Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

चन्द्र ग्रहण 2019: नए साल में इन 2 चन्द्र ग्रहणों का रखें विशेष ध्यान, नकारात्मक प्रभाव के घेरे में ये 2 राशियाँ

चन्द्र ग्रहण 2019: साल 2019 में दो चन्द्र ग्रहण लगने वाले हैं। ज्योतिष के जानकारों का मानना है कि नए साल में लगने वाला ये 2 चन्द्र ग्रहण भारत समेत विषय के अलग-अलग देशों के लिए बेहद खास होगा। साथ ही ये दो चन्द्र ग्रहण भारत के अलावा विश्व के अलग-अलग हिस्सों में दिखाई देगा।

चन्द्र ग्रहण 2019: नए साल में इन 2 चन्द्र ग्रहणों का रखें विशेष ध्यान, नकारात्मक प्रभाव के घेरे में ये 2 राशियाँ
X

चन्द्र ग्रहण 2019: साल 2019 में दो चन्द्र ग्रहण लगने वाले हैं। ज्योतिष के जानकारों का मानना है कि नए साल में लगने वाला ये 2 चन्द्र ग्रहण भारत समेत विषय के अलग-अलग देशों के लिए बेहद खास होगा। साथ ही ये दो चन्द्र ग्रहण भारत के अलावा विश्व के अलग-अलग हिस्सों में दिखाई देगा।

चन्द्र ग्रहण क्या है?

चन्द्र ग्रहण तब दिखाई देता हैं जब पृथ्वी और चन्द्रमा अपनी धुरी पर घूमते हुए ऐसी स्थिति में पहुँच जाते हैं कि पृथ्वी सूर्य व चन्द्रमा के बीच में आ जाती हैं।

जिसके कारण पृथ्वी अपनी छाया से चन्द्रमा को ढक लेती है और चन्द्रमा पर सूर्य का प्रकाश नही पहुँच पाता। इस समय हमें चन्द्रमा कुछ समय के लिए या तो दिखाई नही देता हैं या आंशिक रूप से दिखाई देता है।

इसे भी पढ़ें: अन्नपूर्णा जयंती 2018: ऐसे करें माँ अन्नपूर्णा की पूजा, जीवन में कभी नहीं होगी धन-धान्य की कमी

पहला चन्द्र ग्रहण: 21 जनवरी 2019 (सोमवार)

साल 2019 में पहला चन्द्र ग्रहण 21 जनवरी (सोमवार) को लगेगा। ज्योतिषाचार्य धनंजय पांडेय के अनुसार यह एक पूर्ण चन्द्र ग्रहण होगा। हालांकि यह भारत में नहीं दिखाई देगा इसलिए इसमें सूतक का पालन नहीं करना होगा।

यह चन्द्र ग्रहण भारतीय समयानुसार सुबह 09:03:54 से 12:20:39 तक बजे तक रहेगा। इस चन्द्र ग्रहण का प्रभाव अफ्रीका, यूरोप, उत्तरी और दक्षिण अमेरिका व मध्य प्रशांत क्षेत्र पर रहेगा। ज्योतिषियों के अनुसार यह ग्रहण कर्क राशि और पुष्य नक्षत्र में लगेगा।

दूसरा चन्द्र ग्रहण: 16 जुलाई 2019 (मंगलवार)

साल 2019 में दूसरा चन्द्र ग्रहण 16 जुलाई (मंगलवार) को लगेगा। यह एक आंशिक चन्द्र ग्रहण होगा लेकिन इसमें सूतक मान्य होगा, क्योंकि यह भारत में भी दिखाई देगा। भारतीय समयानुसार यह आधी रात को 01:31:43 से लेकर 04:29:39 तक दिखाई देगा।

इसे भी पढ़ें: सावधान! इन 4 राशियों के लिए 'शनि' बुन रहे हैं 'मकड़जाल', इन राशियों के जातकों को 'शनिदेव' बनाएंगे मालामाल

इसका प्रभाव भारत समेत एशिया, यूरोप, ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका और दक्षिण अमेरिका में दिखाई देगा। इस ग्रहण का प्रभाव धनु व मकर राशि पर होगा। सूतक का समय 16 जुलाई दोपहर 03:55 से लेकर 17 जुलाई सुबह 04:30 बजे तक रहेगा।

धनु और मकर राशि रहें सावधान

इस ग्रहण के समय धनु और मकर राशि के जातकों के जीवन में कुछ बदलाव आ सकते हैं। किसी भी प्रकार के नकारात्मक प्रभावों से बचने के लिए इन राशि के जातकों को ग्रहण के समय लगातार चंद्र देव व विष्णु जी का ध्यान करना चाहिए एवं ग्रहण के नियमों का पालन करना चाहिए।

क्या होता है सूतक?

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार सूतक वहां लगता है जहां पर ग्रहण लगता है। यह ग्रहण लगने से पहले शुरू होता है और ग्रहण के समाप्त होने के साथ ही खत्म हो जाता है। ज्योतिषियों के अनुसार, इस समय आपको ज्यादा सावधानी बरतने की आवश्यकता होती हैं।

खासकर गर्भवती महिलाओं को इस समय बाहर निकलने की मनाही होती है तो वहीं बुजुर्गो, बच्चों और किसी बीमारी से पीड़ित व्यक्तियों को ग्रहण से पहले या बाद में ही खाना खाने की सलाह दी जाती है।

इसे भी पढ़ें: ज्योतिष शास्त्र: नए साल 2019 में इन राशियों के हाथ लगेगी बहुत बड़ी सफलता, इन्हें करनी होगी कड़ी मशक्कत

ग्रहण के दौरान क्या करें?

ग्रहण के शुरू होने से पहले व बाद में स्नान करें। ग्रहण के दौरान पृथ्वी पर नकारात्मक उर्जा पड़ती हैं इसलिये इस समय ईश्वर की अराधना करें और 'ॐ नम: शिवाय' का जाप करें। पानी और भोजन में तुलसी का पत्ता डालकर रखें।

ग्रहण के दौरान क्या ना करें?

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार ग्रहण के दौरान भोजन ना करें और अंधेरे में सुई का प्रयोग करने से बचें। नग्न आखों से ग्रहण बिल्कुल ना देखें क्योंकि इससे आपकी आँखों पर असर पड़ सकता हैं। सब्जियों को भी ना काटे और सोने से परहेज करें।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story