Breaking News
दिल्लीः आशीष पांडे ने पटियाला हाउस कोर्ट में सरेंडर कियामध्य प्रदेश: त्रिवेंद्रम राजधानी एक्सप्रेस से टकराया ट्रक, ड्राइवर की मौके पर दर्दनाक मौत- दो कोच पटरी से उतरेशर्मनाक! दो सगे भाईयों ने नाबालिग बहन को बनाया हवस का शिकार, 4 साल तक किया बलात्कारजम्मू-कश्मीर: पुलवामा में तहरीक-उल-मुजाहिदीन का आतंकी शौकत भट मारा गयाखुशखबरी : तेल कंपनियों ने घटाए दाम, पेट्रोल 21 पैसे और डीजल 11 पैसे हुआ सस्तानवरात्रि 2018 : आज देशभर में मनाई जा रही रामनवमी, मंदिरों में लगी भक्तों की भीड़केरल: कड़ी सुरक्षा के बीच खुले सबरीमाला मंदिर के कपाट, 10: 30 बजे तक होंगे दर्शन#MeToo: केंद्रीय विदेश राज्यमंत्री एमजे अकबर ने दिया इस्तीफा
Top

वास्तुशास्त्र: जेब में 'रूमाल' रखते वक्त भूलकर भी न करें ऐसी गलतियां, बिगड़ जाएंगे सभी बनते काम

टीम डिजिटल/हरिभूमि, दिल्ली | UPDATED Dec 7 2017 11:41AM IST
वास्तुशास्त्र: जेब में 'रूमाल' रखते वक्त भूलकर भी न करें ऐसी गलतियां, बिगड़ जाएंगे सभी बनते काम

जेब में रूमाल रखना हर किसी की जरुरत के साथ-साथ आवश्यकता भी होती है। यह बहुत कम लोगों को पता है कि जेब में रूमाल रखना भाग्य और दुर्भाग्य से भी जुड़ा है। शायद आपको पता हो कि रूमाल को मोड़ने के तरीका भी आपके भाग्य को बढ़ा या घटा सकता है। शास्त्रीय मान्यता के अनुसार हम आपको रूमाल से जुड़ी कुछ विशेष बातें बता रहे हैं।

ऐसे फोल्ड करें रूमाल 

ज्योतिष के अनुसार 4 अंक लक्ष्मी का अंक माना जाता है। साथ ही 6 को शुभता का प्रतीक माना जाता है। इसलिए रूमाल को मोड़ते समय यह ध्यान रखना चाहिए कि इसे केवल 4 या 6 फोल्ड में ही रखें। इसके अलावे रूमाल को जेब में रखते समय भूलकर भी 3 या 5 फोल्ड न करें। ऐसी विषम संख्याएं आपके बनते लाम भी बिगड़ेंगे।

इसे भी पढ़ें: स्वप्न शास्त्र: यदि सपने में दिखे ये 1 चीज, समझिए जीवन में बहुत मिलेगा प्यार

साथ ही जिस काम को पूरा करने के लिए घर से निकले हैं वो या तो सफल नहीं होंगे या उसमें नुक्सान ही होगा। इसके अलावे वास्तु शास्त्र की दृष्टि से भी पॉकेट या अपने साथ लेकर चलने वाले बैग में कभी भी गंदा रूमाल नहीं रखना चाहिए। यह आपकी पॉजिटिव एनर्जी के लिए सोख्ते का काम करता है और आप अपना कोई भी काम अच्छी तरह नहीं कर पाएंगे। 

ADS

(हमसे जुड़े रहने के लिए आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं )

ADS

मुख्य खबरें

ADS

ADS

Copyright @ 2017 Haribhoomi. All Right Reserved
Designed & Developed by 4C Plus Logo