logo
Breaking

Mahashivratri 2019 : ये है महाशिवरात्रि की सही व्रत विधि, शिव हो जाएंगे जल्द प्रसन्न, देंगे ये वरदान

महाशिवरात्रि इस साल 4 मार्च 2019 दिन सोमवार को मनाई जाएगी। हिन्दु शास्त्र में महाशिवरात्रि काफी महत्वपूर्ण त्योहार माना जाता है। फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को हर साल मनाया जाता है।

Mahashivratri 2019 : ये है महाशिवरात्रि की सही व्रत विधि, शिव हो जाएंगे जल्द प्रसन्न, देंगे ये वरदान
महाशिवरात्रि (Mahashivratri 2019) इस साल 4 मार्च 2019 दिन सोमवार (Monday) को मनाई जाएगी। हिन्दु शास्त्र में महाशिवरात्रि काफी महत्वपूर्ण त्योहार (Festival) माना जाता है। फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को हर साल मनाया जाता है। इस त्योहार को देवों के देव महादेव जिन्हें हम काफी नाम से पुकारते हैं जैसे शिव (Shiva), महादेव (Mahadev),बाबा भोलेनाथ (Baba Bholenath), बाबा बर्फानी (Baba Barfani), बाबा
अमरनाथ (Baba Amarnath)
, शिवशंकर (Shiv Shankar), भोलेशंकर (Bhole Shankar), शिवशम्भू (Shivshambhu), शिवजी (Shivji), नीलकंठ (Neelkanth), रूद्र (Rudhra) आदि।
इस दिन का सभी शिवभक्तों को काफी इंतजार रहता है। देशभर के शिव मंदिरों में भक्‍तों की भींड लगी रहती है। हर कोई शिवजी को प्रसन्न करने के लिए क्या कुछ नहीं करता है। शिव पुराण में शिव को शिव को सांसारिक सुख का आधार माना गया है। महाशिवरात्रि का व्रत सभी सांसारिक इच्छाओं की पूरी के लिए खास माना गया।
यहां हम आपको महाशिवरात्रि पर होने वाली पूजा विधि के बारे में बताने जा रहे हैं। अगर आप इस व्रत विधि से पूजा अर्चना करते हैं तो भोलेनाथ आप से जल्द प्रसंन हो जाएंगे और आपकों मन चाहा वरदान भी देंगे।

महाशिवरात्रि 2019 तिथि और शुभ मुहूर्त

जानकारी के लिए बता दें कि इस साल महाशिवरात्रि 4 मार्च 2019 को सायं 4 बजकर 28 मिनट से शुरु हो जाएगी। ये शुभ समय होगा। इस बार भोले बाबा का वार यानि सोमवार भी पड़ रहा है।
वहीं महाशिवरात्रि का व्रत नक्षत्र मगलवार 5 मार्च 2019 को होगा। इस बार ये अनोखा अद्भुत संयोग बन रहा है। जो कभी कभी मनुष्य के जीवन में देखने को मिलता है। हिंदू शास्त्रों के मुताबिक, इस दिन व्रत रख कर महादेव की पूजा अर्चना करने से कई गुना ज्‍यादा पुण्‍य प्राप्‍त होगा है।

हर महीने आती है शिवरात्रि

हिंदू पंचांग के मुताबिक, हर माह मासिक शिवरात्रि आती है। लेकिन साल में दो शिवरात्रि मनाई जाती है। एक फाल्गुन के महीने में तो दूसरा श्रावण मास में आती है। फाल्गुन माह में महाशिवरात्रि मनाई जाती है और श्रावण मास में शिवभक्त कावड़ लाकर भोले बाबा को प्रसन्न करते हैं।

महाशिवरात्रि व्रत विधि

1. गृहस्थ जीवन में रहने वालों को इस व्रत को रखना चाहिए। जिन लड़की लड़के की शादी नहीं हो रही है उन्हें भी व्रत रखना चाहिए।
2. पूजा के दौरान मिट्टी के लोटे में पानी या दूध भरकर और उसके साथ बेलपत्र, आक-धतूरे आदि शिवलिंग पर चढ़ाना चाहिए और बाबा को सच्चे मन से याद करना चाहिए।
3. इस दिन हर भक्त को शिव पुराण का पाठ, महामृत्युंजय मंत्र और शिव मंत्र का जाप करना चाहिए। ॐ नमः शिवाय का जाप करें।
4. इस दिन भक्त रात्रि के चारों प्रहरों में से अपनी सुविधानुसार भक्त पूजा कर सकते हैं।
Share it
Top