Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Vishwakarma Puja 2021: विश्वकर्मा जयंती की तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और जानें इसके नियम

Vishwakarma Puja 2021: विश्वकर्मा पूजा साल 2021, 16 या 17 सितंबर, जानें पूजा की सही तिथि और पूजा का शुभ मुहूर्त तथा इस दिन भूलकर भी ना करें ये एक काम।

Vishwakarma Puja 2021:  विश्वकर्मा जयंती की तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और जानें इसके नियम
X

Vishwakarma Puja 2021: विश्वकर्मा जयंती की तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और जानें इसके नियम

Vishwakarma Puja 2021: विश्वकर्मा पूजा हर साल कन्या संक्रांति के दिन मनायी जाती है। पौराणिक कथाओं के अनुसार, इस दिन भगवान विश्वकर्मा जी का जन्म हुआ था। इसीलिए इसे विश्वकर्मा जयंती भी कहते हैं। इस दिन कारखानों और फैक्ट्रियों में औजारों की पूजा की जाती है। इस दिन विधि विधान से भगवान विश्वकर्मा की पूजा करने से व्यापार में में बढ़ोत्तरी और मुनाफा होता है। तो आइए जानते हैं साल 2021 में विश्वकर्मा जयंती की शुभ तिथि, पूजा का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और इस दिन कौन से नियमों का पालन करना चाहिए।

ये भी पढ़ें : Teja Dashmi 2021 : तेजा दशमी कब है, क्यों मनाई जाती है, जानें इसकी लोक कथा

विश्वकर्मा पूजा तिथि और शुभ मुहूर्त 2021

  • साल 2021 में विश्वकर्मा पूजा 17 सितंबर, दिन शुक्रवार को की जाएगी।
  • 17 सितंबर को सुबह 01 बजकर 29 मिनट पर कन्या संक्रांति का क्षण होगा।
  • विश्वकर्मा पूजा के समय राहुकाल का ध्यान रखना होता है, राहुकाल के समय पूजा नहीं करनी चाहिए।
  • विश्वकर्मा पूजा का शुभ मुहूर्त 17 सितंबर सुबह 01 बजकर 29 मिनट पर ही होगा।
  • कन्या संक्रांति पुण्यकाल का समय सुबह 06 बजकर 07 मिनट से दोपहर 12 बजकर 15 मिनट तक रहेगा।
  • कन्या संक्रांति महापुण्य काल का समय सुबह 06 बजकर 07 मिनट से सुबह 08 बजकर 10 मिनट तक रहेगा।

विश्वकर्मा पूजा विधि

विश्वकर्मा पूजा के दिन सबसे स्नान कर भगवान विश्वकर्मा जी का ध्यान करें और पूजा के लिए पूजास्थल पर साबुत चावल, फल-फूल, रोली, सुपारी, धूप, दीपक, रक्षा सूत्र, दही, मिठाई, औजार, बही-खाते, आभूषण और एक कलश पूजास्थल पर स्थापित करें।

अब वहां पर अष्टदल रंगोली बनाएं और रंगोली पर भगवान विश्वकर्मा जी की तस्वीर स्थापित करें अब दीपक जलाकर आरती करें। इसके बाद बाद उन्हें सभी पूजन सामग्री अर्पण करें, इसके बाद भगवान विश्वकर्मा जी के मंत्रों का जाप करें और भगवान को भोग लगाएं और अंत में कार्यस्थल पर सभी औजारों और मशीनों की पूजा कर प्रसाद वितरित करें।

विश्वकर्मा पूजा पर क्या ना करें

  • प्रत्यके व्रत-त्योहारों की तरह ही विश्वकर्मा पूजा के भी कुछ नियम बताए गए हैं। इसीलिए इस पूजा के समय कुछ नियमों और बातों का खास ख्याल रखना चाहिए।
  • विश्वकर्मा पूजा के दिन प्रात:काल जल्दी उठकर स्नान के बाद भगवान विश्वकर्मा की पूजा करनी चाहिए।
  • अगर आप किसी प्रकार के औजारों की कंपनी के मालिक हैं तो इस दिन औजारों की साफ-सफाई कर उनकी पूजा जरुर करें।
  • विश्वकर्मा पूजा के दिन अपनी गाड़ियों को साफ कर उनकी पूजा करें।
  • अगर आप मशीन से जुड़ा कोई काम करते हैं तो विश्वकर्मा पूजा के दिन मशीनों का प्रयोग ना करें।
  • विश्वकर्मा पूजा के दिन तामसिक भोजन ग्रहण करने से परहेज करना चाहिए।
  • अपने व्यापार की वृद्धि के लिए आपको विश्वकर्मा पूजा के दिन किसी जरुरतमंद निर्धन व्यक्ति और ब्राह्मणों को दान अवश्य देना चाहिए।

(Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi.com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Next Story