logo
Breaking

Holi 2019 : जानें होली कब है 2019 में, होली दहन शुभ मुहूर्त और रंग लगाने का सही समय

Holi 2019: होली कब है 2019 में अगर आपको नहीं पता है तो आपको बता दें​ कि 20 मार्च को होली 2019 (holi 2019) है।

Holi 2019 : जानें होली कब है 2019 में, होली दहन शुभ मुहूर्त और रंग लगाने का सही समय
Holi 2019 Date: होली कब है 2019 (Holi Kab Hai) में अगर आपको नहीं पता है तो आपको बता दें​ कि 20 मार्च को होली 2019 (Holi 2019) है। होली भारत के प्रमुख त्योहारों (Holi Festivel) में से एक है। होली का पर्व फाल्गुन मास पूर्णिमा (Falgun Purnima 2019) के दिन मनाया जाता है। होली से एक दिन पहले होलिका दहन (Holika Dahan) होता है, जिसे बुरी आत्माओं के जलने के रूप में देखा जाता है, फिर इसके अगले दिन रंगों की होली आती है, जिसे हम जश्न के रूप में मनाते हैं। होली के दिन सभी लोग गले-शिकवे भूलकर एक दूसरे को होली की शुभकामनाएं (Happy Holi 2019) देते हैं।

होली 2019 मुहूर्त

होलिका दहन : 20 मार्च 2019
2019 होलिका दहन शुभ मुहूर्त
मुंबई में - 20:55 से 21:11 तक
दिल्ली में - 20:52 से 24:30 बजे तक
होली रंग : 21 मार्च 2019
होली 2019 में रंग लगाने का शुभ मुहूर्त
प्रातः 4 बजे से 8 बजे तक
उसके बाद : 11 बजे से 3:50
उसके बाद : शाम 5 बजे से 9: 30 बजे तक
होली 2019 मुहूर्त की बात करें तो यह सूर्यास्त से पहले होलिका दहन के अलाव करने के लिए अत्यधिक निषिद्ध है क्योंकि यह वास्तव में जीवन में बहुत दुर्भाग्य लाने का कारण नहीं हो सकता है। इसे सूर्यास्त के बाद ही पूर्णिमा तीथि पर एक विशेष समय पर किया जाना चाहिए। होलिका दहन का अनुष्ठान करने के लिए एक अच्छा मुहूर्त चुनना बहुत महत्वपूर्ण है। आदर्श रूप से यह प्रदोष काल पर किया जाना चाहिए जब रात और दिन एक दूसरे से मिलते हैं। भद्रा तीर्थ तक होलिका दहन की रस्म करना निषिद्ध है। इसके अलावा, भारत में पूरे राज्य में एक ही समय के लिए सटीक समय बदलता रहता है।

होली 2020 शुभ मुहूर्त

होलिका दहन : 09 मार्च 2020
2020 होलिका दहन शुभ मुहूर्त
मुंबई में - 18:30 से 19:58 तक उसके बाद 22:55 से 24:25 तक
दिल्ली में - 18:25 से 19:56 तक उसके बाद 22:59 से 24:31 तक
होली 2020 में रंग लगाने का शुभ मुहूर्त
प्रातः 4 बजे से 8 बजे तक
उसके बाद : 9:35 बजे से 11:03
उसके बाद : शाम 4 बजे से रात 8 बजे तक

होली 2021

होलिका दहन : 28 मार्च 2021
होली रंग : 29 मार्च 2021

होली का महत्व एवं होली की कथा

होलिका दहन के दिन, एक विशेष प्रकार की पूजा की जाती है ताकि बच्चों और परिवार के अन्य सदस्यों को स्वास्थ्य के लिए अच्छा रखा जा सके और उन्हें सभी प्रकार की बुराइयों से दूर रखा जा सके। होलिका दहन का उत्सव होलिका के स्मरण में किया जाता है। भक्त प्रह्लाद के पिता हिरण्यकश्यप अपने बेटे से बहुत नफरत करते थे इसी वजह से अपने दानव भाई की इच्छा को पूरा करने के प्रयास में बहन होलिका ने अग्नि में बैठकर प्रह्लाद को जलाने की कोशिश की क्योंकि वह भगवान विष्णु की पूजा करता था, न कि उसके भाई की। चूँकि उसके पास अग्नि से प्रभावित न होने का आशीर्वाद था इसलिए वह प्रहलाद के साथ अग्नि में बैठ गई। लेकिन, प्रहलाद की महान भक्ति के कारण, वह बच गया और होलिका जल गई। होली के दिन लोग एक-दूसरे पर रंगों की बौछार करके आनंद लेते हैं और रंग उत्सव मनाते हैं। साथ ही देश के विभिन्न हिस्सों में अलग-अलग तरह से और अलग-अलग नामों से होली मनाई जाती है।

वृंदावन और मथुरा में होली का उत्सव

वृंदावन में होली का उत्सव एक सप्ताह तक चलने वाला उत्सव है और इसकी शुरुआत फाल्गुन मास की अमावस्या से ही हो जाती है। आंवला एकादशी के दौरान सुबह 4 बजे वृंदावन में बांके बिहारी मंदिर में फूलों की बौछार से शुरू होती है।

लठमार होली

नंदगाँव और बरसाना गाँव में महिलाओं द्वारा पुरुषों को पीटने की परंपरा है, जो होली उत्सव से एक सप्ताह पहले निभाई जाती है। 2019 में लठमार होली:
बरसाना में - 16 मार्च 2019
नंदगाँव में - 17 मार्च 2019
Share it
Top