Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोविड-19 की जल्द ही नहीं मिली दवाई तो इतने प्रतिशत घट जाएगी GDP, रिसर्च में किया गया दावा

कोरोना वायरस की दवाई आने में एक साल का समय भी लगता है तो देश की जीडीपी 7.5 प्रतिशत तक घट सकती है

कोविड-19 की जल्द ही नहीं मिली दवाई तो इतने प्रतिशत घट जाएगी GDP, रिसर्च में किया गया दावा
X

कोरोना वायरस के संक्रमण ने आते ही देश में तमाम लोगों नौकरी, छटनी और उद्योग बंद कराने से लेकर अर्थव्यवस्था को गहरी चोट पहुंचाई है, वहीं विशेष बताते हैं कि अगर जल्द ही कोरोना की दवाई जल्द ही नहीं बनी तो यह जीडीपी को और नीचे गिरा देगा। यह दावा हाल ही में वैश्विक ब्रोकिंग कंपनी बैंक ऑफ अमेरिका सिक्युरिटीज के अनुसार, यदि टीका आने में लंबा समय लगा तो भारतीय अर्थव्यवस्था 2020-21 में 7.5 प्रतिशत तक सिकुड़ने का अनुमान है।

हालांकि रिपोर्ट में दावा किया गया है कि परिस्थितियां यदि उम्मीद के अनुसार रहती हैं तो ब्रोकिंग कंपनी ने भारतीय अर्थव्यवस्था में 4 प्रतिशत गिरावट का अनुमान लगाया गया है। कंपनी के अर्थशास्त्रियों ने एक हफ्ते के भीतर ही देश की वास्तविक सकल घरेलू उत्पाद (GDP) वृद्धि को लेकर अपने अनुमान को संशोधित किया है। रिपोर्ट के अनुसार, देश में आर्थिक गतिविधियों में आयी गिरावट के चलते यदि उम्मीद के अनुरूप स्थिति रहती है। तब भी अर्थव्यवस्था 4 प्रतिशत सिकुड़ने का अनुमान है। हालांकि, इससे पहले कई विश्लेषकों ने भारतीय अर्थव्यवस्था में चालू वित्त वर्ष के दौरान 5 प्रतिशत तक गिरावट आने का अनुमान व्यक्त किया है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि कोरोना वायरस का टीका खोजा जाने को लेकर वैश्विक और घरेलू दोनों जगहों पर कई स्तरों पर प्रयास किए जा रहे हैं, लेकिन टीका तैयार होने को लेकर अभी तक किसी समयसीमा की घोषणा नहीं की गई है। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि यदि वैश्विक अर्थव्यवस्था को कोविड-19 के टीके का इंतजार एक साल तक करना पड़ता है तो देश की वास्तविक जीडीपी 7.5 प्रतिशत तक गिर सकती है।देश में आर्थिेक हालात को बेहतर बनाने के लिए 2020-21 में भारतीय रिजर्व बैंक नीतिगत दरों में दो प्रतिशत की और कटौती कर सकता है।

और पढ़ें
Next Story