Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

2030 तक बंद हो जाएंगे देश के 53 हजार पेट्रोल पंप!

तेल कंपनियों ने पेट्रोलियम के कारोबार के लिए करोड़ों का निवेश किया है।

2030 तक बंद हो जाएंगे देश के 53 हजार पेट्रोल पंप!
X

सरकार की स्वच्छ ईंधन और पर्यावरण के लिए गंभीरता की वजह से 2030 तक देश का 20 लाख करोड़ रुपया बचाया जा सकता है। एक रिपोर्ट के मुताबिक Car-Pool, Electric व Connected Mobility प्रणाली अपनाने से भारत में तेल के आयात में गिरावट आ सकती है। इस वजह से देश के करोड़ो रुपये को बचाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें- खुशखबरी: कार में आएगी खराबी तो यह कंपनी वापस करेगी पूरे पैसे

इन तरीकों से देश के करोड़ों रुपये बचेंगे

FICCI व रॉकी माउंटेन इंस्टीट्यूट की रिपोर्ट के मुताबिक इन तरीकों को अपनाकर 2030 तक 4.60 करोड़ वाहन बेचे जा सकते हैं। इनमें Two-Wheelers, Three-Wheelers और Four-Wheelers शामिल होंगे। रिपोर्ट में यह कहा गया है कि पश्चिमी देशों में निजी वाहन ज्यादा खरीदे जाते हैं।

इसी को देखते हुए भारत Car-Pool, Electric व Connected Mobility प्रणाली को विकसित कर सकता है। इससे Electric वाहनों के क्षेत्र में भारतीय कार कंपनियों को भी वैश्विक स्तर पर आगे आने का मौका मिलेगा।

यह भी पढ़ें- कार बनाने वाली इस भारतीय कंपनी ने अमेरिका में खोला मैन्युफैक्चरिंग प्लांट, बनाएंगे इलेक्ट्रिक वाहन

Electric वाहन से लगेगा प्रदूषण पर लगाम

भारत में 2030 तक 20 लाख करोड़ रुपये के साथ-साथ 87.60 करोड़ मीट्रिक टन तेल भी बचेगा। इतना ही नहीं 1 गीगा-टन कार्बन-डाइऑक्साइट का उत्सर्जन भी रोका जा सकता है। जिसकी वजह से प्रदूषण पर भी लगाम लगाया जा सकता है।

इस रिपोर्ट में Electric वाहनों को लेकर चुनौतियां बताते हुए कहा गया कि इनकी कीमत, चार्जिंग की सुविधा के साथ ही उपभोक्ताओं में जागरुकता लाने के लिए काफी काम करना पड़ेगा।

यह भी पढ़ें- Bajaj Dominar 200: जबरदस्त इंजन के साथ जबरदस्त माइलेज, जानें कीमत और फीचर्स

रिपोर्ट में हुआ खुलासा

Electric कारों के आने से सबसे ज्यादा असर पेट्रोल पंपों पर ही पड़ेगा। इस समय देश में कुल 53 हजार पेट्रोल पंप है। सरकारी तेल कंपनियां IOCL, HPCL, BPCL और निजी कंपनी Reliance ने तेल के कारोबार में अरबों डॉलर का निवेश किया हैं।

इतना ही नहीं देश में अभी तक की सबसे बड़ी रिफाइनरी महाराष्ट्र में लगाने की योजना अपने अंतिम चरण में है। सवाल यह है कि इन 53 हजार पेट्रोल पंपों के साथ इन रिफाइनरियों का भविष्य क्या होगा? क्या पेट्रोल पंपों को Electric कारों को चार्जिग करने वाले डिपो के तौर पर तब्दील कर दिया जाएगा?

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story