Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

GST की आज होगी बैठक, रोजमर्या में इस्तेमाल होने वाली ये चीजें हो सकती हैं सस्ती

वित्त मंत्री निर्मला सीता रमण राज्यों के साथ दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में करेंगी बैठक। इस दौरान जीएसटी से लेकर सेस को लेकर होगी चर्चा। फुटवियर से लेकर मोबाइल फोन हो सकते है सस्ते।

GST की आज होगी बैठक, रोजमर्या में इस्तेमाल होने वाली ये चीजें हो सकती हैं सस्ती

वस्तु एवं सेवा कर जीएसटी काउंसलिंग (GST Counsil) की शनिवार को दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में बैठक होगी। इस बैठक में सेस से लेकर कई वस्तुओं पर टैक्स (TAX) घटाने और बढ़ाने को लेकर भी चर्चा होगी। यहां होने वाले फैसले का असर आपकी जेब पर भी पड़ेगा । इसकी वजह बैठक में ऑटोमोबाइल (Automobile) पर लगने वाले सेस से लेकर टैक्स स्ट्रक्चर को लेकर दूर करने पर चर्चा होगी।

सस्ते हो सकते है मोबाइल फोन, फुटवियर समेत ये सामान

विज्ञान भवन में होने वाली इस बैठक की अध्यक्षता वित्त मंत्री (Finance Minister) निर्मला सीता रमण करेंगी। जानकारों की मानें तो बैठक (Meeting) में पब्लिक से सीधे जुडे सामान के बढ़ते दामों को काबू करने के लिए चर्चा हो सकती है। इसके साथ ही बैठक में (Mobile Phone) मोबाइल फोन, टेक्सटाइल (Textile) और फुटवियर सस्ते होने की संभावना है। इसकी वजह इन पर जीएसटी (GST) घटाया जा सकता है।

इन चीजों के बढ सकते हैं दाम

वही गाडी, ड्रिंक्स, टोबैको और धूम्रपान की चीजें महंगी होने की संभावना है। इसकी वजह इन पर सेस को बढ़ाने पर फैसला लिया जा सकता है। यह टैक्स (Tax) राज्यों को जीएसटी से होने वाले नुकसान की भरपाई करने के लिए बढ़ाया जा सकता है।

बैठक में राज्य उठा सकते हैं भरपाई का मुद्दा

काउंसिल की इस बैठक में राज्य जीएसटी से होने वाले नुकसान के मुद्दों को भी उठा सकते हैं। इसकी वजह कई राज्यों को सरकार से जीएसटी (GST) पर कटने वाली रकम का सही समय पर वापस न मिलना है। इसको लेकर कई राज्यों को खासा नुकसान उठाना पड़ा था। ऐसे में राज्य अपने नुकसान की भरपाई के लिए इस मुद्दे को वित्त मंत्री निर्मला सीता रमण (Finance Minister) के आगे रख सकते हैं।

सेस बढ़ाने से रेवेन्यू घटने का बना हुआ है डर

मीडिया रिपोट्र्स के अनुसार 'सेस में बढ़ोतरी की गुंजाइश बहुत ही कम है। इसी वजह हाल में आर्थिक मंदी होना है। इस मौके पर सेस बढ़ाया गया तो यह डर है कि जो भी रेवेन्यू अभी आ रहा है, वह भी बंद हो सकता है। इसके साथ ही जिन सामानों पर सेस लगाया गया है। उनके टैक्स बढ़ाने की भी कोई ठोस वजह नहीं है। हालांकि अभी क्या रहेगा। टैक्स से लेकर सेस और सामानों घटत और बढ़त बैठक में हुए फैसलों पर निभर करेगी।

Next Story
Top