Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

देश में स्थिर नहीं रखी जा सकती पेट्रोल-डीजल की कीमतें

बिधूड़ी ने केंद्रीय मंत्री से पूछा था कि जब अमेरिका और रूस में पेट्रोलियम पदार्थों की कीमतें स्थिर रखी जा सकती हैं तो देश में यह क्यों संभव नहीं है? इसके अलावा उन्होंने पेट्रोलियम पदार्थों पर किसानों को सब्सिडी या इस प्रकार की कोई अन्य मदद देने पर भी केंद्र के विचार करने को लेकर प्रश्न किया था।

Petrol Diesel Price cannot be kept stable in the country
X
पेट्रोल डीजल की कीमतें

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि पेट्रोलियम पदार्थों जैसे पेट्रोल और डीजल की कीमतों को फिलहाल एक दर पर स्थिर रखना संभव नहीं है। क्योंकि इनकी कीमतें अंतराष्ट्रीय स्तर से जुड़ी हुई हैं। यह जानकारी केंद्रीय वित्त मंत्री ने सदन में प्रश्नकाल के दौरान भाजपा के दक्षिणी-दिल्ली से सांसद रमेश बिधूड़ी द्वारा पूछे गए प्रश्न के जवाब में दी।

जिसके जवाब में सीतारमण ने कहा कि जहां तक किसानों को पेट्रोलियम पदार्थों पर सब्सिडी देने का मामला है तो किसानों के विषय राज्यों के पास हैं। वह इस पर स्वयं निर्णय ले सकते हैं। उनके अच्छे निर्णयों का केंद्र समर्थन करेगा।

डीएमके सांसद दयानिधि मारन ने भी पेट्रोलियम पदार्थों का मुद्दा उठाते हुए कहा कि वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) में देश के विभिन्न राज्यों में एकरूपता की कमी है और इन पर एक समान कर लगाया जाने का प्रश्न पूछा। जिसके जवाब में निर्मला सीतारमण ने कहा कि कुछ ऐसे विषय हैं, जिनकी चर्चा जीएसटी काउंसिल में की जाती है।

पीएमसी बैंक घोटाला

बीजद सांसद पिनाकी मिश्रा ने पीएमसी बैंक घोटाले का जिक्र करते हुए कहा कि इसमें हजारों खाताधारकों के खून पसीने की गाढ़ी कमाई बैंक में फंसी हुई है। सरकार को इस दिशा में कोई कदम उठाना चाहिए? इसके जवाब में निर्मला सीतारमण ने कहा कि सरकार बैंक के धटनाक्रम से पूरी तरह से वाकिफ है और छोटे जमाकर्ताओं को रिजर्व बैंक के दिशानिर्देश के हिसाब से पूरी राशि की निकासी की अनुमति दी गई है।

ऐसे जमाकर्ताओं की संख्या करीब 78 फीसदी है। इसके अलावा अगर किसी खाताधारक को कोई गंभीर बीमारी है, उसके परिवार में कोई बीमार है, किसी की शादी है या शिक्षा के लिए वह एक लाख रुपए तक की राशि बैंक से निकाल सकता है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story
Top