Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

ALERT! बड़े नुकसान से बचना है तो हर हाल में निपटा लें 31 December से पहले ये काम

आज हम आपको ऐसे कामों के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें अगर आप 31 दिसंबर, 2021 की तय तिथि से पहले पूरा नहीं करेंगे तो आपको बड़ा नुकसान हो सकता है।

ALERT! बड़े नुकसान से बचना है तो हर हाल में निपटा लें 31 December से पहले ये काम
X

बस कुछ ही दिनों में हम साल 2021 को बाय-बाय कर देंगे और साल 2022 का स्वागत कर रहे होंगे। इससे पहले क्यों उन कामों को निपटा लिया जाए जिसे बाद में करने पर हमें ज्यादा भरपाई भरना पड़ सकता है। आज हम आपको ऐसे कामों के बारे में बताने जा रहे हैं जिन्हें अगर आप तय तिथि से पहले पूरा नहीं करेंगे तो आपको बड़ा नुकसान हो सकता है। आइए आपको बताते हैं कि 31 से पहले किन-किन कार्यों का कर लेना आपके लिए सही रहेगा...

ITR फाइल

31 दिसंबर, 2021 से पहले फाइनेंशियल ईयर 2020-21 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न (Income Tax Return) फाइल कर लें, क्योंकि इसके लिए ये आखिरी तारीख है। एक्सपर्ट की मानें तो तय तिथि के बाद अगर आप ITR फाइल करते हैं तो आपको जुर्माना भरना पड़ सकता है। डेडलाइन से पहले ITR फाइल करने पर आप नोटिस आने से भी बच सकते हैं।

कम ब्याज पर होम लोन

अगर आप होम लोने (Home Loan) लेने की सोच रहे हैं तो 31 दिसंबर से पहले बैंक ऑफ बड़ौदा (Bank Of Baroda) से इसका लोन ले सकते हैं। कंपनी की ओर से त्योहारी सीजन में कम ब्याज पर होम लोन (Low Interest on Home Loan) दिया जा रहा है। ऐसे में आप अगर 31 दिसंबर तक होम लोन लेते हैं तो आपको इस पर सिर्फ 6.50 प्रतिशत ब्याज देना पड़ेगा। खासियत है कि इसका फायदा न केवल नए लोन लेने वालों को होगा बल्कि अन्य बैंकों से ट्रांसफर होकर आए ग्राहक भी इसका लाभ उठा सकेंगे। हालांकि, इसके लिए आपको 31 दिसंबर से पहले अप्लाई करना होगा।

पीएफ खाताधारकों के लिए नॉमिनी जरूरी

इम्प्लॉई प्रोविडेंट फंड ऑर्गेनाइजेशन (EPFO) द्वारा अपने सभी PF अकाउंट होल्डर के लिए नॉमिनी जोड़ना अनिवार्य कर दिया है। इसके लिए EPFO ने अंतिम तारीख 31 दिसंबर, 2021 रखी है। अगर कोई PF अकाउंट होल्डर ऐसा नहीं करता है तो उनके लिए कई मुश्किले बड़ सकती हैं। इसके लिए आप EPFO की साइट पर भी जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।

ऑडिट रिपोर्ट करें फाइल

ऑडिट रिपोर्ट (Audit Report) फाइल करने के लिए भी आखिरी तारीख 31 दिसंबर तय है। बता दें कि जिन व्यापारियों की सालाना कमाई 10 करोड़ से अधिक होती है उन्हें इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने के साथ ऑडिट रिपोर्ट भी फाइल करनी पड़ती है। इसके अलावा जिनकी 50 लाख रुपये से अधिक इनकम है उन्हें भी ऑडिट रिपोर्ट देना होता है।

और पढ़ें
Next Story