Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

अब एक ही पोर्टल से उठा सकेंगे सरकार की योजनाओं का लाभ, जानिए कैसे?

सूत्रों की मानें तो "न्यूनतम सरकार, अधिकतम शासन" दृष्टिकोण के तहत मोदी सरकार विभिन्न योजनाओं को एक ही पोर्टल पर लाने की तैयारी में है। इसमें 15 ऋण आधारित सरकारी योजनाएं एकसाथ शामिल होंगी।

अब एक ही पोर्टल से उठा सकेंगे सरकार की योजनाओं का लाभ, जानिए कैसे?
X

सरकार द्वारा कई योजनाओं (Government Schemes) को चलाया जाता है। जिसका लाभ उठाने के लिए अब दफ्तरों के चक्कर लगाने की जरूरत नहीं होती है। घर बैठे आसानी से ऑनलाइन प्रक्रिया से योजनाओं (Govt Scheme Online) का फायदा उठा सकते हैं। इन तमाम योजनाओं की अलग-अलग वेबसाइट्स है। हालांकि, अब एक ऐसा पोर्टल शुरू किया जा रहा है जिसके जरिए एक ही जगह पर सरकार की 15 सरकारी योजनाओं (Government Schemes Portal) का एकसाथ लाभ उठा सकते हैं।

आपको बता दें कि आम आदमी के जीवन को आसान बनाने के लिए सरकार "साझा पोर्टल" (Common Portal) लाने की तैयारी में है। इसका उद्देश लोगों तक एक ही प्लेटफॉर्म पर विभिन्न योजनाओं को एकसाथ लाना है। इस पोर्टल का पायलट परीक्षण किया जा रहा है। सूत्रों की मानें तो "न्यूनतम सरकार, अधिकतम शासन" दृष्टिकोण के तहत मोदी सरकार विभिन्न योजनाओं को लाने की तैयारी में है। "साझा पोर्टल" में पीएम आवास, उज्जवल समेत 15 ऋण आधारित सरकारी योजनाओं एकसाथ शामिल किया जाएगा।

धीरे-धीरे होगा योजनाओं का विस्तार

ऐसा भी बताया जा रहा है कि इस पोर्टल पर योजनाओं को धीरे-धीरे विस्तार किया जाएगा। इसके पीछे का कारण ये है कि कई एजेंसियों की कुछ केंद्र प्रायोजित योजनाओं में भागीदारी है। इनमें प्रधानमंत्री आवास योजना और ऋण से संबंधित पूंजीगत सब्सिडी योजना (CLCSS) जैसी योजनाएं हैं, जिनका संचालन अलग-अलग मंत्रालय द्वारा किया जा रहा है। ये ही देखते हुए सरकार एक ही पोर्टल पर अलग-अलग योजनाओं को एक साथ लाने की तैयारी में है। ऐसे में लाभार्थियों योजना के लिए परेशान होना नहीं पड़ेगा।

शुरू हो गया है पोर्टल का परीक्षण

साझा पोर्टल का पायलट परिक्षण शुरू कर दिया गया है। इसकी शुरुआत करने से पहले सरकार हर पहलुओं की जांच कर आ रही समस्याओं को दूर करेगी। इसके बाद ही इस पोर्टल को पेश किया जाएगा। इसका पायलट परिक्षण स्टेट बैंक ऑफ इंडिया और दूसरे ऋणदाताओं द्वारा किया जा रहा है। ऐसा भी बताया जा रहा है कि इस मंच पर राज्य सरकार और अन्य संस्थाएं अपनी योजनाएं शामिल कर सकती है।

और पढ़ें
Next Story