Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोरोना महामारी के बीच गूगल भारतीयों को दे रहा कमाई के अवसर, जानिए क्या है प्लान?

गूगल ने भारतीयों के लिए एक सर्विस की शुरुआत की है जिसके बेरोजगारों के लिए कमाई के अवसर प्रदान होंगे। रिपोर्ट के मुताबिक, गूगल भारत में 'टास्क मेट' सर्विस की टेस्टिंग कर रही है।

कोरोना महामारी के बीच गूगल भारतीयों को दे रही कमाई के अवसर, जानिए क्या है प्लान?
X

गूगल टास्क मेट सर्विस

नई दिल्ली। पूरी दुनिया में कोरोना वायरस ने तबाही मचाई हुई है। भारत में कोरोना ने कहर बरपाया हुआ है। इस महामारी के दौर में खासकर युवा बेरोजगार हो गए हैं। ऐसे में गूगल ने भारतीयों के लिए एक सर्विस की शुरुआत की है जिस से बेरोजगारों के लिए कमाई के अवसर मिलेंगे। रिपोर्ट के मुताबिक, गूगल भारत में 'टास्क मेट' Task Mate सर्विस की टेस्टिंग कर रही है। सर्विस के जरिए यूजर स्मार्टफोन पर ही दिए गए टास्कों को पूरा कर सकेंगे, जिसके बदले में उन्हें भुगतान किया जाएगा। बता दें कि यह सर्विस अभी टेस्टिंग फेज में है। फिलहाल, अर्ली एक्सेस रेफरल कोड हासिल करने वाले यूजर्स ही ऐप डाउनलोड कर सकेंगे।

कैसे काम करती है सर्विस

रिपोर्ट के मुताबिक, टास्क मेट सर्विस, काफी हद तक कंपनी के ओपिनियन रिवार्ड्स ऐप के समान ही है, जिसमें यूजर्स को सवालों के जवाब देने के बदले में Play Store प्ले स्टोर क्रेडिट मिलते हैं। हालांकि, इसमें सबसे बड़ा अंतर यह है कि- गूगल ऐप स्टोर से कमाई सीमित होने के बजाए, टास्क मेट यूजर्स अपने भुगतान को कैश करा सकेंगे ताकि रोजमर्रा की जरूरतों में उसे खर्च कर सकें। इसका ओवरऑल फ्रेमवर्क काफी सिंपल है। यूजर को 'टास्क नियरबाय' सर्च करना होगा और तय करना होगा कि किस काम को वह पूरा करना चाहते हैं।

टास्क या तो दुनियाभर के गूगल बिजनेस में से कुछ हो सकता है या गूगल से ही हो सकता है। बिजनेस टास्क या तो सिटिंग वर्क हो सकता है या फील्ड वर्क भी हो सकता है। फील्ड वर्क के लिए यूजर को अपने नजदीकी लैंडमार्क या दुकानों पर जाने की आवश्यकता हो सकती है। गूगल के काम आमतौर पर कंपनी की सर्विस पर आधारित होंगे। उदाहरण के तौर पर 'बोले हुए वाक्य को रिकॉर्ड करना', 'दुकानों की डिटेल चेक करना' या 'पिन में दिखाई गई लोकेशन पर जाकर दुकान की फोटो खींचना'। फिलहाल, यूजर्स को किसी काम को पूरा करने में कितना समय लग सकता है, इसकी कोई समय सीमा नहीं है। काम पूरा हो जाने के बाद, यूजर अपने ई-वॉलेट या पेमेंट पार्टनर को रजिस्टर्ड करके, फंड अपने बैंक अकाउंट में ट्रांसफर करके कैश करा सकते हैं।

Next Story