Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Google ने बनाया कुछ ऐसा Doodle, 44 साल पहले धरती से बाहर तारों को भेजा था पहला रेडियो अरेसिबो मैसेज

दुनिया की सबसे दिग्गज सर्च इंजन कंपनी Google ने आज अपना एक खास डूडल बनाया है। आज के दिन करीब 44 साल पहले इंसान ने धरती से बाहर तारों को पहला रेडियो मेसेज भेजा था

Google ने बनाया कुछ ऐसा Doodle, 44 साल पहले धरती से बाहर तारों को भेजा था पहला रेडियो अरेसिबो मैसेज
X

दुनिया की सबसे दिग्गज सर्च इंजन कंपनी Google ने आज अपना एक खास डूडल बनाया है। आज के दिन करीब 44 साल पहले इंसान ने धरती से बाहर तारों को पहला रेडियो मेसेज भेजा था और इस उपलब्धि को Google ने डूडल बनाकर सम्मानित किया है।

ये भी पढ़े: Facebook के मालिक मार्क जकरबर्ग का नया फरमान, आईफोन ना करें इस्तेमाल

रिसर्चर्स ने इस मेसेज को नाम अरसीबो मेसेज (Arecibo message) दिया था। दरअसल वैज्ञानिकों के एक दल ने Puerto Rico के जंगलों में अरसिबो ऑब्ज़र्वेटरी में इकट्ठे हुए और पहली बार धरती के बाहर रेडियो मेसेज भेजा था।

वैज्ञानिकों ने इस मैसेज में 3 मिनट का टाइम सेट किया था और इस मैसेज में 1,679 बाइनरी डिजिट्स (दो प्राइम नंबरों को मल्टीपल) था, जिनको एक ग्रिड यानी 23 कॉलम और 73 पंक्तियों में स्टोर किया था।

नंबरों की इस सीरीज का मुख्य टारगेट था कि सितारों का वह समूह था, जोकि पृथ्वी से M-13, 25,000 लाइट ईयर की दूरी पर था।

यह ब्रॉडकास्ट बहुत ताकतवर था, क्योंकि इस मैसेज ने अपने 305 मीटर के एंटीना से जुड़े अरसीबो के मेगावाट ट्रांसमीटर का इस्तेमाल किया था। इस ऐतिहासिक ट्रांसमिशन का मुख्य लक्ष्य अरसीबो की तरफ से हाल ही में अपग्रेड किए गए रेडियो टेलिस्कोप की क्षमताओं को दिखाना था।

ये भी पढ़े: ऐसे करें बिना इंटरनेट के ऐप्स को डाउनलोड, जानें पूरा तरीका

बता दें कि गूगल के अनुसार, भेजा गया अरसीबो मेसेज अपने तय लक्ष्य तक पहुंचने में करीब 25 हजार साल का वक्त लेगा, इसके लिए लोगों को लंबे समय का इंतजार करना पड़ेगा।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story