Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

औवेसी ने बिहार से की प्रत्याशी की घोषणा, लोकसभा चुनाव 2019 का फूंका बिगुल

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असददुद्दीन ओवैसी ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा है। औवेसी ने कहा कि नीतीश कुमार ने बिहार की जनता के साथ धोखा किया है।

औवेसी ने बिहार से की प्रत्याशी की घोषणा, लोकसभा चुनाव 2019 का फूंका बिगुल
X

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन(एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असददुद्दीन ओवैसी ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा है। औवेसी ने कहा कि नीतीश कुमार ने बिहार की जनता के साथ धोखा किया है।

औवेसी ने आरोप लगाया कि नीतीश कुमार ने पिछले विधानसभा चुनाव में भाजपा को रोकने के नाम पर वोट मांगे थे और अब उसी के साथ सरकार बनाकर राज्य की जनता को धोखा दे रहे हैं।

इसे भी पढ़ेंः खुशखबरी! अब 50 रुपए में बनेगा आपका ड्राइविंग लाइसेंस, नहीं काटने पड़ेंगे अथॉरिटी के चक्कर

लोकसभा चुनाव 2019 की तैयारी को लेकर बिहार के किशनगंज में ओवैसी ने पत्रकारों से कहा कि 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान एआईएमआईएम को नीतीश ने 'वोट कटवा' पार्टी बताया था और आज उनकी पार्टी खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की गोद में बैठ गई है।

औवेसी ने आगे कहा कि महागठबंधन में शामिल जदयू ने भाजपा को रोकने के लिए लोगों से वोट लिया था लेकिन अब लोगों को धोखा देकर भाजपा से मिलकर सरकार बना लिया।

गौरतलब है कि 2014 के लोकसभा चुनाव में अकेले दम पर चुनाव लड़कर हारने के बाद जदयू 2015 के बिहार विधानसभा चुनाव में महागठबंधन में शामिल हो गई। उसने राजद और कांग्रेस के साथ मिलकर चुनाव लड़ा और सफलता हासिल की। लेकिन बाद में नीतीश ने महागठबंधन से नाता तोड़कर भाजपा के साथ मिलकर सरकार बना ली।

ओवैसी ने आगामी 2019 लोकसभा चुनाव में अख्तरुल ईमान को किशनगंज से एआईएमआईएम उम्मीदवार बनाए जाने की घोषणा करते हुए कहा कि उनकी पार्टी लोकसभा चुनाव में बिहार के अन्य हिस्सों में भी अपने प्रत्याशी उतारेगी।

महागठबंधन में शामिल राजद और कांग्रेस के बारे में सवाल करने पर ओवैसी ने आरोप लगाया कि दोनों दल वर्षों से सीमांचल :मुस्लिम बहुल इलाका: के लोगों को ठगा रहे हैं।

शरिया कोर्ट को लेकर उठाए जा रहे सवालों पर ओवैसी ने कहा कि 25 साल से देश के कई राज्यों में शरिया कोर्ट मौजूद हैं जहां काजी नियुक्त हैं और वहां लोगों को न्याय मिलता है। अगर दोनों पक्ष में से किसी को शरिया कोर्ट के फैसले पर आपत्ति हो तो उनके लिए देश की अदालतें खुली हुई हैं। उनके शरण में जाकर न्याय प्राप्त किया जा सकता है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story