Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

कोरोना काल और चाइनीज बॉयकोट से भारतीय खिलौना कारोबारियों की हुई बल्ले बल्ले, मार्केट में बढ़ी डिमांड

China से तनानती के बीच लोग खरीद रहे भारतीय खिलौने। इस से खिलौना निर्माताओं को हो रहा अच्छा मुनाफा।

कोरोना काल और चाइनीज बॉयकोट से भारतीय खिलौना कारोबारियों की हुई बल्ले बल्ले, मार्केट में बढ़ी डिमांड
X

कोरोना संक्रमण और चाइना से संघर्ष के बीच भारतीय खिलौना कारोबारियों की बल्ले बल्ले हो गई है। इसकी वजह कोरोना काल में स्कूलों के बंद होने के साथ ही इसका सकारात्मक असर खिलौना व्यापार पर पड़ा है। इसकी वजह खिलौना की डिमांड बढने के साथ ही चाइनीज खिलौनों की मांग का घटना है। इसका लाभ भी भारतीय खिलौना निर्माताओं को मिल रहा है। इसका दावा खुद द टॉय असोसिएशन ऑफ इंडिया' (TTAI) के अध्यक्ष अजय अग्रवाल ने किया है।

दरअसल टीटीएआई ने कहा कि चीन पर प्रतिबंध से (Chinese Toys) चाइनीज खिलौने मार्केट में नहीं आ पा रहे हैं। इसके साथ ही लोग भी (Chinese making items boycott) चाइनीज मेकिंग आइट्मस को कम महत्व दे रहा है। जिसका सीधा फायदा देसी खिलौना निर्माताओं को मिल रहा है। इस बीच खिलौनों की डिमांड भी हो रही है। बच्चों के घरों में रहने की वजह से (Indore Games) इनडोर गेम्स जैसे कैरम बोर्ड, बेडमिनटन, पजब, लूडो, चैस, और प्लास्टिक के खिलौनों की मांग ज्यादा आ रही है। अजय अग्रवाल ने कहा कि अब भारतीय खिलौना निर्माताओं ने अपने माल की क्वालिटी और प्रॉडक्शन बढ़ाने पर जोर देना शुरू कर दिया है। इससे डोमेस्टिक मार्केट में (Indian Trader's) इंडियन ट्रेडर्स का शेयर बढ़ेगा।

दिल्ली एनसीआर में खिलौनों की 1000 से ज्यादा यूनिट

TTAI के अध्यक्ष अजय अग्रवाल ने बताया कि दिल्ली एनसीआर में (Toy Production) खिलौनों से जुड़ी छोटी-बड़ी मिलाकर करीब 1000 यूनिट हैं। अगर सरकार सहयोग करेगी, तो (Toy Industry) खिलौना इंडस्ट्री में ही रोजगार के बड़े अवसर पैदा होंगे। यहां अकुशल मजदूरों को भी काम मिल सकता है। इसमें मशीनों से कम, हाथों से ज्यादा काम होता है। वहीं दिल्ली के बवाना, पटपड़गंज, यूपी में नोएडा, ग्रेटर नोएडा और हरियाणा में सोनीपत और फरीदाबाद में भी खिलौनों की फैक्ट्रियां हैं। जिसमें ज्यादातर सोफ्ट टॉय, वुडन टॉय और प्लास्टिक टॉय बनाये जाते हैं। वहीं योगी सरकार ने भी अब टॉय कारोबार को यूपी में विकसीत करने के लिए यमुना प्राधिकरण ने जमीन अलॉट करने का ऑफर दे दिया है। इतना ही नहीं यहां टॉय सिटी बसाने पर लगभग मोहर लग चुकी है।

Next Story