Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नासा लॉन्च करेगी 300MP कैमरे वाली दूरबीन, उतार सकती है 100 गुना बड़ी तस्वीर

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा जल्द ही न्यू जेनेरेशन स्पेस टेलीस्कोप लांच करने जा रही है।

नासा लॉन्च करेगी 300MP कैमरे वाली दूरबीन, उतार सकती है 100 गुना बड़ी तस्वीर
X

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा जल्द ही न्यू जेनेरेशन स्पेस टेलीस्कोप लांच करने जा रही है। वाइड फील्ड इंफ्रारेड सर्वे दूरबीन (WFIRST) हबल टेलीस्कोप से 100 गुना बड़ी और साफ तस्वीरें उतार सकने में सक्षम है। 300MP वाइड फील्ड इस्ट्रूमेंट वाले इस दूरबीन को 2020 के मध्य तक लांच किया जाएगा।

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा अंतरिक्ष में अगली पीढ़ी की दूरबीन के इस प्रयोग से ब्रह्मांड की अभी तक की सबसे बड़ी तस्वीर को कलेक्ट कर सकेगा और उससे ब्रह्मांड की गतिविधि को समझ सकेगा। नासा ने बताया कि इस अभियान से ब्रह्मांड की इतनी बड़ी तस्वीर मिलेगी जैसी पहले कभी नहीं मिली होगी जिससे खगोलविदों को ब्रह्मांड के कई बड़े रहस्यों का खुलासा करने में मदद मिलेगी।

यह भी पढ़ें- अलविदा 2017: तकनीक के क्षेत्र में भारत ने लहराया परचम, साल भर की उपलब्धियों पर एक नजर

पोस्टर नहीं, दीवार जैसी तस्वीर

वाइड फील्ड इंफ्रारेड सर्वे टेलीस्कोप (WFIRST) हबल दूरबीन से ज्यादा बड़ी आंख वाले दूरबीन के रूप में काम करेगा। हबल के कैमरों के जितना ही संवेदनशील WFIRST का 300MP वाइड फील्ड उपकरण आकाश के किसी हिस्से की 100 गुना बड़ी तस्वीर खींचेगा।

अमेरिका में प्रिंसटन विश्वविद्यालय में WFIRST के विज्ञान कार्यकारी समूह के सह अध्यक्ष और प्रोफेसर डेविड स्पर्गेल ने कहा, ‘‘हबल से भेजी गई तस्वीर दीवार पर एक अच्छे पोस्टर के जैसी होती है जबकि WFIRST से भेजी गई तस्वीर आपके घर की पूरी दीवार की तस्वीर लेगा।'

ब्रह्मांड की कई गुत्थी सुलझेंगी

WFIRST से ली गई तस्वीरों से ब्रह्मांड के रहस्यों के साथ यह भी पता चल पाएगा कि इसका विस्तार किस कारण हो रहा है। ब्रह्मांड के विस्तार की गति बढ़ने के दो कारण बताए जाते हैं। पहला इसके 68 प्रतिशत भाग में फैला डार्क मैटर और दूसरा आइंस्टीन के 'सामान्य सापेक्षता का सिद्धांत। नए टेलीस्कोप से जुटाई गई जानकारियों से यह गुत्थी सुलझ सकती है। इसकी मदद से आकाशगंगा और अंतरिक्ष के संबंध में भी नई जानकारियां मिलेंगी।

यह भी पढ़ें- इन वजहों से बिटकॉइन में पैसे लगाना है खतरनाक, रिजर्व बैंक के बाद सरकार ने भी लोगों को किया आगाह

पता चलेगा, तारे ग्रहों में कैसे बदले

WFIRST प्रोजेक्ट के वैज्ञानिक जेफरी क्रूक ने कहा, 'ब्रह्मांड के शुरुआती दिनों की तस्वीरों का अध्ययन कर ही पता लगाया जा सकता है कि किस तरह गैस तारे, ग्रह और धूमकेतू में बदल गए। नया टेलीस्कोप इसमें हमारी काफी मदद कर सकता है।'

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story