Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Changes from 1 October: 30 सितंबर से पहले निपटा लें ये 3 जरूरी काम, वरना बाद में पड़ेगा पछताना

महीने की अंतिम तारीख कुछ कामों की डेडलाइन (deadline) भी होती है, ऐसे में उनको निपटाना जरूरी हो जाता है। आज इस रिपोर्ट में हम आपको उन कामों के बारे में बताएंगे जिनको 30 सितंबर से पहले पूरा करना होगा।

Changes from 1 October: 30 सितंबर से पहले निपटा लें ये 3 जरूरी काम, वरना बाद में पड़ेगा पछताना
X

Rule Changes From 1st October 2022: अगले 8 दिन बाद सितंबर का महीना खत्म होने जा रहा है। महीने की अंतिम तारीख कुछ कामों की डेडलाइन (deadline) भी होती है, ऐसे में उनको निपटाना जरूरी हो जाता है। आज इस रिपोर्ट में हम आपको उन कामों के बारे में बताएंगे जिनको 30 सितंबर से पहले पूरा करना होगा।

1. अटल पेंशन योजना

सरकार की अटल पेंशन योजना में 1 अक्टूबर से बड़ा बदलाव होने जा रहा है। जारी नोटिस के मुताबिक, इनकम टैक्स भरने वाले टैक्सपेयर्स अक्टूबर महीने से योजना में निवेश नहीं कर पाएंगे। सरकार की इस पेंशन योजना में 18 से 40 साल की उम्र के बीच आने वाले नागरिक निवेश कर सकते हैं। योजना का लाभ उठाने के लिए 30 सितंबर 2022 से पहले रजिस्ट्रेशन करवाना होगा। योजना के तहत असंगठित क्षेत्र के कर्मचारियों को पेंशन की गारंटी दी जाती है।

2. डीमैट अकाउंट ऑथेंटिकेशन

अगर आपका डीमैट अकाउंट है तो आपको 30 सितंबर से पहले टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन (Two-Factor Authentication) इनेबल करना होगा। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) के एक सर्कुलर में कहा गया कि ऐसा नहीं करने पर अकाउंट होल्डर मैट अकाउंट को लॉग-इन नहीं कर पाएंगे। 1 अक्टूबर से डीमैट अकाउंट में लॉग-इन करने के लिए ऑथेंटिकेशन फैक्टर्स के एक रुप में बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन का इस्तेमाल करना होगा। बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन संभव नहीं होने पर पासवर्ड, पिन, ओटीपी, यूजर आईडी, सिक्योरिटी टोकन में से कोई एक हो सकता है।

3. क्रेडिट और डेबिट कार्ड के नियम

भारतीय रिजर्व बैंक 1 अक्टूबर से क्रेडिट और डेबिट कार्ड के नियमों में बदलाव करने जा रहा है। 30 सितंबर से पहले कार्ड होल्डर को ऑनलाइन, पॉइंट ऑफ सेल और इन-ऐप ट्रांजैक्शन के लिए अपनी कार्ड डिटेल्स को यूनीक टोकन के साथ बदलना होगा। ऐसा करने के बाद अगर ग्राहक अपने कार्ड से ऑनलाइन, पॉइंट ऑफ सेल या किसी ऐप पर ट्रांजैक्शन करता है तो कार्ड से संबंधित सभी डिटेल्स इनक्रिप्डेट कोर्ड में सेव होंगी। इसके बाद यूजर कार्ड डिटेल के बदले एक टोकन क्रिएट कर सकता है। आगे इसी टोकन के जरिए पेमेंट हो जाएगी। कार्ड टोकन को लाने का उद्देश्य कार्ड की डिटेल को टोकन में रिप्लेस करके ट्रांजैक्शन को सुरक्षित बनाने का प्रयास है।

और पढ़ें
Next Story