Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Jyeshtha Purnima 2019 : ज्येष्ठ पूर्णिमा उपाय में राशि के अनुसार भगवान शिव के मंत्र

Jyeshtha Purnima 2019 : ज्येष्ठ पूर्णिमा का पर्व (Jyeshtha Purnima Festival) साल 2019 में आज यानी 17 जून 2019 (17 June 2019) के दिन मनाया जाएगा। पूर्णिमा का विशेष महत्व (Punima Ka Mahtva) होता है। इस दिन दान और स्नान को अधिक महत्व (Daan or Snaan Ka Mahatva) दिया जाता है। लोग ज्येष्ठ पूर्णिमा पर गंगा पवित्र गंगा नदी में स्नान (Ganga Snaan) करते हैं और अपने पापों से मुक्त होते हैं। इसके बाद वह अपने सामर्थ्य के अनुसार दान भी करते हैं।क्योकि इस दिन दान करने से पितरों को भी उसका फल प्राप्त होता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि ज्येष्ठ पूर्णिमा (Jyeshtha Purnima) के दिन अगर आप अपने राशि के अनुसार भगवान शिव के मंत्रों (Bhgwan Shiv Ka Mantra) का जाप करते हैं। तो आपको इसका अत्यंत लाभ मिलेगा। राशि के अनुसार भगवान शिव के मंत्रों (Rashi Ka Anusar Bhagwan Shiv Ka Mantra) का जाप करने से न केवल आपको आर्थिक समृद्धि मिलेगी । बल्कि आपके घर में सुख और समृद्धि का भी वास होगा और अगर आप इन मंत्रों के बारे में नहीं जानते तो आज हम आपको इसके बारे में बताएंगे तो चलिए जानते हैं राशि के अनुसार भगवान शिव के मंत्रों के बारे में........

Jyeshtha Purnima 2019 : ज्येष्ठ पूर्णिमा उपाय में राशि के अनुसार भगवान शिव के मंत्र

Jyeshtha Purnima 2019 : ज्येष्ठ पूर्णिमा का पर्व (Jyeshtha Purnima Festival) साल 2019 में आज यानी 17 जून 2019 (17 June 2019) के दिन मनाया जाएगा। पूर्णिमा का विशेष महत्व (Punima Ka Mahtva) होता है। इस दिन दान और स्नान को अधिक महत्व (Daan or Snaan Ka Mahatva) दिया जाता है। लोग ज्येष्ठ पूर्णिमा पर गंगा पवित्र गंगा नदी में स्नान (Ganga Snaan) करते हैं और अपने पापों से मुक्त होते हैं। इसके बाद वह अपने सामर्थ्य के अनुसार दान भी करते हैं।क्योकि इस दिन दान करने से पितरों को भी उसका फल प्राप्त होता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि ज्येष्ठ पूर्णिमा (Jyeshtha Purnima) के दिन अगर आप अपने राशि के अनुसार भगवान शिव के मंत्रों (Bhgwan Shiv Ka Mantra) का जाप करते हैं। तो आपको इसका अत्यंत लाभ मिलेगा। राशि के अनुसार भगवान शिव के मंत्रों (Rashi Ka Anusar Bhagwan Shiv Ka Mantra) का जाप करने से न केवल आपको आर्थिक समृद्धि मिलेगी । बल्कि आपके घर में सुख और समृद्धि का भी वास होगा और अगर आप इन मंत्रों के बारे में नहीं जानते तो आज हम आपको इसके बारे में बताएंगे तो चलिए जानते हैं राशि के अनुसार भगवान शिव के मंत्रों के बारे में........


ज्येष्ठ पूर्णिमा पर राशि के अनुसार भगवान शिव के मंत्र (Jyeshtha Purnima Rashi Ka Anusar Bhagwan Shiv Ka Mantra)

मेष राशि

ॐ अघोरेभ्यो अथ घोरेभ्यो घोरघोरतरेभ्यः सर्वेभ्यः सर्वशर्वेभ्यो नमस्ते अस्तु रुद्ररूपेभ्यः

वृष राशि

ॐ शं शंकराय भवोद्धवाय शं ऊं नम:

मिथुन राशि

ॐ शिवाय नम: ऊं

कर्क राशि

ॐ शिवाय शं ऊं नम:

सिंह राशि

नमामि शमीशान निर्वाण रूपं

विभुं व्यापकं ब्रम्ह्वेद स्वरूपं

कन्या राशि

ॐ हौं जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः

ॐ त्र्यम्‍बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्

उर्वारुकमिव बन्‍धनान्

मृत्‍योर्मुक्षीय मामृतात्

ॐ स्वः भुवः भूः ॐ सः जूं हौं ॐ !!


तुला राशि

'ॐ शं भवोद्भवाय शं ॐ नमः'।।

वृश्चिक राशि

'निजं निर्गुणं निर्विकल्पं निरीहं। चिदाकाश माकाश वासं भजेऽहं'।।

धनु राशि-

ॐ ऐं ह्रीं क्लीं आं शं शंकराय मम सकल जन्मांतरार्जित पाप विध्वंसनाय श्रीमते।

आयुःप्रदाय, धनदाय, पुत्रदारादि सौख्य प्रदाय महेश्वराय ते नमः।

कष्टं घोर भयं वारय वारय पूर्णायुः वितर वितर मध्ये मा खण्डितं कुरु कुरु सर्वान् ।

कामान् पूरय पूरय शं आं क्लीं ह्रीं ऐं ॐसम संख्याम सावित्रीम् जपेत् ।

ॐ तत्पुरुषाय च विद्महे महादेवाय च धीमहि तन्नो रुद्र प्रचोदयात ।।3

मकर राशि

'ॐ शं विश्वरूपाय अनादि अनामय शं ॐ।।

कुंभ राशि

'ॐ क्लीं क्लीं क्लीं वृषभारूढ़ाय वामांगे गौरी कृताय क्लीं क्लीं क्लीं ॐ नमः शिवाय'।।

मीन राशि

'ॐ शं शं शिवाय शं शं कुरु कुरु ॐ'।।

Share it
Top