Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

Navratri 2019 : नवरात्रि पर जानिए गायत्री मंत्र जाप के लाभ

Gayatri Mantra Benefits शारदीय नवरात्रि का पर्व इस साल 2019 में 29 सितंबर 2019 से प्रारंभ हो रहा है, गायत्री मंत्र का जाप करने से मनुष्य को सूर्य ग्रह के शुभ परिणाम प्राप्त होते हैं, इस मंत्र का जाप करने से सूर्य की ऊर्जा मनुष्य के शरीर में समाहित हो जाती है, तो आइए जानते हैं नवरात्रि पर गायत्री मंत्र के जाप के अन्य लाभ

Navratri 2019 : नवरात्रि पर जानिए गायत्री मंत्र जाप के लाभNavratri 2019 Navratri Gayatri Mantra Benifits

Navratri 2019 नवरात्रि पर मंत्र जाप को विशेष महत्व दिया जाता है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि गायत्री मंत्र का जाप करने आपको अत्ंयत लाभ हो सकता है। गायत्री मंत्र बहुत ही सरल है और इसका जाप कोई भी व्यक्ति कर सकता है। नवरात्रि का पर्व (Navratri Festival) तो वैसे भी मंत्र जाप , हवन और पूजा के लिए होता है। यह वह समय होता है जब हमें किसी भी मंत्र का जाप करने पर कई गुना फल प्राप्त हो सकते हैं। इसलिए नवरात्रि पर गायत्री मंत्र का जाप (Navratri Per Gayatri Mantra Ka Jaap) अवश्य करना चाहिए तो आइए जानते हैं नवरात्रि पर गायत्री मंत्र के लाभ

इसे भी पढ़ें : Shardiya Navratri 2019: शारदीय नवरात्र कब है, घटस्थापना मुहूर्त, महत्व, पूजा विधि कथा, दुर्गा पूजा, नवमी, महानवमी और दशहरा की जानकारी


नवरात्रि पर गायत्री मंत्र के लाभ (Navratri Per Gayatri Mantra Ka Labh)

गायत्री मंत्र एक अत्यंत ही पवित्र मंत्र है। इसके रचयिता ऋषि विश्वामित्र है। इस मंत्र को पढ़ने और इसकी साधना करने का अधिकार बहुत ही सीमित है। कोई भी व्यक्ति इस मंत्र की साधना कर सकता है। इसके लिए उपनयन संस्कार किए जाने का विधान है।

जिसमें जातक को यज्ञोपवित पहनाया जाता है। यह यज्ञोपवित पहने वाले के चार अंगुल पर एक ही धागा 96 बार लपेटे जाने के बाद छह बार फिर से लपेटा जाता है। इस यज्ञोपवित को जातक अपनी दाई भुजा के नीचे धारण करता है।

गायत्री मंत्र सूर्यभोमिक होता है। यानी गायत्री मंत्र पढ़ने पर यह सूर्य की नाभि पर जाकर टकराता है और वापस आकर मनुष्य की देह में प्रवेश करता है। मनुष्य के अंदर इतनी क्षमता नहीं है कि वह सूर्य की ऊर्जा को अपने अंदर समाहित कर सके।

इसी कारण से यज्ञोपवित पहना जाता है। क्योंकि यज्ञोपवित सूर्य की ऊर्जा को अपने अंदर समाहित कर लेता है। गायत्री मंत्र के 24 हजार जाप करने से यह मंत्र सिद्ध हो जाता है। अगर आपको इस मंत्र की जाप संख्या बढ़ानी भी है तो 24 के अंतर मे ही बढ़ानी चाहिए।


इसे भी पढ़ें : Shardiya Navratri 2019 : सन्धि पूजा का शुभ मुहूर्त, महत्व, पूजा विधि कथा, मंत्र और मां चामुंडा की आरती

नवरात्रि में गायत्री का अनुष्ठान करने से मनुष्य को सूर्य के शुभ फल प्राप्त होते हैं। इस समय गायत्री मंत्र का जाप करने से स्वास्थय लाभ मिलता है। अगर आपको किसी रोग ने घेर रखा है तो वह भी इस समय में ठीक हो जाएगा। इस मंत्र का जाप करने से संतान, विद्या और प्रेम संबंध आदि का भी लाभ मिलता है।

इसके अलावा अगर आप नवरात्रि में गायत्री मंत्र का जाप करते हैं तो आपको मान- सम्मान, सरकारी क्षेत्र, नौकरी, व्यापार आदि सभी में सफलता प्राप्त होगी। इसलिए गायत्री मंत्र का जाप करना नवरात्रि में अति लाभप्रद है।

लेकिन नवरात्रि में उन लोगों को गायत्री मंत्र का बिल्कुल भी जाप नहीं करना चाहिए। जो लोग झूठ बोलते हों, दूसरों की निंदा करते है, प्याज लहसून और मांस मंदिरा का सेवन करते हों। इन लोगों के लिए गायत्री मंत्र का जाप निषेध माना गया है।

अगर ये लोग नवरात्रि मंत्र का जाप करते हैं तो इन्हें इसके नकारात्मक परिणाम प्राप्त होंगे। नवरात्रि में गायत्री मंत्र का जाप करने वाले व्यक्ति को फलाहार का सेवन करना चाहिए। यदि आपका काम फलाहार से नहीं चल रहा तो एक समय का भोजन करें। जब आपके गायत्री मंत्र के जाप पूरे हो जाएं तो आप 24 ब्राह्मणों को भोजन अवश्य कराएं।

Next Story
Share it
Top