Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

IndiaMART के आईपीओ में निवेश का रास्ता खुला, जानें पूरी जानकारी

भारत की दिग्गज कंपनी इंडियामार्ट इंटरमेश इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग यानि आईपीओ (IPO) के माध्यम से फंड्स जुटाने के लिए बड़ा कदम उठाया है। इंडियामार्ट आईपीओ के माध्यम से 475 करोड़ रुपए जुटा रही है।

IndiaMART के आईपीओ में निवेश का रास्ता खुला, जानें पूरी जानकारीIndiaMART Initial public offering India ipo investment full information

भारत की दिग्गज कंपनी इंडियामार्ट इंटरमेश इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग यानि आईपीओ (IPO) के माध्यम से फंड्स जुटाने के लिए बड़ा कदम उठाया है। इंडियामार्ट आईपीओ के माध्यम से 475 करोड़ रुपए जुटा रही है।

इंडियामार्ट आईपीओ के जरिए प्रमोटर्स का पार्टिसिपेशन 57.6 प्रतिशत से कम कर के 52.6 प्रतिशत कर दिया है। इसके साथ ही इंडियामार्ट ने इंटेल कैपिटल, एमेडियस कैपिटल पार्टनर्स समेत क्युओना कैपिटल के शेयरहोल्डर्स की हिस्सेदारी कम की है।

इंडियामार्ट ने बीते तीन सालों में अपने प्रोफिट को डबल किया है और 2018 में कंपनी को बहुत लाभ हुआ था। वहीं, इंडियामार्ट के सर पर किसी भी तरह का कोई कर्ज नहीं है और कंपनी के पास बैलेंस भी है। जो लोग इंडियामार्ट में इनवेस्ट करना चाहते हैं, तो वे लोग रिस्क ले सकते हैं। लोग आईपीओ में में निवेश करने का विचार कर सकते हैं।

इंडियामार्ट का इतिहास

इंडियामार्ट ने अपनी शुरुआत सन 1999 में की थी। अब कंपनी अपने खास प्रोडक्ट्स के साथ सप्लायर की लिस्टिंग अपनी अधिकारिक वेबसाइट इंडियामार्ट डॉटकॉम के साथ मोबाइल ऐप के माध्यम से काम करती है। कंपनी के पास इस समय 8.27 करोड़ बायर्स के साथ 5.6 करोड़ सप्लायर्स हैं। इसके अलावा 2017 में कंपनी ने B2B यानि (बिजनेस टू बिजनेस) के सेगमेंट में कंपनी ने अपनी हिस्सेदारी को 60 प्रतिशत थी।

देश में ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म का उपयोग करने वालों की संख्या बहुत कम है और यह अनुमान लगाए जा रहे हैं कि आने वाले समय में इस सेगमेंट में बिजनेस बढ़ने की संभावना है। इंडियामार्ट को अपने मोबाइल ऐप और अधिकारिक वेबसाइट पर विज्ञापन से भी रेवेन्यू मिलता है।

इंडियामार्ट का वित्तीय स्थान

2016 से लेकर 2019 में इंडियामार्ट का रेवेन्यू 26 प्रतिशत से बढ़कर 507.4 करोड़ रुपए तक पहुंच चुका है। इंडियामार्ट का 2019 में ऑपरेटिंग प्रॉफिट (EBIDTA) 82.3 करोड़ रुपए के साथ नेट लाभ 20 करोड़ रुपए है। वहीं, शेयर में बदलाव की वजह से दो सालों में कंपनी के प्रॉफिट पर असर पड़ा है। इस समय इंडियामार्ट के पास करीब 700 करोड़ रुपए का कैश मौजूद है।

आपको बता दें कि प्राइस बैंड के स्तर पर इंडियामार्ट का कैपिटलाइजेशन 2,800 करोड़ रुपए होगा। जो रिस्क ले सकते हैं, वो इसमें निवेश कर सकते हैं।

Share it
Top