Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अमेरिका में राहत पैकेज न आने की आशंका से डूबा शेयर बाजार, एक झटके में डूबे 3 लाख करोड़ रुपये

सेंसेक्स से लेकर निफ्टी50 में आई भारी गिरावट। निवेशकों को हुआ भारी नुकसान।

कोरोना वायरस के चलते औंधे मुंह गिरा शेयर बाजार, एक मिनट में निवेशकों 4 लाख करोड़ डूबे
X
कोरोना वायरस के चलते औंधे मुंह गिरा शेयर बाजार, एक मिनट में निवेशकों 4 लाख करोड़ डूबे

अमेरिका में चुनाव के बीच राहत पैकेज घोषित होने की आशंका का असर गुरुवार को दुनियाभर के शेयर बाजारों पर भारी पड गया। इसकी वजह एशियाई से लेकर यूरोपीय और अब भारतीय घरेलू शेयर बाजार में भी भारी गिरावट दर्ज की गई है। यही वजह है कि शेयर बाजार के आखिरी पहर तक सेंसेक्स और निफ्टी50 में कई अंक नीचे पहुंच गई है। उधर रिपोर्ट का दावा है कि अचानक आई गिरावट से शेयर बाजार में निवेशकों का 3 लाख करोड़ रुपये से भी ज्यादा का नुकसान हुआ है। हालांकि एक्सपर्टस का दावा है कि इस समय में निवेशकों को घबराने की जगह धैर्य रखने की जरूरत है। बस उन्हें निचले स्तर के शेयरों में निवेश करने पर अच्छे रिटर्न मिल सकते हैं।

शेयर बाजार में आई भारी गिरावट

दरअसल गुरुवार को शेयर बाजार में सेंसेक्स और निफ्टी50 दोनों में ही भारी गिरावट दर्ज की गई है। यहां शाम के पहर तक सेंसेक्स 1074 अंक गिरकर 39720 पर बंद हुआ। जबकि निफ्टी 300 अंक गिरकर 11671 पर बंद हुई है। वहीं बैंक निफ्टी की बात करें तो यह 843 अंक टूटकर 23030 पर बंद हुई है। अचानक शेयर बाजार में आई गिरावट से निवेशकों को भारी नुकसान उठाना पडा है। हालांकि एक्सपर्टस का दावा है कि इस स्थिती में निवेशकों को समझकर काम लेना चाहिए। वह इस समय को भुनाकर अपने हक में कर लाभ भी कमा सकते हैं।

इस वजह से आई शेयर बाजार में गिरावट

शेयर बाजार में गिरावट आने की वजह अमेरिका में आने वाले राहत पैकेज आने की संभावनाओं का कम होना है। दावा है कि अगर बड़ी रकम अमेरिकी अर्थव्यवस्था में डाली जाएगी तो उसका असर दुनियाभर में दिखेगा। यही वजह है कि ग्लोबल से लेकर घरेलू मार्केट में तेज बिकवाली है। वहीं बीते दिन यानि बुधवार की बात करें तो अमेरिका के ट्रेजरी सेक्रेटरी (वित्त मंत्री) का बड़ा बयान सामने आया था। इसमें उन्होंने कहा कि अमेरिका में चुनाव से पहले राहत पैकेज मुमकिन नहीं है। वहीं एक्सपर्ट का दावा है कि अमेरिकी राष्ट्रपति के चुनाव तक दुनियाभर के बाजारों में तेज उठा-पटक देखने को मिलती रहेगी। इसमें उन्होंने कहा कि निवेशकों को परेशान होने की जरूरत नहीं है। क्योकिं उन्हें इसका फायदा भी मिल सकता है।

Next Story