Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

Sunday Special: मंगल ग्रह की अशुभ स्थिति खराब कर देती है संबंध, तलाक की आ जाती है नौबत

Sunday Special: सौर्य मंडल में मंगल का अपना स्थान है मंगल ग्रह धरती को शनि राहु और केतु के बुरे प्रभाव के लिए से भी बताता है मंगल को ग्रहों का सेनापति माना जाता है।

Gochar 2021: सर्वार्थ सिद्धि और अमृत सिद्धि योग में किया देवगुरु बृहस्पति ने राशि परिवर्तन, जानें इसके लाभ, प्रभाव और उपाय
X

Sunday Special: सौर्य मंडल में मंगल का अपना स्थान है मंगल ग्रह धरती को शनि राहु और केतु के बुरे प्रभाव के लिए से भी बताता है मंगल को ग्रहों का सेनापति माना जाता है। शक्ति ऊर्जा आत्मविश्वास पराक्रम का स्वामी है। इसका मुख्य रंग लाल होता है और मेष और वृश्चिक इसका अधिक प्रभाव होता है।

मंगल मकर राशि में सबसे ज्यादा मजबूत होता है कर्क राशि में सबसे ज्यादा कमजोर होता है। विवाह के समय कुंडली में मंगल की स्थिति को खासतौर पर देखा जाता है। यदि मंगल शुभ स्थिति में हो तो जीवन मंगलमय हो जाता है और अगर मंगल अशुभ हो तो जीवन में कई प्रकार की परेशानियां पैदा कर देता है।

खासकर वैवाहिक जीवन में और प्रेम संबन्धों में मंगल की अशुभ स्थितियों से पति-पत्नी के बीच कलह पैदा कर देती है, क्योंकि मंगल को उग्र ग्रह माना गया है. ऐसे में कई बार तलाक की होनी की संभावना बन जाती है।

मंगल के अशुभ स्थिति के प्रभाव

शादी विवाह में रुकावटें आती है शादी टूट भी जाती है।

इससे पति पत्नी के बीच अहम के टकराव के चलते झगड़ा तलाक तक पहुंच जाता है।

भूमि संबंधी कार्य में नुकसान हो सकता है मकान बनाने में परेशानियां आती हैं। कर्ज और मुकदमे बाजी लगी रहती है

अगर मंगल अशुभ हो तो कभी-कभी जेल के भी दर्शन हो जाते हैं

रक्त संबन्धी बीमारी और समस्याएं हो सकती हैं।

Next Story