Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

क्यों रात 9 बजे बंद होंगें पाकिस्तान के सबसे बड़े शहर कराची के बाजार!, जानिए वजह

पाकिस्तान के गृह सचिव डॉ सईद अहमद मंगनेजो ने बताया की कराची शहर के सभी बाजार, दुकान और शॉपिंग मॉल को रात 9 बजे तक बंद करने के आदेश दिए गए हैं, जबकि शादी घर और रेस्तरां को रात 10.30 बजे तक बंद करने का निर्देश दिया गया है।

क्यों रात 9 बजे बंद होंगें पाकिस्तान के सबसे बड़े शहर कराची के बाजार!, जानिए वजह
X

कराची एक मेट्रोपोलिटन शहर होने के नाते अपने रेस्तरां, बाजार, मॉल, सिनेमाघर, शादी के हॉल के साथ-साथ अपनी दिलचस्प नाइटलाइफ़ के लिए लोकप्रिय है, सभी आउटलेट देर रात तक खुले रहते हैं। कराची की सड़कों पर रौनक लगी रहती है। यहाँ भी भारत के दिल्ली-मुंबई जैसे बड़े शहरों की तरह रातों को रोशन रहता है। लोग रातभर आते-जाते और घूमते-फिरते मिलेंगे।

पाकिस्तान के सबसे बड़े शहर कराची प्रभावित है क्योंकि सिंध प्रांत सरकार ने सभी शॉपिंग मॉल, बाज़ार, विवाह हॉल और रेस्तरां को जल्दी बंद करने का निर्देश दिया है। शुक्रवार को सिंध प्रांत की प्रांतीय सरकार ने इस कदम को ऊर्जा संकट को दूर करने तथा पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था को सहयोग के लिए जरुरी बताया है। गृह सचिव डॉ सईद अहमद मंगनेजो ने कहा कि हम मौजूदा वक़्त में आपातकालीन ऊर्जा संकट का सामना कर रहे हैं। हमें ऐसे उपाय करने की जरूरत है जो स्थिति को नियंत्रित करने के लिए आवश्यक हैं। मंगनेजो ने बताया की कराची शहर के सभी बाजार, दुकान और शॉपिंग मॉल को रात 9 बजे तक बंद करने के आदेश दिए गए हैं, जबकि शादी घर और रेस्तरां को रात 10.30 बजे तक बंद करने का निर्देश दिया गया है। अधिकारी ने कहा, यह उपाय न केवल ईंधन और बिजली की बर्बादी को कम करेंगे, बल्कि मौजूदा बिजली की कमी से रहत देंगे। इसे लोड शेडिंग के तत्काल समाधान के रूप में भी देखा जा सकता है, जिससे बिजली की मांग और आपूर्ति के बीच की कमी को कम किया जा सके। लंबी बिजली कटौती और लोड शेडिंग के कारण कराचीवासियों की रातों की नींद उड़ी हुई है।

मंगनेजो ने बताया सिंध सरकार की निर्देशों का उल्लंघन करने वाले लोगों के खिलाफ स्टेशन हाउस अधिकारियों (एसएचओ) भी शिकायत दर्ज करने के लिए अधिकृत किये गए हैं। केंद्र सरकार के द्वारा शनिवार को पंजाब प्रांत के लिए भी कुछ इस जैसा ही निर्देश जारी किया गया है। पिछले दिनों में डॉलर के मुकाबले पाकिस्तानी रुपया 208 तक गिर चूका है। डॉलर की कीमतें बढ़ने के साथ ही सरकार ईंधन, ऊर्जा और अन्य वस्तुओं के आयात के बोझ को झेलने में असमर्थ साबित हो रही है। पाकिस्तान ने अपने इस बजट में ही कई गैर-आवश्यक वस्तुओं के आयात पर प्रतिबंध लगा दिया था।

और पढ़ें
Next Story