Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अब आप भी मैप के जरिए जान सकेंगे कौन सी कंपनी का नेटवर्क है मजबूत, जानें कैसे

आज के समय में मजबूत नेटवर्क के साथ जुड़ा रहना तोड़ा मुश्किल हो गया है, क्योंकि अभी दूरसंचार कंपनियां पूरी तरह से देश के कई हिस्सों में कवरेज नहीं बना सकी हैं। वहीं, लोगों को भी नेटवर्क मजबूत नहीं होने की वजह से कॉल ड्रॉप और कम इंटरनेट स्पीड से झूंझना पड़ता है।

अब आप भी मैप के जरिए  जान सकेंगे कौन सी कंपनी का नेटवर्क है मजबूत, जानें कैसे

आज के समय में मजबूत नेटवर्क के साथ जुड़ा रहना तोड़ा मुश्किल हो गया है, क्योंकि अभी दूरसंचार कंपनियां पूरी तरह से देश के कई हिस्सों में कवरेज नहीं बना सकी हैं। वहीं, लोगों को भी नेटवर्क मजबूत नहीं होने की वजह से कॉल ड्रॉप और कम इंटरनेट स्पीड से झूंझना पड़ता है।

दूसरी तरफ भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण यानि ट्राई भी देशभर में लोगों को मजबूत नेटवर्क पहुचाने को लेकर काम कर रही है। अब यह उम्मीद जताई जा रही है कि ट्राई की अधिकारिक वेबसाइट पर नेटवर्क की कवरेज को मैप पर लाइव देखा जा सकेगा और यह सेवा अगले हफ्ते शुरू हो सकती है।

ट्राई की इस नेटवर्क कवरेज जांचने की सेवा को लेकर अधिकारी ने कहा है कि अब कोई भी ग्राहक ट्राई की वेबसाइट पर जाकर मैप में अपनी दूरसंचार सेवा प्रदाता के नेटवर्क कवरेज की जानकारी हासिल कर सकेंगे। इस सर्विस के लिए ट्राई ने एक कंपनी के साथ करार भी किया है और जल्द ही इस सेवा को पूरे देश में शुरू किया जाएगा। इससे पहले ट्राई ने नेटवर्क कवरेज के लिए सेंटर फॉर डेवलपमेंट ऑफ टेलीमैक्स से करार किया था।

ट्राई ने बीते वर्ष लिमिटेड स्तर पर ही मैप पर नेटवर्क कवरेज की जांच सेवा का बीटा वर्जन शुरू किया था। ट्राई ने इस सेवा के लिए दिल्ली के साथ केवल दो दूरसंचार सर्किल को ही चुना था। वहीं, ट्राई के मुख्य अधिकारी आरएस शर्मा ने कहा है कि ट्राई पूरे देश के लिए नेटवर्क कवरेज मैप तैयार कर रहा है। इस मैप की मदद से जान सकेंगे कि कहां और किस क्षेत्र में नेटवर्क की कवरेज बहुत कम है।

उन्होंने आगे कहा है कि हमने नेटवर्क कवरेज सेवा के लिए एक नई कंपनी के साथ करार किया है, जो कि हमारे लिए इस पर काम कर रही है। इसके साथ ही हम देश की दिग्गज दूरसंचार कंपनियों की जानकारी हासिल कर रहे हैं।

आपको बता दें कि ट्राई इस समय देश की सभी दूरसंचार कंपनियों की तरफ से सेवा की गुणवक्ता पर नज़र रख रही है। इस समय ट्राई देश के 100 से ज्यादा शहरों के नेटवर्क कवरेज पर नजर रख रही है। इसके अलावा ट्राई हाईवे के साथ रेलमार्गों पर भी कड़ी नज़र बनाए हुए है।

Share it
Top