Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

हैप्पी न्यू ईयर 2019: 5G समेत नए साल में आएंगी ये टेक्नोलॉजी

हैप्पी न्यू ईयर 2019 (Happy New Year 2019) बस एक दिन दूर है। तमाम दूसरे क्षेत्रों की तरह टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में भी नए साल में कई ऐसे गैजेट्स आने वाले हैं, जो लोगों की जिंदगी पर गहरा असर डालेंगे। आइए जानते हैं नए साल में आने वाले गैजेट्स के बारे में।

हैप्पी न्यू ईयर 2019: 5G समेत नए साल में आएंगी ये टेक्नोलॉजी
X
हैप्पी न्यू ईयर 2019 (Happy New Year 2019) बस एक दिन दूर है। तमाम दूसरे क्षेत्रों की तरह टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में भी नए साल में कई ऐसे गैजेट्स आने वाले हैं, जो लोगों की जिंदगी पर गहरा असर डालेंगे। आइए जानते हैं नए साल में आने वाले गैजेट्स के बारे में।

5जी फोन

वर्ष 2019 में तकनीक जगत में सबसे ज्यादा चर्चा 5जी की होने वाली है। सैमसंग, ओपो, वीवो, वनप्लस, शाओमी और एलजी सहित कई कंपनियों ने अपने 5जी फोन के बारे में जानकारी दे दी है। 2019 के शुरुआत में ही इन्हें लॉन्च किया जा सकता है।
हालांकि भारत में अभी 5जी नेटवर्क नहीं है, लेकिन 2019 के तीसरी तिमाही में 5जी नेटवर्क की नीलामी की जा सकती है। एयरटेल और जियो जैसी कंपनियों ने पहले ही घोषणा कर दी है कि उनका नेटवर्क 5जी रेडी है। ऐसे में नीलामी के बाद नेटवर्क लॉन्च होने में ज्यादा समय नहीं लगेगा।

मिक्स रियलिटी

मोबाइल तकनीक से हटकर थोड़ी बात सॉफ्टवेयर और दूसरी हार्डवेयर की करें, तो मिक्स रियलिटी आपको काफी प्रभावित करने वाला है। सुपर फास्ट इंटरनेट की शुरुआत हो गई है और कई ऐसे डिवाइस लॉन्च होंगे, जिसमें आपको एआर और वीआर का बेहतरीन उपयोग देखने को मिलेगा।
एआर/वीआर इंटीग्रेटेड फिटनेस वियरेबल जल्द ही आउटडोर के लिए आपको देखने को मिलेंगे। बॉक्सवीआर, पावरबीट्सवीआर और ऑडियोशील्ड जैसी कंपनियां इस दिशा में काफी बेहतर कार्य कर रही हैं।

ब्लॉकचेन

ब्लॉकचेन तकनीक की चर्चा 2018 में काफी सुनने को मिली है, लेकिन 2019 में ब्लॉकचेन पर आधारित बहुत सारी चीजें देखने को मिलेंगी। 2018 में भारत सरकार ने क्रिप्टोकरेंसी पर बैन लगा दिया, लेकिन ब्लॉकचेन को डिजिटल ट्रांजेक्शन का भविष्य माना जा रहा है।
इस दिशा में सरकार और कंपनियों द्वारा 2019 में नए दिशा-निर्देश से लेकर नए एप्लीकेशन तक देखने को मिल सकते हैं। सरकारी काम-काज, हेल्थकेयर, मैन्युफेक्चरिंग और सप्लाइचेन के क्षेत्र में यह तकनीक अहम भूमिका निभाएगी।

स्मार्ट स्पेस

पहले के मुकाबले इंटरनेट काफी फास्ट हो गया है और इंटरनेट आधारित डिवाइस का विकास धड़ल्ले से किया जा रहा है। पिछले कुछ सालों में बड़े देशों में स्मार्ट होम का कॉन्सेप्ट काफी लोकप्रिय हुआ है। इसके तहत एक नेटवर्क से कई डिवाइस कनेक्टेड होते हैं और एक-दूसरे से कम्युनिकेट करते हैं।
जैसे मोबाइल से ऑडियो डिवाइस और ऑडियो डिवाइस से टीवी, फ्रीज, बल्ब, गीजर, एसी और आरो तक को कंट्रोल किया जा सकता है। नए साल में स्मार्ट होम के साथ ही स्मार्ट स्पेस का कॉन्सेप्ट भी दिखने को मिलेगा।

एडवांस मैटीरियल डिवाइस

आप स्मार्टफोन और स्मार्ट टीवी के बारे में तो जानते ही हैं, लेकिन वर्ष 2019 में आपको कई दूसरी स्मार्ट चीजें देखने को मिल सकती हैं, जिसमें स्मार्ट पेपर, स्मार्ट कॉपी और स्मार्ट बुक आदि शामिल हैं।

ओएलइडी टच स्क्रीन कीबोर्ड

अभी भी ज्यादातर डेस्कटॉप/लैपटॉप यूजर्स स्टैंडर्ड की-बोर्ड, माउस या ट्रैकपैड का इस्तेमाल करते हैं, जबकि एक बड़ा वर्ग टच स्क्रीन वाला स्मार्टफोन यूज करता है। ऐसे में कंप्यूटर के लिए भी ऐसा ही आइडिया बुरा नहीं है। एपल पहले ही ओएलइडी पैनल बार के साथ मैकबुक प्रो लॉन्च कर चुकी है।
इसी तरह आसुस जेनबुक भी ओएलइडी टचस्क्रीन ट्रैकपैड के साथ लॉन्च हुई थी। ऐसे में आने वाले साल में उम्मीद कर सकते हैं कि ज्यादातर ब्रांड्स की-बोर्ड्स और ट्रैकपैड्स को टच स्क्रीन ओएलइडी डिस्प्ले का इस्तेमाल करेंगे।

वायरलेस लैपटॉप चार्जर

लैपटॉप के साथ भारी चार्जर लेकर चलना शायद किसी को भी पसंद नहीं होगा। ऐसे में वायरलेस चार्जिंग अच्छा विकल्प हो सकता है। यह तकनीक अभी इतनी पावरफुल नहीं है कि लैपटॉप की बैटरी को चार्ज कर सके। पिछले कुछ साल में हुए डेवलपमेंट से ऐसे वायरलेस चार्जर देखने को मिले हैं, जो स्मार्टफोन की फास्ट चार्जिंग को सपोर्ट करते हैं।

शायद इनसे लैपटॉप भी चार्ज हो सके। इंटेल और डेल जैसी कंपनियां वायरलेस चार्जिंग का डेमो दिखा चुकी हैं। ऐसे में उम्मीद है कि 2019 में लैपटॉप का वायरलेस चार्जर भी देखने को मिले।

मॉड्यूलर डिवाइसेस

कुछ साल पहले मॉड्यूलर स्मार्टफोन का बड़ा शोर था। गूगल भी इस कॉन्सेप्ट पर काम कर रही थी, लेकिन कुछ साल की कोशिशों के बाद उसने प्रोजेक्ट बंद कर दिया। हालांकि अभी भी कुछ ब्रांड्स उपभोक्ताओं के लिए मॉड्यूलर डिवाइसेस लाने की कोशिश कर रहे हैं।
फेयरफोन हर उस शख्स के लिए उपलब्ध है, जिसकी इसमें दिलचस्पी है। मोटो भी स्मार्टफोन के साथ मोटो मोड्स के रूप में ऐसे विकल्प देती है। 2018 में रेड ने मॉड्यूलर सपोर्ट एसेसरीज के साथ आने वाले हाइड्रोजन फोन की घोषणा की थी।
अगर टीवी सेगमेंट की बात करें तो शाओमी 2017 में मॉड्यूलर टीवी लेकर आई थी, जिसके कंपोनेंट्स साउंडबार में थे। उन्हें डिस्प्ले स्क्रीन से अलग करके अपग्रेडेड यूनिट के साथ बदला जा सकता था। 2019 में मॉड्यूलर डिजाइन के साथ और भी डिवाइसेस देखने की उम्मीद कर सकते हैं।

एआई

वर्ष 2018 में एआई तकनीक काफी चर्चा में रही। इसे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस नाम से भी जाना जाता है। कैमरे में इसका प्रयोग अकसर लोग देखते हैं, लेकिन अब मोबाइल निर्माताओं ने खास एआई चिप बनाया है, जो आपको दैनिक कार्यों से डाटा लेता है और हर वक्त आपकी मदद करता है।
जैसे किसी वक्त आप कहां जाते हैं और बेस्ट रूट क्या होगा, आप किस एप का ज्यादा उपयोग करते हैं और उसे सबसे पहले सेट करना। इतना ही नहीं, किसी समय पर किस एप का उपयोग करते हैं आदि भी एआई आपको बता सकता है। आने वाले दिनों में एआई की उपयोगिता और भी बढ़ जाएगी।

3डी कैमरा

कैमरे के मामले में शुरू से ही बहुत ज्यादा प्रयोग देखने को मिला है और नया साल भी कुछ ऐसा ही रहेगा। 2019 में आपको 3डी कैमरा सेंसर वाले फोन काफी देखने को मिलेंगे। हाल में कुछ कंपनियों ने 3डी टीओएफ कैमरे की शुरुआत तो की है, लेकिन नए साल में यह कम रेंज के फोन में भी उपलब्ध होगा।

फोल्डेबल और रोलेबल स्क्रीन

वर्ष 2018 में फोल्डेबेल स्क्रीन वाले फोन और रोलेबल टीवी को सिर्फ प्रदर्शित किया गया, लेकिन 2019 में ये डिवाइस यूजर्स के लिए उपलब्ध होंगे। सैमसंग ने अपने फोल्डेबल फोन को 2019 के पहली तिमाही में ही लॉन्च करने की बात कही है।
वहीं, एलजी और हुवावे जैसी कंपनियों ने अपने फोल्डेबल फोन के बारे में बता दिया है और आशा है कि जल्द ही यह आम लोगों के लिए उपलब्ध होंगे। इसी तरह रोलेबल स्क्रीन वाले टीवी की शुरुआत भी एलजी ने कर दी है। जनवरी के पहले सप्ताह में ही बर्लिन में होने वाले कंज्यूमर इलेक्ट्रॉनिक शो 2019 के दौरान ही एलजी इसे लॉन्च करने वाली है।

ऑटो में होगा नया

उड़ने वाली बाइक

जहाज को उड़ते देखकर अकसर लोग सोचते थे कि क्या पता कभी कार, बस और बाइक भी उड़ने लगें। वर्ष 2018 में कार और बस न सही उड़ने वाली बाइक की कल्पना हकीकत में आ गई। इसे होवर बाइक का नाम दिया गया है।

हालांकि कई लोग कहेंगे कि यह 2018 से पहले की बात है। 2018 इस बाइक की चर्चा इसलिए रही, क्योंकि दुबई पुलिस ने इसकी ट्रेनिंग शुरू कर दी है। अब तक यह बाइक परीक्षण की दौर से गुजर रहा था। 2020 में होवर बाइक को दुबई पुलिस में शामिल कर लिया जाएगा। यानी आने वाले सालों में आसमान में आपको होवर बाइक उड़ते हुए दिखाई देंगे।

सेल्फ ड्राइविंग कार

पिछले कुछ साल में आपने गूगल की सेल्फ ड्राइविंग कार से जुड़े एक्सपेरिमेंट्स के बारे में सुना होगा। कई ऑटोमोबाइल ब्रांड्स ऑटोनॉमस कार पर काम करने की घोषणा कर चुके हैं। टेस्ला ने सबसे पहले ऑटो-पायलट फंक्शन वाली कार बनाई थी। हालांकि इसका सीमित इस्तेमाल ही किया जा सकता है।
सेल्फ ड्राइव कारें डायरेक्शन के लिए वर्चुअल मैप पर निर्भर रहती हैं और सही ड्राइविंग के लिए सेंसर्स का सहारा लेती हैं। ये दोनों तकनीक मौजूद हैं और इनमें लगातार सुधार भी हो रहा है। ऐसे में उम्मीद की जा सकती है कि सेल्फ ड्राइविंग कारें जल्द ही कंज्यूमर्स के लिए उपलब्ध हो जाएंगी।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story