Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Vastu Shastra : जानें, शुद्ध चांदी का कड़ा पहनने के फायदे और नियम

  • हाथ में कड़ा पहनना आजकल फैशन में है।
  • सभी लोग सोना-चांदी या अन्य धातुओं के कड़े पहनने का काफी शौक रखते हैं।
  • चांदी का कड़ा पहनने से चंद्रमा और शुक्र दोनों ही ग्रह मजबूत होते हैं।

Vastu Shastra : जानें, शुद्ध चांदी का कड़ा पहनने के फायदे और नियम
X

Vastu Shastra : हाथ में कड़ा पहनना आजकल फैशन में है। लकड़ा हो या लड़की सोना-चांदी या अन्य धातुओं के कड़े पहनने का काफी शौक रखते हैं, लेकिन शायद बहुत कम ही लोगों को इसके फायदे के बारे में पता होगा। तो आइए जानते हैं कि आपको कड़ा क्यों पहनना चाहिए, किस हाथ में पहनें और इसके क्या-क्या फायदे हैं।

ये भी पढ़ें : Gochar 2021 : अमृत संजीवनी के मालिक शुक्र आज करेंगे वृषभ में प्रवेश, जानें किन राशि के जातकों का आने वाला है बुरा समय

चांदी का कड़ा पहनने से चंद्रमा और शुक्र दोनों ही ग्रह मजबूत होते हैं। इनके मजबूत होने से व्यक्ति के जीवन में सुख-समृद्धि का आगमन होता है। चांदी भगवान शिव के नेत्रों से उत्पन्न हुई है। चांदी शरीर के जल तत्व और कफ को नियंत्रित करती है। इसलिए चांदी का कड़ा जरुर धारण करना चाहिए।

हिन्दू धर्म और ज्योतिष शास्त्र में चंद्रमा को मन का कारक ग्रह माना जाता है। यह मन को चंचल रखता है और चांदी को चंद्रमा की धातु माना जाता है। इसलिए ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, चांदी का कड़ा कलाई में पहनने से कई बीमारियां दूर हो जाती हैं। इसके साथ ही चंद्रमा ग्रह से जुड़े हुए जितने भी दोष हैं उन्हें यह कड़ा धारण करने पर समाप्त करता है और एकाग्रता लाकर मन को चंचल होने से बचाता है। कहते हैं कि जो व्यक्ति अपने हाथों में चांदी का कड़ा पहनते हैं उनपर लक्ष्मी माता की बहुत कृपा होती है। उन्हें धन की कभी भी कमी नहीं होती है।

ये भी पढ़ें : Kamrup Vidhya : जानें, पूजा के दौरान दीपक की लो में फूल बनने का ये मतलब

सोमवार के दिन अपने सीधे हाथ में चांदी का कड़ा पहनने से व्यक्ति को मानसिक तनाव कभी भी नहीं होता है और उसके ऊपर जितने भी ग्रह दोष होते हैं वे सब समाप्त हो जाते हैं।

चांदी का कड़ा किसी भी राशि को हानि नहीं पहुंचाता। क्योंकि चांदी हमेशा ठंडक ही प्रदान करती है। जो व्यक्ति बार-बार बीमार हो जाता है उसको सीधे हाथ में चांदी का कड़ा पहनना चाहिए। वहीं बीमार व्यक्ति को चांदी का कड़ा धारण करने से पहले कुछ चीजों का ध्यान रखना चाहिए।

इसके लिए कड़ा शुक्रवार के दिन बनवाएं और सोमवार को कड़े को लेकर भगवान शिव के मंदिर जाएं। तथा कड़े को भगवान शिव की प्रतिमा अथवा शिवलिंग के पास रखें और उस पर थोड़ा सा सिन्दूर लगा दें। इसके बाद सोमवार के दिन ही शाम के समय उस कड़े को व्यक्ति को पहना दें अथवा वह स्वयं पहन लें। इससे आपको अच्छे परिणाम मिलने लगेंगे। कड़े को पहनने से अनेक प्रकार के फायदे आपको मिलेंगे और साथ ही आपको चंद्रमा और शुक्र ग्रहों से संबंधित शुभ फल भी प्राप्त होंगे।

(Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi।com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Next Story