कारण 8:15 बजे शुरू हुआ मतदान। अभी तक केवल 22 लोगों ने ही किया मतदान, कतारों में कई घंटों से खड़े मतदाता।

- मधुबनी में पोलियो ग्रस्त महिला को टोकरी में बैठा कर बूथ संख्या 58 पर वोट डालने लेकर पहुंचे भाई।



- सीतामढ़ी से एनडीए की ओर से जेडीयू के प्रत्याशी सुनील कुमार पिंटू ने वोट डाला।

- सीतामढ़ी लोकसभा क्षेत्र के बिस्फी से विधायक डॉ फैयाज अहमद वोट डालने के बाद निशान दिखाते हुए।



- पहले घंटे में सीतामढ़ी में 5, मधुबनी में 2.5, मुजफ्फरपुर में 3.58, सारण में 4.25 और हाजीपुर में 4 फीसदी पड़े वोट।

- सारण के छपरा में एक बुजुर्ग को व्हीलचेयर पर बैठाकर मतदान केंद्र तक लाया गया।

- सीतामढ़ी के परिहार स्थित धरहरवा में आधा घंटा विलंब से शुरू हुआ मतदान।

- सारण लोकसभा क्षेत्र के गरखा विधानसभा के भिखारी आश्रम कुतुबपुर स्थित मतदान केंद्र 105 पर मशीन में खराबी के कारण मतदान बाधित।

- हरलाखी के मध्य विद्यालय उमगांव बूथ संख्या 130 पर ईवीएम में तकनीकी खराबी के कारण 7:25 में शुरू हुआ मतदान।

- सीतामढ़ी के बूथ नंबर 297 और 298 में ईवीएम में तकनीकी खराबी के कारण करीब 22 मिनट की देरी से शुरू हुआ मतदान।

- जाले प्रखंड के अहियारी उत्तरी स्थित बूथ नंबर 174, 175 और 176 पर निर्धारित समय से 16 मिनट की देरी से शुरू हुआ मतदान।

- सारण में एक मॉडल पोलिंग बूथ का नजारा।

बिहार में आम चुनाव के पांचवे चरण में निर्वाचन क्षेत्र के अनुसार विवरण

1. सीतामढ़ी

भारत-नेपाल सीमा से सटे हुए इस लोकसभा क्षेत्र की कुल जनसंख्या 34,23,574 है। सीतामढ़ी जिला का अधिकतम क्षेत्र इस लोकसभा सीट में आता है जहां मुस्लिम आबादी 7.4 लाख के करीब है। माओवादी गतिविधियां के चलते यह क्षेत्र विकास से दूर है और आज भी पिछड़े क्षेत्रों में आता है। इस बार के चुनाव में जेडीयू के डा. वरुण कुमार और आरजेडी के अर्जुन राय चुनावी मैदान में आमने-सामने हैं।

बथनाहा (SC), परिहार, सुरसंड, बाजपट्टी, सीतामढ़ी, रुन्नीसैदपुर विधानसभा क्षेत्र से सम्मिलित इस सीट पर 1999 में जेडीयू नवल किशोर राय ने यहाँ से जीत दर्ज की थी वहीं आरजेडी के सीताराम यादव ने 2004 में नवल किशोर को हराकर जीत दर्ज की थी। वहीं जेडीयू के अर्जुन रॉय ने 2009 और रालोसपा के राम कुमार शर्मा अभी यहां से मौजूदा सांसद हैं।

कुल मतदाताओं की संख्या 15,74,914 है। जिसमें महिला मतदाताओं की संख्या 7,42,544 है व पुरुष मतदाताओं की संख्या 8,32,370 है जबकि थर्ड जेंडर मतदाता 56 हैं।

2. मधुबनी

हरलाखी, बेनीपट्टी, बिस्फी, मधुबनी, कोटि और जाले विधानसभा सीटों से सम्मिलित मधुबनी की सीट कांग्रेस और आरजेडी के बीच का तनाव बन चुकी है। कांग्रेस से बागी हुए नेता शकील अहमद ने इस सीट पर निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में नामांकन दाखिल किया है जिससे महागंठबंधन का समीकरण बिगड़ रहा है। आरजेडी को ऐतराज है की कांग्रेस ने अभी तक शकील अहमद पर कोई कार्रवाई नहीं की। वहीं आरजेडी के दिग्गज नेता अली अशरफ फातमी ने भी पहले पार्टी के खिलाफ जाकर नामांकन भरा था लेकिन बाद में पार्टी के दबाव में उन्होंने नामांकन वापिस ले लिया और अब इस सीट पर महागठबंधन उम्मीदवार बद्री पूर्वे, एनडीए प्रत्याशी अशोक यादव और शकील अहमद के बीच त्रिकोणीय मुकाबला है।

इस सीट पर कुल मतदाताओं की संख्या मतदाता संख्या 16,27,969 है, जिसमें महिला मतदाओं की संख्या 7,50,685, पुरुष मतदाताओं की संख्या 8,77,284 है जबकि थर्ड जेंडर मतदाता 51 हैं।

3. मुजफ्फरपुर

मुजफ्फरपुर लोकसभा क्षेत्र में गायघाट, औराई, बोचहां(SC), सकरा(SC), कुढ़नी और मुजफ्फरपुर विधान सभा सीट शामिल है। यहां भूमिहार, यादव, मुस्लिम और साहनी समुदाय के लोगो की संख्या लगभग बराबर है।

भूमिहार और साहनी जातियों का अपने-अपने क्षेत्रों के मतदान में काफी प्रभाव है वहीं कायस्थ समुदाय का मुज़्ज़फ़्फ़रपुर क्षेत्र में काफी प्रभाव है। वैश्य समुदाय के मतदाताओं की संख्या भी प्रभावशाली है। पांच बार सांसद रहे जय नारायन प्रसाद निषाद इसी सीट से जेडीयू के टिकट पर 1999 और 2009 में जीत दर्ज की थी। वही जॉर्ज फर्नांडिस ने 2004 में इस सीट पर जीत दर्ज की थी। 2014 के आम चुनाव में अजय निषाद ने बीजेपी के टिकट से चुनाव लड़ा था जो अभी मौजूदा सांसद भी हैं। इस बार यहां से वीआईपी के राजभूषण चौधरी वर्तमान सांसद अजय निषाद को कड़ी टक्कर देंगे।

इस सीट पर कुल मतदाताओं की संख्या 15,51,363 है जिसमें महिला मतदाताओं की संख्या 7,20,420 है पुरुष मतदाताओं की संख्या 8,30,943 है जबकि थर्ड जेंडर मतदाता 32 हैं।

4. सारण

2008 में परिसीमन आयोग ने छपरा लोकसभा क्षेत्र को भंग करके सारण लोकसभा क्षेत्र गठित किया था| जिसमें मरहौरा, छपरा, गरखा(SC),अमनौर, परसा और सोनपुर विधानसभा क्षेत्र सम्मिलित है। सारण की सीट ने ही लालू परिवार की नींद-हराम की हुई है जहां इस सीट पर लालू के छोटे बेटे तेजस्वी यादव ने टिकट अपने बड़े भाई के ससुर को दी है जिसके चलते तेज प्रताप ने नाराज़ होकर पार्टी से किनारा कर लिया और लालू-राबड़ी पार्टी बना ली है। यह सीट लालू परिवार के लिए इसलिए भी खास है क्यूंकि इस सीट से ही लालू प्रसाद यादव कई बार चुनाव जीते हैं वही 2014 में राबड़ी देवी ने इस सीट पर चुनाव लड़ा था परन्तु जीत भाजपा के राजीव प्रताप रूड़ी को मिली थी। इस बार के चुनाव में भाजपा के राजीव प्रताप रुड़ी को आरजेडी के चन्द्रिका राय कड़ी टक्कर देंगे। इस सीट पर अनुसूचित जातियों की जनसंख्या करीब 4,74,066 है जो निर्णायक मतदाता साबित हो सकते हैं।

इस सीट पर कुल मतदाताओं की संख्या 15,39,744 है जिसमें महिला मतदाताओं की संख्या 7,05,383 है पुरुष मतदाताओं की संख्या 8,12,487 है जबकि थर्ड जेंडर मतदाता 27 हैं।

5. हाजीपुर (एससी)

इस सीट को लोजपा का गढ़ कहा जाता है। लोजपा के मुखिया राम विलास पासवान इसी सीट से आठ बार सांसद रहे, 2009 में इस सीट पर जेडीयू के राम सुन्दर दास ने उन्हें शिकस्त दी थी। हाजीपुर, लालगंज, महुआ, राजापाकर (SC), राघोपुर और महनार विधानसभा क्षेत्रों से सम्मिलित हाजीपुर रेड कॉरिडोर का हिस्सा है। भूमिहार और अनुसूचित जाति वर्ग मतदाताओं का उत्तरी बिहार में काफी प्रभाव रहा है। 2008 में पातेपुर विधानसभा सीट उजिआरपुर लोकसभा क्षेत्र में जोड़ दिया गया वही उच्च वर्ग प्रभुत्व लालगंज को हाजीपुर लोकसभा क्षेत्र का हिस्सा बना दिया गया है।

इस बार के चुनाव में लोजपा के पशुपति कुमार पारस और आरजेडी के शिवराम चुनावी मैदान में आमने-सामने हैं। इस सीट पर कुल मतदाताओं की संख्या 16,49,547 है जिसमें महिला मतदाताओं की संख्या 7,54,500 है पुरुष मतदाताओं की संख्या 8,95,047 है जबकि थर्ड जेंडर मतदाता 59 हैं।

Next Story
Top