Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अब फेक न्यूज पर लगेगी लगाम ! गूगल और एप्पल ने उठाए सख्त कदम, जानें इसके बारे में

हाल ही के दिनों में इंटरनेट की दुनिया में फेक न्यूज काफी तेजी से वायरल हो रही है, इसके साथ ही फेक न्यूज और प्रोपगेंडा का चलन का कई दशकों से चल रहा है। आज के दौर में फेक न्यूज आसानी से लोगों तक पहुंच रही है।

अब फेक न्यूज पर लगेगी लगाम ! गूगल और एप्पल ने उठाए सख्त कदम, जानें इसके बारे में
X

हाल ही के दिनों में इंटरनेट की दुनिया में फेक न्यूज काफी तेजी से वायरल हो रही है, इसके साथ ही फेक न्यूज और प्रोपगेंडा का चलन का कई दशकों से चल रहा है। आज के दौर में फेक न्यूज आसानी से लोगों तक पहुंच रही है, इसके साथ ही फेक न्यूज को रोकने के लिए फेसबुक के साथ टि्विटर ने प्रतिदिन अपनी पॉलिसी में कई बदलाव किए है।

लेकिन अब तक फेक न्यूज पर सही से रोक नहीं लग सकी है, इसके साथ यह फेक न्यूज व्हाट्सएप के ग्रुप्स पर भी वायरल हो रही है। इसके साथ ही गूगल और एप्पल ने इस पर कड़े कदम उठाए है।

गूगल और एप्पल ने उठाए कदम

फेक न्यूज को रोकने के लिए गूगल और एप्पल ने सख्त कदम उठाए है, जिसका असर भी देखने को मिला है। इस तरह की खबर को रोकने के लिए दोनों कंपनियों ने आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और न्यूज कंटेट को सही से रिफाइन करने के लिए लोगों का सहारा लिया है।

एप्पल ने पत्रकारों को जोड़ा

एप्पल न्यूज की तरफ से पोस्ट होने वाली हर खबर को दुनियाभर के मश्हूर पत्रकार मैनेज करते है और इसके साथ ही फैक्ट को चेक करके उसमें सुधार करते है। वहीं एप्पल न्यूज में काम करने वाले पत्रकार अलग तरह के अलगॉरिदम का उपयोग खबर को चुनने में, मैनेज करने में और पोस्ट करने में करते हैं।

वहीं इसके लिए दर्जनो लोग इन न्यूज को को पढ़ते है और इसके फैक्ट को चैक करते है। एप्पल न्यूज और गूगल न्यूज आज के डिजिटल दौर में फेक न्यूज पर लगाम लगाने के लिए सख्त कदम उठा रहे हैं।

गूगल ने इस्तेमाल की आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस

गूगल न्यूज को कुछ दिनों पहली ही अपडेट किया है, मगर गूगल ने एप्पल से अलग हटकर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल किया है। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस की मदद से सुधार किए गए खबर में गलती होने की संभावना कम हो जाती है। यूजर्स को अपनी पसंद की न्यूज पड़ने के लिए गूगल पर लॉग ऑन करना पड़ता है।

बता दें कि फेसबुक और ट्विटर भी फेक न्यूज को रोकने के लिए कई सख्त कदम उठा चुकी है और इस पर भी काम कर रही है। लेकिन दोनों कंपनियों को गूगल और एप्पल से फेक न्यूज को रोकने का सही तरीका सीखना चाहिए और इस पर सही से काम करना चाहिए।

वहीं इसके अलावा अपनी पॉलिसी में बदलाव करके पोस्ट हुई खबर को वेरिफाई करना जूरूरी होता है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story