Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Chaitra Navratri 2020 Festival : लॉकडाउन में इस विधि से करें कन्या पूजन और पूर्ण करें अपना नवरात्रि का व्रत

Chaitra Navratri 2020 Festival : चैत्र नवरात्रि (Chaitra Navratri)के अंतिम दिन कन्या पूजन (Kanya Pujan) किया जाता है, लेकिन इस बार कोरोना वॉयरस की वजह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने 14 अप्रैल तक देश में लॉकडाउन कर दिया है, जिसकी वजह से इस बार कन्या पूजन कर पाना संभव नहीं है, लेकिन आज हम आपको ऐसी विधि बताने जा रहे हैं, जिससे आप कन्या पूजन का पूर्ण लाभ प्राप्त कर सकते है।

Chaitra Navratri  2020 Festival : लॉकडाउन में इस विधि से करें कन्या पूजन और पूर्ण करें अपना नवरात्रि का व्रत

Chaitra Navratri 2020 Festival : चैत्र नवरात्रि के अंतिम नवरात्र पर कन्या पूजन करके नवरात्र का व्रत (Navratri Vrat) पूर्ण किया जाता है। नवरात्रि की पूजा (Navratri Puja) बिना कन्या पूजन के पूर्ण नहीं माना जाता है। लेकिन इस बार लॉकडाउन में कन्या पूजन करना संभव नही है। इसलिए आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि आप किस प्रकार से बिना कन्या पूजन के ही नवरात्र का व्रत पूर्ण कर सकते हैं।

लॉकडाउन में कन्या पूजन विधि (Lockdown Mein Kanya Pujan Vidhi)

1.चैत्र नवरात्रि में सुबह प्रात: काल जल्दी उठकर स्नान करना चाहिए और साफ वस्त्र धारण करने चाहिए।

2. नवरात्रि के प्रसाद में विशेष रूप से हलुआ, चना, पूड़ी, खीर आदि बनाई जाती है।

3. इसके बाद मां दुर्गा की उसी प्रकार से पूजा करें जैसे आप पूरे नवरात्र में कर रहे थे और इसके बाद भोजन में से नौ जगह प्रसाद का भोजन निकाल दें।

4.जब आप प्रसाद का भोजन निकाल लें तो अपने घर की कन्या को ही माता का रूप मानें और उसका पूजन करें।

5. यदि आपके घर में कोई कन्या न हो तो आप मां दुर्गा का कन्या के रूप में स्मरण करें और यह समझें की आप नौ कन्याओं को ही भोजन करा रहे हैं।


6.इसके बाद उस भोजन को गाय को खिला दें और उसके बाद गाय का आशीर्वाद अवश्य लें।

7. आप चाहें तो इस भोजन को किसी गरीब व्यक्ति को भी दान में दे सकते हैं ।

8. इसके अलावा आप भोजन की जगह कुछ दक्षिणा रखकर भी गरीब व्यक्तियों को दे सकते हैं।

9. जब आप कन्या पूजन की इस विधि को पूरा कर लें तो मां दुर्गा से आगे हाथ जोड़कर प्रार्थना करें की आपका यह पूजन संपूर्ण हो।

10.अंत में आप मां दुर्गा से पूजा में हुई किसी भी भूल के लिए क्षमा याचना अवश्य करें।

Next Story
Top