Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की RBI Board के साथ आज होगी अहम बैठक, केंद्रीय बजट के मुख्य बिंदुओं पर होगी चर्चा

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बजट के पश्चात होने वाली इस बैठक को संबोधित करेंगी। इस बैठक में वह केंद्रीय बजट 2021-22 के मुख्य बिंदुओं की रूपरेखा और राजकोषीय समेकन के रोडमैप पर भी चर्चा करेंगी।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की RBI Board के साथ आज होगी अहम बैठक, केंद्रीय बजट के मुख्य बिंदुओं पर होगी चर्चा
X

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की RBI Board के साथ आज होगी अहम बैठक

नई दिल्ली। एक फरवरी को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitaraman) ने केंद्रीय बजट 2021-22 (Budget 2021-22) पेश किया था। वहीं इसी को लेकर आज वित्त मंत्री की आरबीआई (RBI) के कंद्रीय बोर्ड के साथ बैठक होने जा रही है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण बजट के पश्चात होने वाली इस बैठक को संबोधित करेंगी। इस बैठक में वह केंद्रीय बजट 2021-22 के मुख्य बिंदुओं की रूपरेखा और राजकोषीय समेकन के रोडमैप पर भी चर्चा करेंगी। बता दें कि वित्त मंत्री ने 1 फरवरी को पेश किए गए 2021-22 के बजट में राजकोषी घाटा सकल घरेलू उत्पाद या जीडीपी के 6.8 प्रतिशत रहने का अनुमान लगाया है। वहीं इस घाटे को मार्च 2026 में समाप्त वित्त वर्ष तक 4.5 प्रतिशत पर लाने का लक्ष्य तय किया गया है।

गौरतलब है कि कोरोना महामारी के कारण प्रभावित चालू वित्त वर्ष में राजकोषीय घाटा सकल घरेलू उत्पाद के 9.5 प्रतिशत तक पहुंचने का अनुमान है। इसके साथ ही बजट में अगले वित्त वर्ष के दौरान 12 लाख करोड़ रुपये का बाजार से कर्ज जुटाने का लक्ष्य भी रखा गया है।

राजस्व में अगले साल 16.7 प्रतिशत की वृद्धि का अनुमान

इस महीने की शुरुआत में, आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा था कि केंद्रीय बैंक आगामी वित्त वर्ष के लिए "गैर-विघटनकारी" तरीके से सरकारी उधारों की उच्च मात्रा का प्रबंधन कर सकता है। उन्होंने ये भी कहा था कि केंद्रीय बैंक घरेलू बाजार से कर्ज जुटाने के सरकार के कार्यक्रम को देखेगा। बजट में अगले साल बाजार मूल्य पर सकल घरेलू उत्पाद की बढ़ोतरी दर 14.4% रहने का अनुमान लगाया गया है। बता दें की वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने राजस्व में अगले साल 16.7 प्रतिशत की वृद्धि का अनुमान लगाया है।

पहली बार वर्चुअली आयोजित होगी बैठक

एक न्यूज एजेंसी ने सूत्रों के हवाले से जानकारी दी है कि कोविड-19 प्रोटोकॉल की वजह से पहली बार यह बैठक वर्चुअली आयोजित होगी। इसके पहले इसी महीने भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा था कि अगले वित्त वर्ष में 12 लाख करोड़ रुपये की भारी उधारी को सहज तरीके से प्रबंधित करने में सक्षम है।

Next Story