Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

SBI ने ग्राहकों को दी बड़ी राहत, अब आसानी से जमा करवा सकेंगे अपने केवाईसी अस्तावेज

भारतीय स्टेट बैंक ने ग्राहकों को बड़ी राहत दी है। बैंक ने कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर के चलते स्थानीय स्तर पर लागू किए जा रहे लॉकडाउन से ग्राहकों को होने वाली कठिनाइयों के मद्देनजर डाक या मेल के जरिए केवाईसी दस्तावेज जमा कराने की इजाजत दी है।

कोरोना से लड़ने आगे आया SBI Bank, संक्रमितों की मदद के लिए 71 करोड़ रुपये करेगा आवंटित, इन पैसों से मिलेगी ये सुविधा
X

एसबीआई बैंक दान

नई दिल्ली। देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों की वजह से एक बार फिर से महामारी जैसे हालात पैदा हो रहे हैं। इस घातक बीमारी ने आम लोगों की तो परेशानी बढ़ा ही दी है साथ ही सरकार के माथे पर भी चिंता की लकीरें पैदा कर दी हैं। ऐसी स्थिति में भारतीय स्टेट बैंक (State Bank Of India) ने ग्राहकों को बड़ी राहत दी है। बैंक ने कोविड-19 महामारी की दूसरी लहर के चलते स्थानीय स्तर पर लागू किए जा रहे लॉकडाउन (Lockdown) से ग्राहकों को होने वाली कठिनाइयों के मद्देनजर डाक (Post) या मेल (Mail) के जरिए केवाईसी दस्तावेज (KYC Documents) जमा कराने की इजाजत दी है। एसबीआई ने 30 अप्रैल को अपने सभी 17 स्थानीय प्रधान कार्यालयों के मुख्य महाप्रबंधकों को एक संचार में कोविड-19 संक्रमण के मामलों एक बार फिर बढ़ोतरी के मद्देजनर शाखा (Branch) में ग्राहक की प्रत्यक्ष उपस्थिति के बिना डाक या मेल के जरिए केवाईसी दस्तावेज अनुरोध स्वीकार करने की सलाह दी। अब सार्वजनिक क्षेत्र के दूसरे बैंकों द्वारा भी ऐसा ही किए जाने की उम्मीद है।

केवाईसी अपडेट (KYC Update) उच्च जोखिम वाले ग्राहकों को कम से कम दो साल में एक बार, मध्यम जोखिम वाले ग्राहकों को आठ साल में एक बार और निम्न जोखिम वाले ग्राहकों को हर दस साल में एक बार करना पड़ता है। कई राज्यों में स्थानीय प्रतिबंध या लॉकडाउन के मद्देनजर शाखाओं को डाक के माध्यम से दस्तावेज भेजकर केवाईसी अपडेट कराया जा सकता है। साथ ही यह भी सुनिश्चित करने के लिए कहा गया कि केवाईसी अपडेट नहीं होने के कारण 31 मई तक ग्राहकों के खातों को आंशिक रूप से बंद न किया जाए। ये निर्देश तत्काल प्रभाव से लागू हैं।

Next Story