logo
Breaking

शुक्रवार विशेष: यदि आप भी करतीं हैं ''संतोषी माता'' व्रत, तो शाम की आरती में जरूर करें ये काम, मिलेगा धन-वैभव का वरदान

शुक्रवार का दिन माँ लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए सर्वश्रेष्ठ होता है। कहते हैं कि जो महिलाएं इस दिन संतोषी माता का व्रत रखतीं हैं, उन्हें शाम की आरती के बाद ये काम अवश्य करना चाहिए। ऐसा करने से माँ लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं और भक्त को धन वैभव का वरदान प्रदान करतीं हैं।

शुक्रवार विशेष: यदि आप भी करतीं हैं

शुक्रवार के माँ लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए शास्त्रों में कई उपाय और तरीके बताए गए हैं। धन प्राप्ति के लिए लोग लोग असंभव प्रयास करने से भी नहीं चूकते हैं। इन सभी प्रयासों में व्यक्ति को कोई ना कोई समस्या सामने आ ही जाती है।

शास्त्रों में धन प्राप्ति के लिए लक्ष्मी को प्रसन्न करना सबसे उत्तम तरीका माना गया है। शायद बहुत कम लोग ही धन प्राप्ति के लिए शास्त्रीय उपाय का सहारा लेते हैं।

जिन्हें भी हिन्दू धर्म का ज्ञान है उन्हें इस बात का ज्ञान है कि शास्त्रीय उपाय यदि सही तरीके से किया जाए तो इसका लाभ जरूर मिलता है। हम आपको ऐसे ही कुछ उपायों को बता रहे हैं जिसे शास्त्रों में भी अच्छा माना गया है।

इसे भी पढ़ें: ज्योतिष शास्त्र: 'शनि' से प्रभावित इन 4 राशियों के लिए बेहद खास है साल 2019, जानिए 'शनिदेव' किस राशि पर होंगे मेहरबान

शुक्रवार का दिन माँ लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए सार्वश्रेष्ठ होता है। इस दिन महा लक्ष्मी के मंत्र का विधि पूर्वक जाप किया जाए तो लक्ष्मी की कृपा सदैव बनी रहती है। इसके लिए आपको रोजाना एक मंत्र का जाप करना है।

लेकिन केवल मंत्र का उच्चारण करना ही काफी नहीं है, इसके साथ कुछ बातों का विशेष ख्याल भी रखना होगा। इस मंत्र का जाप करने पहले आपको सुबह सवेरे जागना चाहिए। स्नान कर पूजा के लिए बैठें और महालक्ष्मी का बीज मंत्र 'ॐ श्रीं श्रीये नम:' का 108 बार जाप करें।

इसे भी पढ़ें: मोक्षदायिनी एकादशी 2018: मोक्षदा एकादशी पर इस बार बन रहा है 'सिद्धि योग', सभी आर्थिक संकटों से मुक्ति पाने के लिए ऐसे करें व्रत

शाम को माता की आरती के बाद कन्याओं को भोजन:

मंत्र जाप पूरा करने के बाद मां लक्ष्मी को मिश्री और खीर का भोग लगाएं। फिर 7 वर्ष की आयु से कम की कन्याओं को श्रद्धापूर्वक भोजन कराएं। भोजन में खीर और मिश्री जरूर खिलाएं। यह कार्य आपको तब तक करना है जब तक आपकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं हो जाती है।

लेकिन इस बात का विशेष ध्यान रखना होगा कि कन्या भोजन और प्रसाद में मिश्री और खीर का प्रयोग अवश्य हो। इस उपाय लगातार तीन शुक्रवार करते हैं तो इसका प्रभाव विशेष तौर पर दिखेगा।

Share it
Top