Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

4G-5G की हुई छुट्टी, अब LED बल्व से चलाएं सुपरफास्ट इंटरनेट- जानें कैसे

डिजिटल इंडिया के तरफ बढ़ रहे देश में दिन-प्रतिदिन नई तकनीक की वजह से हमें अब सुफरफास्ट इंटरनेट की सेवा मिल रही है।

4G-5G की हुई छुट्टी, अब LED बल्व से चलाएं सुपरफास्ट इंटरनेट- जानें कैसे
X

डिजिटल इंडिया के तरफ बढ़ रहे देश में दिन-प्रतिदिन नई तकनीक की वजह से हमें अब सुफरफास्ट इंटरनेट की सेवा मिल रही है। आज से 5 साल पहले जब भारत में 4G लॉन्च नहीं हुआ था तो हाई-स्पीड इंटरनेट मिलना एक सपने जैसा था। जब से 4जी सेवा शूरू हूई तब से इंटरनेट के क्षेत्र में क्रांति आ गई है।

अभी दुनियाभर की दूरसंचार कंपनिया 5G तकनीक लाने की तैयारी में हैं। इसी क्रम में अब ऐसी तकनीक का विकास हो रहा है जिससे इंटरनेट की स्पीड 4G-5G से भी ज्यादा होने की संभावना है। यानी की आप पलक झपकते ही कोई भी मूवी डाउनलोड कर सकेंगे। विशेषज्ञों का मानना है कि इस तकनीक से 10GB प्रतिसेकेंड तक की इंटरनेट स्पीड मिलेगी।

यह भी पढ़ें- आइडिया का धमाकेदार ऑफर, फ्री में मिलेगा स्मार्टफोन

आने वाले समय में इस तकनीक से Wi-Fi या ब्रॉडबैंड लोगों को हाई स्पीड इंटरनेट डेटा का अलग ही अनुभव प्रदान करेगा। सबसे बड़ी चौकाने वाली बात यह है की यह तकनीक किसी केबल या वॉयरलेस टॉवर पर आधारित नहीं होगी। इस तकनीक से आपको एलईडी बल्ब से इंटरनेट की सुविधा मिल सकती है।

क्या है यह नई तकनीक?

हाल ही में एक प्रोजेक्ट के तहत इन्फर्मेशन ऐंड टेक्नॉलजी मिनिस्ट्री ने एक नई तकनीक का सफल टेस्ट किया है। इस नई तकनीक को Li-Fi का नाम दिया गया है। Li-Fi डेटा ट्रांसफर के लिए रेडियो फ्रिक्वेंसी वेव्स की जगह विजिबल लाइट कम्युनिकेशंस या इंफ्रारेड या नजदीकी अल्ट्रावॉयलेट का उपयोग करता है।

यह टेक्नोलॉजी 400 और 800 THz (780–375 nm) के बीच के विजिबल लाइट का प्रयोग करता है। बल्ब को स्विच ऑन या ऑफ करने से इसका उपयोग किया जाएगा, चूंकि यह नैनोसेकेंड में होगा इसलिए आमतौर पर हम आंखों से नहीं देख पाएंगे।

सुरक्षा के लिहाज से उत्तम

Li-Fi नाम की यह तकनीक Wi-Fi की जगह नहीं लेगी जबकि इसके फायदे Wi-Fi से एकदम अलग होगें खासतौर पर सिक्योरिटी के मामले में। जैसा कि हम जानते हैं प्रकाश की तरंगे दीवार के आर-पार नहीं हो सकती, यह तकनीक कम दूरी के लिए काफी प्रभावी होगी और हैकिंग जैसी मुश्किलों को भी रोकेगी।

सुपर फास्ट स्पीड पर होगा डेटा ट्रांसफर

उम्मीद की जा रही है की इस तकनीक से 1km तक के इलाके में 10GB प्रति सेकंड की स्पीड से डेटा ट्रांसफर किया जा सकेगा। इस तकनीक की मदद से लगभग देश के हर हिस्से में इंटरनेट उपलब्ध करवाना संभव हो सकेगा।

यह भी पढ़ें- 10 जीबी रैम वाले दुनिया के पहले स्मार्टफोन की तस्वीरें हुई लीक, जानें कीमत एवं फीचर्स

आईआईटी मद्रास की टीम कर रही है रिसर्च

इस प्रोजेक्ट पर अभी आईआईटी मद्रास में काम चल रहा है। इस प्रोजेक्ट को पूरा करने में एलईडी बल्ब बनाने वाली कंपनी फिलिप्स भी साथ दे रही है। इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ साइंस अपने इस प्रोजक्ट का इस्तेमाल बेंगलुरु में करना चाहता है।

इस पूरे मामले पर फिलिप्स लाइटिंग इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर सुमित जोशी का कहना है, 'हम नई तकनीकों को लाए जाने के लिए प्रतिबद्ध हैं और इस क्षेत्र में नई तकनीकों पर काम करते रहेंगे।'

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story