Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

खुशखबरी: दिल्ली-गुरुग्राम के बीच शुरू होगी मैट्रो जैसी ''पॉड'' टेक्सी सर्विस, इन देशों की लिस्ट में शुमार होगा भारत

4,000 करोड़ रुपये की यह परियोजना सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी की महत्वाकांक्षी परियोजना है।

खुशखबरी: दिल्ली-गुरुग्राम के बीच शुरू होगी मैट्रो जैसी पॉड टेक्सी सर्विस, इन देशों की लिस्ट में शुमार होगा भारत
X

देश की पहली बहुप्रतीक्षित पॉड टैक्सी वास्तविकता बनने की ओर अग्रसर है। एक उच्चस्तरीय समिति ने इसके लिए नए सिरे से बोलियां मंगाने की सिफारिश की है। भारत में पॉड टैक्सी के लिए अमेरिकी निकाय के नियमों की तर्ज पर कड़े सुरक्षा उपाय किये जायेंगे।

पॉड टैक्सी योजना को पर्सनल रैपिड ट्रांजिट (पीआरटी) के नाम से भी जाना जाता है। 4,000 करोड़ रुपये की यह परियोजना सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी की महत्वाकांक्षी परियोजना है।

यह भी पढ़ें- नए साल से इन स्मार्टफोन्स में नहीं चलेगा व्हाट्सएप, देखें पूरी लिस्ट

पीपीपी मॉडल पर लागू की जाएगी सर्विस

भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) को इस योजना को दिल्ली-गुरुग्राम रूट (12.30 किलोमीटर) में क्रियान्वित करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है। यह परियोजना सार्वजनिक निजी भागीदारी (पीपीपी) आधार पर लागू की जाएगी।

परिवहन विशेषज्ञ एस के धर्माधिकारी की अगुवाई वाली समिति ने इसके लिये नए सिरे से रुचि पत्र (ईओआई) जारी करने को कहा है। इसमें आटोमेटेड पीपल मूवर्स (एपीएम) मानकों और खूबियो के अलावा नीति आयोग की सिफारिशों से सामान्य सुरक्षा मानकों को शामिल किया जाएगा। इस पांच सदस्यीय समिति का गठन पीआरटी के तकनीकी और सुरक्षा मानकों के लिए किया गया है।

नीति आयोग कि आपत्तियों की वजह से हुआ विलंब

इस महत्वाकांक्षी परियोजना में नीति आयोग द्वारा कुछ आपत्तियों की वजह से विलंब हुआ है। आयोग ने राजमार्ग मंत्रालय से कहा है कि वह शुरुआती बोली लगाने वाली कंपनियों से एक किलोमीटर का पायलट मार्ग तैयार करने को कहे क्योंकि इसके बारे में सभी प्रौद्योगिकियों की अभी तक परख नहीं हुई है। इसके बाद देरी उच्चस्तरीय समिति के गठन की वजह से हुई। इस समिति को सुरक्षा और अन्य चीजों को तय करना है।

यह भी पढ़ें- खुशखबरी: 2018 तक ऑनलाइन शॉपिंग में भारत बनेगा अव्वल, जानें कितने अरब डॉलर का होगा कारोबार

धौला कुआं- मानेसर मार्ग की बदलेगी तस्वीर

गडकरी ने मीडिया से कहा, ‘‘बाधाएं दूर हो गई हैं, हम जल्द पॉड टैक्सी परियोजना के लिए निविदा जारी करेंगे। समिति की सिफारिशों के अनुरूप सुरक्षा चिंताओं को दूर किया जाएगा। यह धौला कुआं- मानेसर मार्ग पर भीड़भाड़ को कम करने के लिए एक प्रमुख कदम होगा और इससे परिवहन में क्रांति आएगी।

पीआरटी एक आधुनिक सार्वजनिक परिवहन प्रणाली है जिसमें ट्रैक्सी की तरह की फीडर और शटल सेवाएं देने के लिए आटोमेटेड इलेक्ट्रिक पॉड कार का इस्तेमाल किया जाता है। यह सेवा यात्रियों के छोटे समूह के लिए होगी।

समिति ने इच्छुक खिलाड़ियों के साथ विचार विमर्श के बाद ‘क्वोटेशन के लिए आवेदन' तैयार करने की सिफारिश की है। इसके अलावा समिति ने परीक्षण के खंड में प्रदर्शन के आधार पर आकलन की जरूरत भी बताई है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story