Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

क्रूड ऑयल के दामों में इतिहास में हुई सबसे बड़ी गिरावट, बंद बोतल पानी से भी नीचे पहुंचे दाम

कोरोना वायरस के संकट के चलते दुनिया में घट रही तेल की डिमांड से दामों में आ रही भारी गिरावट

क्रूड ऑयल के दामों में इतिहास में हुई सबसे बड़ी गिरावट, बंद बोतल पानी से भी नीचे पहुंचे दाम
X

कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण की मार झेल रहे क्रूड ऑयल (Crude Oil) के दामों ने सोमवार को न्यूयॉर्क में इतिहास में सबसे निचले स्तर को छू लिया। इसकी वजह (WTI) डब्ल्यूटीआई में कच्चे तेल की कीमत सोमवार को गिरकर जीरो डॉलर प्रति बैरल से भी नीचे पहुंच गई। जबकि कारोबार की शुरूआत 18.27 डॉलर प्रति बैरल से हुई थी, लेकिन अचानक ही इसके दाम जीरो डॉलर और उसके कुछ मिनटों बाद ही उससे भी कम होकर निगेटिव (Oil Price Fall) में पहुंच गये। कच्चे तेल की कीमतों ये एतिहासिक गिरावट है। इसकी वजह दुनिया भर में फैला कोरोना वायरस और देशों में लगे लॉकडाउन को माना जा रहा है। जिसका सीधा असर कच्चे तेल पर देखने को मिल रहा है।

कच्चे तेल की मांग घटने से कीमतों में हो रही भारी गिरावट

जानकारों के अनुसार, कोरोना वायरस (Coronavirus के संक्रमण और देशों में लॉकडाउन (Lockdown) के बीच तेल की खपट काफी मात्रा में घट गई है। ऐसे में कई देशों के पास पहले से ही तेल के भंडारण है। उनके पास तेल को स्टोर (Oil Store) करने तक की भी जगह नहीं है। जिसके चलते मार्केट में तेल खरीद लगभग आधी से भी कम हो गई है। वहीं तेल के सबसे बड़े निर्यातक (OPEC) और इसके सहयोगी रूस जैसे देश पहले ही तेल के उत्पादन में रिकॉर्ड कमी लाने पर सहमत हो चुके थे। अमेरिका और बाकी देशों ने ने भी तेल उत्पादन में कमी लाने का फैसला किया थाा। इसके बीच कोरोना के चलते बंद हुए उद्योग से खपत घटने के साथ ही ज्यादातर देशों के पास पहले से ही जरूरत से कही ज्यादा कच्चा तेल मौजूद है।

कोरोना वायरस के संक्रमण फैलने के बाद गिरावट झेल रहा क्रूड ऑयल

क्रूड ऑयल में गिरावट आना अब नई बात नहीं रह गई है। हालांकि इसमें एतिहासिक गिरावट आना चिंता का विषय जरूर बन गया है। दरअसल, मार्केट आंकडे देखें तो (Covid 19) कोरोना वायरस के संक्रमण के देश दुनिया में फैलने के साथ ही क्रूड ऑयल (Crude Oil) नीचे की तरफ गिरता चला गया। दिनों दिन (Crude Oil Price Fall) तेल की कीमतों में गिरावट आती जा रही है। इसकी वजह तेल की डिमांड में भारी कटौती होना है। वहीं भारत की बात करें तो यहां कच्चे तेल की कीमत बंद बोतल पानी के बराबर और उससे भी कम हो गये है। हालांकि लॉकडाउन खुलने के बाद इसमें सुधार संभव है।

Next Story