Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Surya Grahan 2021 : सूर्य ग्रहण के दौरान रहें सतर्क, जानें ये चार राशियां होंगी मालामाल

  • जानें, किन राशियों के लिए उपयुक्त फल देगा सूर्य ग्रहण
  • जानें, सूर्य ग्रहण के दौरान क्या करना चाहिए।
  • जानें, साल में कितने ग्रहण लगेंगे।

Surya Grahan 2021 : सूर्य ग्रहण के दौरान रहें सतर्क, जानें ये चार राशियां होंगी मालामाल
X

Surya Grahan 2021 Effect on Rashi : इस साल यानी साल 2021 में कुल चार ग्रहण लगेंगे। जिसमें दो सूर्य ग्रहण और दो चंद्र ग्रहण होंगे। इस बार 10 जून को यानी कल साल का पहला सूर्य ग्रहण जोकि इस साल का दूसरा ग्रहण है वो लगने वाला है। आपको बता दें कि इस साल ग्रहण काल में कुछ इस तरह का योग निकल कर आ रहा है जिससे साल 2021 में कड़े प्रभावों में बदलाव आना भी शुरू हो जाएगा। इसीलिए ये ग्रहण बहुत ही खास है। क्योंकि आप सभी लोग जानते हैं कि ये साल भी पिछले साल यानी साल 2020 की तरह ही बहुत भारी साल है। इस दौरान बहुत बुरे प्रभाव सभी को झेलने पड़े, लेकिन ज्योतिष की नजर से देखें तो ये ग्रहण अपने साथ राहत की उम्मीद लेकर आ रहा है। क्योंकि इस साल ग्रहण बहुत ही ज्यादा भयंकर प्रभाव ला रहा है। अगर सावधानी ना बरती जाए तो शुभ प्रभाव की जगह आप पर इसका बुरा प्रभाव पड़ सकता है। इसीलिए आप सतर्क रहकर किसी भी तरह की लापरवाही ना बरतें और किसी भी तरह की ढील ना करें। क्योंकि 26 मई को लगने वाले चंद्र ग्रहण के ठीक 15 दिन बाद यानी कि 10 जून को सूर्य ग्रहण लगने वाला है और जब कभी भी 15 दिन के भीतर दो ग्रहण लगत हैं तो ऐसे में किसी भी तरह की ढील देना अथवा लापरवाही बरतना आपके लिए बहुत भारी पड़ सकता है। ग्रहण में आपको क्या सावधानियां बरतनी हैं, जैसे सूतक काल के लगने से ही आपको ग्रहण से संबंधित कई सावधानियां बरतना शुरू हो जाती हैं। सूतक में खाने की चीजों में तुलसीदल रखना चाहिए। वहीं ग्रहण में गर्भवती महिलाओं को विशेष सावधानी रखनी चाहिए। ग्रहण काल में पूजास्थल के दरवाजे बंद कर दिए जाते हैं। ताकी ग्रहण का बुरा असर भगवान पर ना पड़े। ग्रहण के अशुभ असर से बचने के लिए ग्रहण काल के दौरान महामृत्युंजय मंत्र का जप करना चाहिए अथवा सुनना चाहिए। ग्रहण काल के बाद जरुरतमंद लोगों को जरुरत की चीजें या अनाज दान करना चाहिए। इससे ग्रहण के बुरे प्रभाव में कमी आती है। ग्रहण काल में भगवान श्रीकृष्ण के मंत्रों या उनके नाम का जप जरुर करना चाहिए। तो आइए जानते हैं राशि पर ग्रहण का क्या असर होने वाला है।

ये भी पढ़ें : Karwa chauth 2021 : करवा चौथ व्रत कब है, जानें इसका महत्व


मिथुन

मिथुन राशि पर सूर्य ग्रहण के प्रभाव की बात करें तो सूर्य ग्रहण आपकी राशि में छठे स्थान पर लगने जा रहा है तो इस दौरान शत्रु आपको परेशान करने के कोशिश करेंगे, लेकिन आप उलझनों और परेशानियों के बाद भी शत्रुओं पर विजय प्राप्त करेंगे। आप अपनी समस्याओं को धैर्य और समझ के साथ सुलझाएंगे और सफल होंगे। आर्थिक मामलों में आपकी स्थिति ज्यादा मजबूत तो नहीं बनेगी, लेकिन आर्थिक लाभ के योग जरुर बनेंगे और रोजगार व नौकरी प्राप्त करने में सफल होंगे। कार्यक्षेत्र में किए गए कार्य से भी आपको लाभ मिलेगा और आपकी स्थिति संतुलित बनी रहेगी।

ये भी पढ़ें : Vat Savitri Vrat 2021 : वट सावित्री व्रत किन 5 चीजों के बिना अधूरा है, जानें...


कर्क

सूर्य ग्रहण आपकी राशि में पांचवे स्थान पर लगने जा रहा है। ग्रहण के दौरान प्रेम के कारक शुक्र सूर्य के साथ मौजूद रहेंगे। ऐसे में आपकी लव लाइफ तो आपको थोड़ी प्रभावित कर सकती है, लेकिन आप एक अच्छे कलाकार के तौर पर साबित होंगे और अतीत की समस्याओं से आपको मुक्ति मिलेगी। ये समय उन लोगों के लिए सही रहेगा जो लोग नौकरी कर रहे हैं। आपकी आमदनी बढ़ने के योग बन रहे हैं। संतान की शिक्षा में आपको थोड़ा स्टर्गल करना पड़ सकता है। आर्थिक तौर पर ये ग्रहण आपके लिए सामान्य से बेहतर ही रहने वाला है।


कन्या

कन्या राशि पर सूर्य ग्रहण तीसरे स्थान पर लगने वाला है। भाई-बहन के लिए यह ग्रहण थोड़ा अच्छा नहीं रहेगा। उन्हें लेकर थोड़ी चिंता व परेशानी हो सकती है। खासतौर पर बड़े भाई से तालमेल बनाकर रखें। क्योंकि उनसे कहासुनी की आशंका है, लेकिन अच्छी बात ये रहेगी कि सूर्य ग्रहण नौकरी और व्यवसाय वालों के लिए बहुत ही अच्छा मौका लेकर आ रहा है। आपको बहुत ज्यादा परेशानी नहीं आएगी। परन्तु आप एक बात का खासतौर पर ध्यान रखें कि आपकी वाणी प्रभावुकता पर संयम जरुर रखें। अगर आपने वाणी पर नियंत्रण कर लिया तो आप फायदे में रहेंगे।


कुंभ

सूर्य ग्रहण आपकी राशि में 10वें स्थान पर लगने जा रहा है। इस दौरान आपको विदेश से अच्छी खबर सुनने को मिल सकती है, लेकिन आप नई परियोजनाओं को शुरू करने से बचें। वित्तीय मामलों में भी आपको निर्णय लेने से पहले उचित समय ले लेना चाहिए। आप कहीं पर भी निवेश ऐसे ही ना करें। काम के सिलसिले में किए गए प्रयास सफल होंगे और कार्यक्षेत्र में पद वृद्धि भी होगी जिससे भविष्य की योजनाओं को मजबूती भी मिलेगी, लेकिन मन किसी अनजान डर से परेशान रहेगा। इसलिए आप धर्मकर्म के कार्यों में मन लगाइए।

(Disclaimer: इस स्टोरी में दी गई सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं। Haribhoomi.com इनकी पुष्टि नहीं करता है। इन तथ्यों को अमल में लाने से पहले संबधित विशेषज्ञ से संपर्क करें)

Next Story