Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

इन वजहों से बिटकॉइन में पैसे लगाना है खतरनाक, रिजर्व बैंक के बाद सरकार ने भी लोगों को किया आगाह

सरकार ने बिटकॉइन समेत तमाम वर्चुअल करेंसी (आभासी मुद्रा) के खतरे के प्रति लोगों को आगाह किया है।

इन वजहों से बिटकॉइन में पैसे लगाना है खतरनाक, रिजर्व बैंक के बाद सरकार ने भी लोगों को किया आगाह
X

सरकार ने बिटकॉइन समेत तमाम वर्चुअल करेंसी (आभासी मुद्रा) के खतरे के प्रति लोगों को आगाह किया है। साथ ही इसे एक तरह का पोंजी स्कीम माना है जिसमें भारी मुनाफे के लालच में लोग पैसा लगाते हैं, लेकिन बाद में मूल के भी लाले पड़ जाते है।

सरकार ने आगाह करते हुए कहा कि बिटकॉइन समेत वर्चुअल करेंसी एक तरह की आभासी मुद्रा है जिसकी कीमत हाल के दिनों में भारी तेजी से बढ़ी। इस तरह की मुद्रा को क्रिप्टो करेंसी के नाम से भी पुकारा जाता है।

पैसा लगाना यानि जोखिम उठाना

सरकार या किसी भी नियामक ने किसी भी एजेंसी, संस्था, कंपनी या बाजार मध्यस्थ को बिटकॉइन जारी करने का लाइसेंस दे रखा है। मंत्रालय का साफ तौर पर कहना है कि जो लोग भी इसमें पैसा लगा रहे हैं, वो अपने जोखिम पर ही ऐसा कर रहे हैं।

हैंकिंग, पासवर्ड व मैलवेयर जैसे खतरे

मंत्रालय के ये भी कहना है कि ऐसी मुद्रा इलेक्ट्रॉनिक रुपरुप में रखी जाती है। ऐसे में हैंकिंग, पासवर्ड भूलने और मैलवेयर के हमले जैसे खतरा हमेशा बना रहता है। अगर ऐसा कुछ भी हुआ तो पैसा पूरी तरह से डूब जाएगा।

ना तो नोट है और ना ही सिक्का

मंत्रालय का कहना है कि वर्चुअल करेंसी ना तो कागजी नोट के रुप में नजर आता है और ना ही धातु के सिक्के के तौर पर। लिहाजा वर्चुअल करेंसी ना तो नोट है और ना ही सिक्का।

रिजर्व बैंक भी कर चुका आगाह

सरकार के पहले रिजर्व बैंक भी लोगों को वर्चुअल करेंसी के प्रति तीन बार (दिसंबर, 2013, फरवरी 2017 और दिसंबर 2017) में आगाह कर चुका है। इस चेतावनी के बावजूद भी लोगों के बीच आकर्षण कम नहीं हुआ। इसी के बाद वित्त मंत्रालय को बयान जारी करना पड़ा है।

पोंजी स्कीम जैसी जोखिम

वर्चुअल करेंसी की कोई निहित कीमत नहीं है और ना ही उसके पीछे कोई संपत्ति होती है। ऐसे में कीमतों में उतार-चढ़ाव पूरी तरह से सट्टेबाजी है। इस आभासी मुद्रा में वास्तविक जोखिम है और जिस तरह से लोग पोंजी स्कीम में पैसा गंवाते है, वैसी ही स्थिति यहां भी हो सकती है।

आतंकी गतिविधियों पर भी शक

मंत्रालय को ये भी आशंका है कि ऐसी मुद्रा का इस्तेमाल आंतकी गतिविधियों के लिए पैसा मुहैया कराने, तस्करी, मादक दवाओं का व्यापार और गैरकानूनी तरीके से एक जगह से दूसरी जगह पैसा भेजने में किया जा सकता है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story