Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

रुपये में भारी गिरावट से लुढ़का सेंसेक्स और निफ्टी, महीने के दूसरे दिन भी हुआ नुकसान

रुपये में दर्ज की गई एतिहासिक गिरावट। सेंसेक्स और निफ्टी का रहा ऐसा हाल

कोरोना वायरस के चलते औंधे मुंह गिरा शेयर बाजार, एक मिनट में निवेशकों 4 लाख करोड़ डूबे
X
कोरोना वायरस के चलते औंधे मुंह गिरा शेयर बाजार, एक मिनट में निवेशकों 4 लाख करोड़ डूबे

डॉलर के मुकाबले रुपये में आई भारी गिरावट के चलते महीने के दूसरे दिन शेयर बाजार (Stock Market) मुंह के बल गिर गया। शेयर मार्केट में भारी गिरावट देखने को मिली है। इसबीच (Sensex) सेंसेक्स 2.39 प्रतिशत की गिरावट के साथ 674 अंक लुढ़क गया। वहीं निफ्टी में अच्छी खासी गिरावट के साथ शुक्रवार को बाजार बंद हो गया। इस बीच कंज्यूमर ड्यूरेबल्स से लेकर आईटी और बैंकिंग सेक्टर में भी भारी गिरावट दर्ज की गई है। हालांकि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की तरफ से (Crude Oil) क्रूड ऑयल के प्रोडक्शन कट के ट्वीट की वजह से ऑयल के दामों में एक बढ़त देखने को मिली है। जिसका फायदा ऑयल सेक्टर को मिला हैं।

सेंसेक्स और निफ्टी50 गिरावट के साथ हुए बंद

महीने के दूसरे दिन ही शेयर बाजार सुबह से ही गिरावट के साथ खुला और लुढ़कते हुए गिरावट पर ही बंद हो गया। इस दौरान सेंसेक्स 674.36 अंकों की गिरावट के साथ 27590.95 अंकों पर बंद हुआ है तो वहीं (Nifty50) निफ्टी 50 180 अंकों की गिरावट के साथ 8083.80 अंकों पर कारोबार कर बंद हो गई

ज्यादातर शेयरों में आई गिरावट, प्राइवेट बैंकिंग शेयर भी शामिल

एफएमसीजी सेक्टर को छोड़ दिया जाये तो ज्यादातर सेक्टरों के शेयरों में भारी गिरावट देखने को मिल रही है। इनमें (Private Bank) प्राइवेट बैंक भी शामिल है। शेयरों को देखें तो सेक्टोरल इंडेक्स लाल हो गया है। रुपया गिरने की वजह से बैंकिंग सेक्टर में गिरावट देखने को मिल रही है। वहीं आईटीसी फूड्स, सन फारमा, ओएनजीसी के शेयरों में हल्की बढ़त दर्ज की गई है।

रुपये में दर्ज की गई भारी गिरावट

डॉलर के मुकाबले शुक्रवार को रुपये में भारी गिरावट दर्ज की गई है। इसी का असर सेंसेक्स और निफ्टी50 पर भी पडा है। कारोबारी सत्र के दौरान रुपया आज 80 पैसे से ज्यादा गिर गया है। जिसकी वजह से डॉलर आज 76.66 रुपए तक पहुंच गया है। यह अब तक की सबसे बड़ी गिरावट है। जानकारों की मानें तो रुपये में गिरावट 77 रुपए तक देखने को मिल सकती है। जानकारों की मानें तो यह गिरावट कोरोना वायरस (Coronavirus) की वजह से हो रही है।

Next Story