Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Facebook डेटा चोरी मामले ने जकरबर्ग ने मानी गलती, पोस्ट करके बताया किए जाएंगे कड़े बदलाव

पिछले दो दिनों से डेटा चोरी मामले में विश्व की सबसे बड़ी सोशल नेटवर्किंग साइट Facebook चर्चा में बना हुआ है। इसी बीच Facebook के सीईओ और संस्थापक मार्क जकरबर्ग ने इस विवाद पर चुप्पी तोड़ते हुए पोस्ट लिखा है।

Facebook डेटा चोरी मामले ने जकरबर्ग ने मानी गलती, पोस्ट करके बताया किए जाएंगे कड़े बदलाव

पिछले दो दिनों से डेटा चोरी मामले में विश्व की सबसे बड़ी सोशल नेटवर्किंग साइट Facebook चर्चा में बना हुआ है। इसी बीच Facebook के सीईओ और संस्थापक मार्क जकरबर्ग ने इस विवाद पर चुप्पी तोड़ते हुए पोस्ट लिखा है।

जकरबर्ग ने अपनो पोस्ट में बताया कि कंपनी ने इस मामले में अभी तक कई कदम उठाए हैं और कंपनी आगे भी कई कड़े कदम उठा सकती है। साथ ही जकरबर्ग ने कैम्ब्रिज एनालिटिका के मामले में अपनी गलती को कबूला है।

जकरबर्ग ने पोस्ट में लिखा कि लोगों के डेटा को सुरक्षित रखना हमारी जिम्मेदारी है, अगर हम इसमें फेल होते हैं तो ये हमारी गलती है। उन्होंने कहा कि हमने इसको लेकर पहले भी कई कदम उठाए थे, हालांकि हमसे कई गलतियां भी हुईं लेकिन उनको लेकर काम किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें- IBM ने बनाया दुनिया का सबसे छोटा कंप्यूटर, कीमत मात्र 7 रुपए

उन्होंने आगे लिखा कि फेसबुक को मैंने शुरू किया था, इसके साथ अगर कुछ भी होता है तो इसकी जिम्मेदारी मेरी ही है। हम अपनी गलतियों से सीखने की कोशिश करते रहेंगे, हम एक बार फिर आपका विश्वास जीतेंगे।

अपने फेसबुक पोस्ट में जकरबर्ग ने पूरे मामले को समझाया और लिखा कि 2007 में हमने फेसबुक में कई तरह की चीज़ों को अपडेट किया। इसमें दोस्तों के जन्मदिन, एड्रेस बुक, मैप्स जैसे कई एप्स शामिल थे, इसके लिए हमने फेसबुक यूज़र से कुछ जानकारी ली, जिसमें उनके दोस्त कौन हैं जैसी जानकारी शामिल थी।

किए जाएंगे कड़े बदलाव

जकरबर्ग ने अपने पोस्ट में लिखा कि पिछले हफ्ते में हमें पता लगा कि कंपनी ने यूजर्स का डेटा डिलीट नहीं किया है। जिसके बाद हमनें उन्हें हमारी सर्विस को यूज़ करने से बैन कर दिया। जकरबर्ग ने अपने पोस्ट में ये भी बताया कि वह किस तरह आगे ऐसी डेटा चोरी की घटनाओं को रोकेंगे।

उन्होंने लिखा कि फेसबुक अब सभी एप्लिकेशन की जांच करेगा, जो उनके साथ जुड़ी हुई हैं, जो भी डेवलपर ऑडिट करवाने को राज़ी नहीं होगा, उसे बैन किया जाएगा

इसके अलावा अगर आपने किसी एप को तीन महीने तक यूज़ नहीं किया है, तो डेवलेपर से आपका डेटा वापिस ले लिया जाएगा। वहीं ऐप को दिया जाने वाला डेटा अब सिर्फ नाम, प्रोफाइल फोटो और ईमेल एड्रेस तक ही सीमित रखा जाएगा।

उन्होंने बताया कि हम अगले एक महीने में न्यूज़ फीड में कुछ बदलाव करेंगे, जिससे यूज़र कुछ ऐप से अपने आप को साइन आउट कर सकेगा। ये टूल अभी भी सेटिंग में मौजूद है, लेकिन अब इसे न्यूज़ फीड में लाया जाएगा।

यह भी पढ़ें- टाटा मोटर्स ने 60 हजार तक बढ़ाए कारों के दाम, 1 अप्रैल से ये कंपनियां भी बढ़ा सकते हैं कीमत

इन आरोपों की वजह से हुआ विवाद

गौतरलब है कि अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव में डोनाल्ड ट्रम्प की मदद करने वाली एक फर्म ‘कैम्ब्रिज एनालिटिका’ पर लगभग 5 करोड़ फेसबुक यूजर्स के निजी जानकारी चुराने के आरोप लगे हैं।

इस जानकारी को कथि‍त तौर पर चुनाव के दौरान ट्रंप को जिताने में सहयोग और विरोधी की छवि खराब करने के लिए इस्तेमाल किया गया है।

Next Story
Top