Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

बिहारः जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल, इलाज ना मिलने पर 17 मरीजों ने गंवाए प्राण

विनय कुमार का कहना है कि जब तक छात्रों को रिहा नहीं किया जाता है तब तक हड़ताल जारी रहेगी।

बिहारः जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल, इलाज ना मिलने पर 17 मरीजों ने गंवाए प्राण

पटना में मेडिकल कॉलेज के छात्रों पर हुए लाठीचार्ज के विरोध में राज्य के जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल लगातार दूसरे दिन भी जारी है।

इस हड़ताल की वजह से पीएमसीएच मेडिकल कॉलेज में लगातार मरीजों के मौत के आंकड़े बढ़ते जा रहे हैं। पिछले 30 घंटे में 17 मरीज इलाज की अभाव में दम तोड़ चुके हैं।

पीएमसीएच के 450 जूनियर डॉक्टर हड़ताल पर चले गए हैं। हड़ताल पर जाने से इलाज के बिना मरीज तड़प रहे हैं। अस्पताल में नए मरीजों को भर्ती तक नहीं किया जा रहा है। इमरजेंसी वार्ड हो या फिर ओपीडी हो कहीं भी मरीजों का इलाज नहीं किया जा रहा है।

हालांकि, हॉस्पिटल मैनेजमेंट इलाज के अभाव में मौत की सूचना से साफ इनकार कर रहा है। अधिकारियों का कहना है कि मरने वाले मरीजों की स्थिति गंभीर थी, इस कारण उनकी मौत हुई है।

पीएमसीएच प्रशासन बिगड़ते हालात को काबू में करने के लिए अब दूसरे जिलों से डॉक्टरों को बुलाने की कोशिश की जा रही है।

वहीं, पीएमसीएच के जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. विनय कुमार का कहना है कि जब तक छात्रों को रिहा नहीं किया जाता है और दोषी पुलिसकर्मियों की खिलाफ कार्रवाई नहीं की जाती है, तब तक हड़ताल जारी रहेगी।

गौरतलब है कि जूनियर डॉक्टर पीजी मेडिकल काउंसिलिंग के दौरान जूनियर डॉक्टर और पुलिस के बीच भिड़ंत हो गई थी, जिसके बाद पुलिस ने उनपर लाठीचार्ज किया और 5 स्टूडेंट्स को गिरफ्तार कर लिया था।

Next Story
Top