Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

AutoMobile सेक्टर में आई सबसे बड़ी मंदी, बस व कमर्शियल वाहनों की बिक्री में आई 78 प्रतिशत की गिरावट

वाहन उद्योग संगठन सियाम ने पेश किये वाहनों की बिक्री के अप्रैल से जून माह के आंकड़े, उद्योग में बड़ी मंदी का किया दावा। सरकान से वाहन उद्योग के लिए राहत पैकेज देने की उठाई मांग।

AutoMobile सेक्टर में आई सबसे बड़ी मंदी, बस व कमर्शियल वाहनों की बिक्री में आई 78 प्रतिशत की गिरावट
X

कोरोना वायरस महामारी से प्रभावित बाजार में चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही (अप्रैल- जून 2020) में यात्री वाहनों की बिक्री 78.43 प्रतिशत घटी है। यह लगातार नौवीं तिमाही रही है। जब वाहन बिक्री घटी है। वाहन उद्योग के संगठन सियाम ने मंगलवार को यह जानकारी देते हुये कहा पिछले 20 साल में उद्योग में मंदी का यह सबसे लंबा दौर है। सियाम के अनुसार, वाणिज्यिक वाहनों की बिक्री में 84.81 प्रतिशत की गिरावट आई है। वाणिज्यिक वाहनों के मामले में गिरावट की यह लगातार पांचवीं तिमाही रही है। इस वर्ग में भी पिछले 15 साल में इतनी लंबी सुस्ती कभी नहीं देखी गई।

सियाम के अनुसार, इस साल कोरोना काल और लॉकडाउनके बीच अप्रैल से जून 2020 में यात्री वाहनों की बिक्री 1,53,734 इकाई रही है। जबकि एक साल पहले इसी तिमाही में यह बिक्री 7,12,684 इकाई रही थी। इससे पहले पिछले 20 साल के दौरान यात्री वाहनों की बिक्री में गिरावट का सबसे लंबा सिलसिला पांच तिमाहियों का 2013- 14 और 2014- 15 के बीच तथा 2000- 01 से 2001- 2002 के बीच रहा था। इसी प्रकार वाणिज्यिक वाहनों के मामले में पहली तिमाही के दौरान बिक्री 31,636 इकाई रही है, जो कि एक साल पहले इसी अवध्णि में 2,08,310 इकाई रही थी। इससे पहले 2013- 14 से लेकर 2014- 15 के दौरान लगातार 8 तिमाहियों में बिक्री में गिरावट रही। सियाम के अध्यक्ष राजन वढ़ेरा ने वीडियो कन्फ्रेंसिंग के जरिये आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि कोरोना वायरस के कारण वर्तमान में हम बहुत मुश्किल दौर से गुजर रहे हैं। हम पिछले साल से ही मांग की कमी का सामना कर रहे थे, लेकिन इस तिमाही में कोविड- 19 के कारण कारोबार घटा है। यह वाहन उद्योग के लिये बहुत कठिन होने जा रहा है।

वढेरा ने कहा ने कहा कि सरकार को वाहन क्षेत्र के लिये एक मजबूत प्रोत्साहन पैकेज देने की जरूरत है। सरकार ने पूर्व के समय में आई मंदी के समय में किया। उन्होंने वाहन उद्योग की लंबे समय से लंबित मांग को दोहराते हुये कहा कि वाहन उद्योग के लिये माल एवं सेवाकर (जीएसटी) में सभी श्रेणियों के वाहनों के लिये 10 प्रतिशत कमी करनी चाहिये। इसके साथ ही इस क्षेत्र में मांग बढ़ाने के लिये प्रोत्साहन- आधारित कबाड़ योजना की शुरुआत करनी चाहिये। वढेरा ने एक सवाल के जवाब में कहा कि सियाम के सदस्यों ने उत्पादन कार्य तो शुरू कर दिया है, लेकिन उन्हें कई मामलों में मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। आपूर्ति श्रृंखला में अड़चनें हैं। कई कारखाने ऐसे स्थानों पर हैं। जहां कोविड- 19 के कारण प्रतिबंध लागू हैं। मजदूरों की कमी है। आयात माल की क्लीयिरंग में देरी हो रही है। कुछ सदस्यों के कारखानां के आसपास कोविड- 19 के मामले उभरे हैं। इससे भी परेशानी हुई है। जून माह में यात्री वाहनों की बिक्री एक साल पहले के इसी माह की तुलना में 49.59 प्रतिशत घटकर 1,05,617 कारों की रही।

पिछले साल जून में 2,09,522 यात्री वाहनों की बिक्री हुई थी। इस दौरान सबसे बड़ी कार कंपनी मारूति सुजूकी ने 51,274 कारें बेची जो कि एक साल पहले की तुलना में 49.61 प्रतिशत कम रही। हुंडई मोटर ने 21,320 कारें बेची जबकि महिन्द्रा एण्ड महिन्द्रा ने 8,075 वाहन बेचे। इनकी बिक्री में क्रमश 49.25 और 54.54 प्रतिशत की गिरावट रही। इस दौरान दुपहिया वाहनों की बिक्री 38.56 प्रतिशत घटकर 10,13,431 इकाई रही जो कि एक साल पहले इसी महीने में 16,49,475 रही थी। दुपहिया वाहनों में मोटरसाइकिल की बिक्री जून 2020 में 7,02,970 इकाई रही जबकि एक साल पहले इसी महीने में 10,84,596 मोटरसाइकिलें बेची गई थी। यह 35.19 प्रतिशत की गिरावट रही। स्कूटर बिक्री इस अवधि में 5,12,626 से घटकर 2,69,811 रह गई। यह गिरावट 47.37 प्रतिशत की रही।

और पढ़ें
Next Story