Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

टिकटॉक लेने की दौड़ में शामिल नहीं है Google, सीईओ गूगल पिचाई किया साफ

अल्फाबेट और गूगल के CEO सुंदर पिचाई ने कहा कि वह टिकटॉक को लेना नहीं चाहते हैं। वह इस ऐप को खरीदने की दौड में भी नहीं हैं।

Google के CEO सुंदर पिचाई की प्रेम कहानी शुरू हुई थी दोस्ती से, जानें उनकी दिलचस्प Love Story
X
गूगल के CEO सुंदर पिचाई की प्रेम कहानी (फाइल फोटो)

कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन के बाद से ही (Chinese TikTok App) चाइनीज ऐप टिकटॉक सुर्खियों में बना हुआ है। भारत में इसके बैन के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति ने भी टिकटॉक को बेचने के बाद ही देश में चलते रहने की अनुमति देने की बात कही है। ऐसे में (TikTok App) टिकटॉक ऐप को खरीदने को लेकर कई कंपनियां सजग हो गई है। जिसमें (Microsoft) माइक्रॉसोफ्ट से लेकर गूगल का नाम चल रहा है। वहीं गूगल के सीईओ ने (Google Ceo) टिकटॉक की खरीद में शामिल होने से साफ इनकार कर दिया है।

दरअसल, टिकटॉक चीनी (Chinese TikTok App) शॉर्ट-वीडियो मेकिंग ऐप के अधिग्रहण करने की दौड़ में गूगल नहीं है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, गूगल के सुंदर पिचाई ने कहा कि उनकी कंपनी टिकटॉक को खरीदने में रुचि नहीं रखती है। उन्होंने आगे कहा कि (ByteDance) बाइटडांस स्वामित्व वाली यह ऐप (Google Cloud) गूगल की क्लाउड सेवाओं का उपयोग करने के लिए भुगतान भी करती है। इसके साथ ही टिकटॉक के अमेरिका में 100 मिलियन यानि कि 10 करोड़ उपयोगकर्ता हैं, लेकिन कंपनी पिछले कुछ महीनों से लगातार ट्रम्प प्रशासन के निशाने पर बनी हुई है।

राष्ट्रपति ट्रम्प ने 6 अगस्त को एक कार्यकारी आदेश जारी कर ByteDance को 45 दिनों के लिए अमेरिका में कोई भी लेनदेन करने से रोक (Transactions update) दिया था इसके बाद ट्रम्प ने 14 अगस्त को एक और कार्यकारी आदेश जारी कर बाइटडांस को 90 दिनों के भीतर अमेरिका में अपने टिकटॉक व्यापार को बेचने का विकल्प दिया था। (TikTok App) टिकटॉक ने पहले कार्यकारी आदेश के खिलाफ मुकदमा दायर कर दिया है. उसने कहा है कि वह ट्रम्प प्रशासन से दृढ़ता से असहमत है कि टिकटॉक राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा है। इतना ही नहीं कंपनी ने यह आरोप भी लगाया है कि "अमेरिकी प्रशासन उचित प्रक्रिया का पालन करने में विफल रहा।

Next Story